Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

कलेक्टर ने नशा मुक्त भारत अभियान अंतर्गत हो रही गतिविधियों की समीक्षा की, स्कूलों और कॉलेजों में अभियान चलाकर नशा मुक्त दुर्ग के लिए किया जाएगा जागरूक -नशा मुक्ति में समाज की सहभागिता सुनिश्चित करने किए जाएंगे आयोजन

 दुर्ग (छ.ग.)          दुर्ग, कलेक्टर सुश्री ऋचा प्रकाश चौधरी की अध्यक्षता में आज कलेक्टोरेट सभाकक्ष में नशा मुक्त भारत अभियान योजना की जिला...

Also Read

 दुर्ग (छ.ग.)



         दुर्ग, कलेक्टर सुश्री ऋचा प्रकाश चौधरी की अध्यक्षता में आज कलेक्टोरेट सभाकक्ष में नशा मुक्त भारत अभियान योजना की जिलास्तरीय बैठक आयोजित की गई। बैठक में कलेक्टर ने जिले में नशे संबंधित होने वाली गतिविधियों की गहन समीक्षा की। 

        बैठक में उन्होंने नशा मुक्त भारत अभियान (एन.एम.बी.ए.) के बैनर तले युवाओं, बच्चों, शैक्षणिक संस्थानों, महिलाओं और जन समुदाय की भागीदारी के साथ मादक द्रव्यों के सेवन की रोकथाम हेतु कार्ययोजना बनाने निर्देशित किया। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ते मादक द्रव्यों के सेवन की रोकथाम के लिए सभी एसडीएम को अपने अपने विकासखण्ड में हॉटस्पॉट का चिन्हांकन कर लगातार मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा स्कूल व कॉलेजों में निरंतर अभियान चलाए जाए व शिक्षकों द्वारा नशा मुक्ति पर विशेष प्रशिक्षण दिया जाए ताकि अधिक से अधिक युवाओं को मादक द्रव्यों के सेवन से होने वाले नुकसान के बारे में जागरूक कर उन्हें रोका जा सके। कलेक्टर ने जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि 21 जून को योगा दिवस के अवसर पर स्कूलों में खेल प्रतियोगिताओं, खेल एवं योगा के माध्यम से शिक्षकों द्वारा नशा मुक्ति संदेश देना सुनिश्चित किया जाए। साथ ही पुलिस विभाग एवं की मदद से भी जागरूकता अभियान चलाए जाने को कहा। 

       कलेक्टर ने जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि खेल बच्चों के मानसिक विकास में बहुत सहायक होता है। खेल खेलने वाले बच्चों की मानसिक दृढ़ता के कारण उनमें नशे की ओर जाने की संभावना कम होती है। उन्होंने कहा जिले के सभी खेल मैदानों की अधोसंरचना पर विशेष ध्यान दिया जाएं तथा खेल सामग्रियां उपलब्ध कराई जाएं ताकि अधिक से अधिक बच्चों का खेल की तरफ रूझान बढ़े और नशे के अभिशाप से बच्चों को दूर किया जा सके। 

       कलेक्टर ने शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में समय-समय पर मादक द्रव्यों के सेवन से संबंधित जागरुकता प्रचार-प्रसार कार्यक्रम करने, युवाओं, बच्चों, महिलाओं, शैक्षणिक संस्थानों एवं समुदायों को शामिल करके सेमीनार, रैलियां, नुक्कड़ नाटक, नशा बंदी प्रतियोगिताएं, सोशल मीडिया के द्वारा प्रचार अभियान, नशा बंदी शपथ आदि कार्यक्रम आयोजित कर जागरुकता कार्यकम किया जाने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होंने पुलिस विभाग एवं आबकारी विभाग के आपसी समन्वयन से अवैध तरीके से हो रहे नशे के व्यवसाय पर सख्त से सख्त कार्यवाही करते पूर्णतः विराम लगाए जाने की दिशा में कार्य करने कहा। बैठक में पुलिस अधीक्षक श्री जितेन्द्र शुक्ला, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी श्री जेपी मेश्राम, जिला शिक्षा अधिकारी श्री अभय जयसवाल, जिला परिवहन अधिकारी श्री शलभ साहू के साथ अन्य विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।