Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

अगले 5 दिनों में महाराष्ट्र और कर्नाटक के तटीय एवं उत्तरी आंतरिक इलाकों में अत्‍यधिक भारी बारिश की संभावना

पश्चिमोत्‍तर भारत में 9 जून से लू की स्थिति का नया दौर शुरू हो सकता है अगले 5 दिनों के दौरान पूर्वी एवं पूर्वी मध्य भारत, उत्तर प्रदेश और पू...

Also Read



पश्चिमोत्‍तर भारत में 9 जून से लू की स्थिति का नया दौर शुरू हो सकता है

अगले 5 दिनों के दौरान पूर्वी एवं पूर्वी मध्य भारत, उत्तर प्रदेश और पूर्वोत्तर मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में लू की स्थिति जारी रहने के आसार

नई दिल्ली.
असल बात न्यूज़.   

  • कल उत्तर प्रदेश के दक्षिणी इलाकों में कुछ स्थानों पर लू की स्थिति बनी रही।
  • कल, दक्षिणी हरियाणा, दिल्ली, दक्षिणी उत्तर प्रदेश, दक्षिण-पूर्वी राजस्थान, मध्य प्रदेश और दक्षिण-पश्चिमी बिहार के छिटपुट इलाकों में अधिकतम तापमान 43 से 46 डिग्री सेल्सियस के बीच रहा। इन क्षेत्रों में तापमान सामान्य के मुकाबले 2 से 4 डिग्री सेल्सियस अधिक रहा।
  • कल झांसी (पश्चिमी उत्तर प्रदेश) में 45.8 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया जो देश भर में सबसे अधिक तापमान रहा।
  • तटीय कर्नाटक में कुछ स्थानों पर अत्यधिक भारी वर्षा के साथ भारी से बहुत भारी वर्षा, कोंकण एवं गोवा, तमिलनाडु, पुडुचेरी एवं कराईकल में कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा, ओडिशा, पश्चिमी मध्य प्रदेश, तेलंगाना, दक्षिणी कर्नाटक के आंतरिक इलाके और केरल एवं माहे में कुछ स्थानों पर भारी बारिश हुई।
  • राजस्थान में कुछ इलाकों में धूल भरी आंधी देखी गई।
  • पश्चिमी मध्य प्रदेश में कुछ स्थानों पर ओलावृष्टि देखी गई।
  • देश भर में दर्ज की गई तेज हवा/तूफानी हवाओं के आंकड़े अनुलग्नक II में संलग्न हैं।

 

दक्षिण-पश्चिम मॉनसून की प्रगति:

  • दक्षिण-पश्चिम मॉनसून आज यानी 8 जून, 2024 को मध्य अरब सागर, दक्षिण महाराष्ट्र, तेलंगाना एवं दक्षिण छत्तीसगढ़ के कुछ हिस्‍सों और दक्षिण ओडिशा एवं तटीय आंध्र प्रदेश के कुछ अन्‍य हिस्सों की ओर बढ़ चुका है।
  • मॉनसून की उत्तरी सीमा अब 18.0°N/60°E, 18.0°N/65°E, 17.5°N/70°E, हरनाई, बारामती, निजामाबाद, सुकमा, मलकानगिरी, विजयनगरम, 19.5°N/88°E, 21.5°N/89.5°E, 23°N/89.5°E और इस्लामपुर से होकर गुजरती है। (अनुलग्नक III)
  • अगले 2 से 3 दिनों के दौरान मध्य अरब सागर के शेष हिस्सों, महाराष्ट्र के कुछ अन्‍य हिस्सों (मुंबई सहित) और तेलंगाना में दक्षिण-पश्चिम मॉनसून की प्रगति के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं।

 

मौसम प्रणाली और पूर्वानुमान एवं चेतावनी: (अनुलग्नक IV)

  • मध्य असम और उसके आसपास के इलाकों के ऊपर क्षोभमंडल के निचले स्तरों में एक चक्रवाती परिसंचरण बना हुआ है। बंगाल की खाड़ी से पूर्वोत्तर राज्यों तक क्षोभमंडल के निचले स्तरों में तेज दक्षिण-पश्चिमी/ दक्षिणी हवाएं चल रही हैं। उसके प्रभाव से:
  • अगले 7 दिनों के दौरान अरुणाचल प्रदेश, असम एवं मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम एवं त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल एवं सिक्किम जैसे हिमालय के निचले इलाकों में गरज के साथ बिजली चमने और तेज हवाओं (30-40 किमी प्रति घंटे) के साथ व्यापक तौर पर हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है।
  • पश्चिम बंगाल एवं सिक्किम जैसे हिमालय के निचले इलाकों में 8 से 12 तारीख के दौरान, असम, मेघालय एवं अरुणाचल प्रदेश में 9 से 12 तारीख के दौरान और नागालैंड में 8 व 12 जून, 2024 को अलग-अलग जगहों पर भारी वर्षा होने की संभावना है। असम और मेघालय में 11 और 12 जून को भी अलग-अलग स्‍थानों पर अत्‍यधिक भारी वर्षा होने की संभावना है।

 

  • क्षोभमंडल के निचले एवं मध्यवर्ती स्तरों में 16°N के आसपास एक शियर जोन चल रहा है। क्षोभमंडल के निचले स्तरों में महाराष्ट्र से उत्तरी केरल तक एक गर्त रेखा चल रही है। इनके प्रभाव में:
  • कोंकण एवं गोवा, मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, कर्नाटक, केरल एवं माहे और लक्षद्वीप में गरज के साथ बिजली चमकने और तेज हवाओं (40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे) के साथ व्यापक तौर पर हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है। अगले 5 दिनों के दौरान तटीय आंध्र प्रदेश एवं यनम, रायलसीमा, तेलंगाना, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।
  • 12 जून, 2024 को कोंकण एवं गोवा, मध्य महाराष्ट्र, तटीय कर्नाटक में अलग-अलग जगहों पर भारी वर्षा होने की संभावना है। केरल और माहे में 10 से 12 जून के दौरान, दक्षिण कर्नाटक के भीतरी इलाकों में 8 से 10 जून, 2024 के दौरान, मराठवाड़ा, तमिलनाडु, पुडुचेरी एवं कराईकल और तेलंगाना में 8 जून, 2024 को अलग-अलग जगहों पर भारी से बहुत भारी बारिश होने की संभावना है। 8 से 11 जून के दौरान कोंकण एवं गोवा, मध्य महाराष्ट्र, तटीय एवं उत्तरी कर्नाटक के भीतरी इलाकों में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है। 8 से 9 जून, 2024 के दौरान केरल और माहे में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है। 8 से 10 जून के दौरान कोंकण और गोवा में अलग-अलग स्थानों पर अत्यधिक भारी वर्षा होने की भी संभावना है। 9 से 11 जून के दौरान मध्य महाराष्ट्र में, 8 से 9 जून को तटीय कर्नाटक और 9 जून को उत्तरी कर्नाटक के भीतरी इलाकों में अलग-अलग स्थानों पर अत्यधिक भारी वर्षा होने की भी संभावना है।