Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

क्या भोले बाबा को जाल में फसाया गया? क्या असामाजिक तत्वों ने मचाई भगदड़?

  नई दिल्ली,उत्तर प्रदेश .  असल बात न्यूज़.   इन दिनों किस तरह का वातावरण बना हुआ है आप सब देख रहे हैं. राजनीतिक प्रशासनी व्यापारिक सभी क्षे...

Also Read


 नई दिल्ली,उत्तर प्रदेश .

 असल बात न्यूज़. 

 इन दिनों किस तरह का वातावरण बना हुआ है आप सब देख रहे हैं. राजनीतिक प्रशासनी व्यापारिक सभी क्षेत्र में कुहासा सा छाया हुआ है और अपनी श्रेष्ठता को कायम रखने,बढ़ाने तथा दूसरे को नीचा दिखाने, एक-दूसरे को परास्त करने की हर तरह से कोशिशें की जा रही है. हाथरस सत्संग वाले मामले में भोले बाबा ने सफाई दी है. उन्होंने अपने वकील के माध्यम से सफाई देते हुए कहा है कि वहां भगदड़ मचाने में असामाजिक तत्वों का हाथ रहा है. उन्होंने कहा है कि असामाजिक तत्वों के द्वारा भगदड़ मचाई गई और उनके खिलाफ  कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

 हाथरस में धार्मिक सत्संग के दौरान भगदड़ मचने से 121 लोगों की मौत हो गई है और कई लोग अभी भी गंभीर रूप से घायल अवस्था में भर्ती हैं. इस घटना के बाद राज्य सरकार पर भी कई तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं.इस घटना पर भोले बाबा उर्फ नारायण साकार बाबा का आज बयान सामने आया है.उन्होंने अपने वकीलों के माध्यम से बयान जारी कर कहा है कि हम मृतकों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हैं और घटना में घायल लोगों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करते हैं.

 उन्होंने कहा है कि वे 2 जुलाई को फुलारी सिकंदराराउ हाथरस में आयोजित सत्संग से काफी पहले ही बाहर निकल चुके थे. उल्लेखनीय है कि हाथरस सत्संग भगदड़ मामले में  उत्तर प्रदेश की पुलिस ने सत्संग के आयोजको के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर लिया है. यह जानकारी दी गई है कि सत्संग में 80 हजार लोगों को बुलाने की अनुमति दी गई थी,लेकिन यहां सत्संग में ढाई लाख लोगों से अधिक की भीड़ जमा की गई. अभी तक जो जानकारी है उसके अनुसार जो fir दर्ज हुई है उसमें बाबा का नाम  दर्ज नहीं किया गया है.

 उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट के सीनियर वकील ए पी सिंह को हाथरस में भानगढ़ मचाने वाले सामाजिक तत्वों की पहचान करने और उनके खिलाफ कार्रवाई करने के लिए अधिकृत किया गया है.