Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

प्रधानमंत्री और मंत्री परिषद के सदस्य 9 जून को करेंगे शपथ ग्रहण, समारोह में देश-विदेश की जानी-मानी हस्तियां शामिल होंगी

  प्रधानमंत्री और मंत्रिपरिषद के शपथ ग्रहण समारोह के लिए पहुंच रहे हैं दूसरे देश के भी ढेर सारे नेता    नई दिल्ली. असल बात न्यूज़.   नेशनल ड...

Also Read

 



प्रधानमंत्री और मंत्रिपरिषद के शपथ ग्रहण समारोह के लिए पहुंच रहे हैं दूसरे देश के भी ढेर सारे नेता 

 नई दिल्ली.
असल बात न्यूज़.  

नेशनल डेमोक्रेटिक पार्टी के संसदीय दल का नेता सर्वसम्मती  से चुने जाने के बाद नरेंद्र मोदी 9 जून को एक समारोह में प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे. वह देश के लगातार तीसरी बार प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं. प्रधानमंत्री शपथ ग्रहण समारोह को भव्य रूप देने की तैयारी की जा रही है. इसकी संभावना बहुत अधिक बताई जा रही है कि उनके साथ कई  अन्य केंद्रीय मंत्री भी शपथ लेंगे जिस्म शायरी दलों के नेताओं के शामिल होने की अधिक संभावना है. संभवत मंत्रिमंडल का कुछ दिनों के बाद विस्तार किया जाएगा. प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में देश-विदेश की कई जानी -मानी हस्तियां भी शामिल होंगी. जानकारी के अनुसार समारोह में कुल 8000 लोगों के बैठने की व्यवस्था की गई है.

आम चुनाव- 2024 के बाद प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और मंत्रिपरिषद का शपथ ग्रहण समारोह जून, 2024 को निर्धारित है। इस अवसर पर भारत के पड़ोसी देशों और हिंद महासागर क्षेत्र के नेताओं को विशिष्ट अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया है।

श्रीलंका के राष्ट्रपति श्री रानिल विक्रमसिंघे, मालदीव के राष्ट्रपति डॉ. मोहम्मद मुइज्जू, सेशेल्स के उपराष्ट्रपति श्री अहमद अफिफ, बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना, मॉरीशस के प्रधानमंत्री श्री प्रविंद कुमार जगन्नाथ, नेपाल के प्रधानमंत्री श्री पुष्प कमल दहल प्रचंड और भूटान के प्रधानमंत्री श्री शेरिंग तोबगे ने उपस्थित होने का निमंत्रण स्वीकार किया है।

इस शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने के अलावा उपरोक्त नेता उसी शाम राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मु की ओर से आयोजित भोज में भी शामिल होंगे।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के लगातार तीसरे कार्यकाल के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने के लिए नेताओं की यात्रा भारत की ओर से अपनी 'पड़ोसी पहलेनीति और 'सागरदृष्टिकोण को प्रदान की गई सर्वोच्च प्राथमिकता के अनुरूप है।