Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

'खतरनाक अंगारक योग', क्या ढा रहा है कहर, इस योग में धन के साथ सेहत के नुकसान होने की आशंका

धर्म- कर्म.      असल बात न्यूज़.      दुनिया में जो अभी जो बहुत सारी दुर्घटनाये हो रही हैं, अकाल मृत्यु हो रही है, आपसी झगड़ा- झंझट बढ़ रहे ...

Also Read




असल बात न्यूज़.     






दुनिया में जो अभी जो बहुत सारी दुर्घटनाये हो रही हैं, अकाल मृत्यु हो रही है, आपसी झगड़ा- झंझट बढ़ रहे हैं, उसके पीछे वजह कहीं खतरनाक अंगारक योग तो नहीं है. आप देखेंगे और महसूस कर सकते हैं कि अभी ऐसी दुर्घटनाएं  उम्मीद के विपरीत काफी बढ़ गई है. अंगारक योग को काफी खतरनाक माना जाता है. प्रसिद्ध ज्योतिषी जो ज्योतिष शास्त्र के क्षेत्र में विभिन्न रिसर्च कर रहे हैं बताते हैं कि  ज्योतिष शास्त्र में जब मंगल और राहु (kumbh mangal rahu yuti) एक साथ आ जाते हैं तो इस स्थिति को अंगारक योग कहा जाता है। चूंकि मंगल उग्र ग्रह है तो वहीं राहू की प्रकृति भी इसी तरह की मानी जाती है। इन दोनों की युति को अंगारक योग कहा जाता है।ज्योतिष शास्त्र में राहु और केतु को मायावी ग्रह कहा जाता है। वर्तमान समय में राहु मीन राशि में विराजमान हैं और केतु कन्या राशि में विराजमान हैं। राहु और केतु दोनों वक्री चाल चलते हैं। ज्योतिषियों की मानें तो कुंडली में राहु और केतु के शुभ स्थिति में रहने पर जातक को जीवन में सभी प्रकार के सुखों की प्राप्ति होती है। वहीं, राहु और केतु की अशुभ स्थिति में जातक को विषम परिस्थिति से गुजरना पड़ता है। राहु और केतु के शुभ और अशुभ ग्रहों के साथ युति होने पर कुंडली में कई दोष बनते हैं। इनमें एक दोष अंगारक योग है। कुंडली में अंगारक दोष लगने पर शुभ ग्रहों का प्रभाव क्षीण होने लगता है। छत्तीसगढ़ राज्य में भी अभी अकाल मृत्यु की दुर्घटनाएं काफी बढ़ गई है जिनसे सबको चिंता हो रही है. बताया जा रहा है कि लगभग 18 वर्षों के बाद मंगल और राहु के एक घर में बैठ जाने से यह खतरनाक योग बना है जो अपना दुष्प्रभाव दिख रहा है.वैदिक ज्योतिष के अनुसार राहु और मंगल के घर में बैठ जाने से यूति  से अंगारक योग बन गया है. इससे कई राशियों के स्वामियों के सामने कई मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं.

Angarak Yoga In Kundli: 

वैदिक पंचांग के अनुसार 23 अप्रैल को मंगल ग्रह ने मीन राशि में प्रवेश कर लिया है, जहां पहले से ही राहु ग्रह स्थित हैं। ऐसे में इन दोनों ग्रहों की युति से अशुभ अंगारक योग बन रहा है। ज्योतिष में इस योग को बेहद अशुभ माना जाता है। इसलिए इस योग का प्रभाव कुछ न कुछ सभी राशियों पर अशुभ पड़ेगा। लेकिन 3 राशियां ऐसी हैं जिनकी इस समय मुश्किलें बढ़ सकती हैं। साथ ही इन लोगों को धनहानि और सेहत से संंबधित परेशानी हो सकती हैं। आइए जानते हैं ये राशियां कौन सी हैं…

वृषभ राशि (Taurus Zodiac)

आप लोगों के लिए अंगारक योग अशुभ साबित हो सकता है। क्योंकि यह योग आपकी राशि से इनकम और लाभ स्थान पर बन रहा है। इसलिए इस समय आपको पारिवारिक मामले में परेशानियां उठानी पड़ सकती है। परिवार से कुछ मामलों में सहमति नहीं बनेगी। वहीं शादीशुदा लोगों को दांपत्य जीवन में परेशानी हो सकती है। साथ ही जीवनसाथी के साथ किसी बात को लेकर तनाव हो सकता है। इसलिए इस अवधि में आपको धैर्य से काम लेना चाहिए। वहीं इस समय आपको निवेश बहुत सोच समझकर करना चाहिए।

तुला राशि (Tula Zodiac)

अंगारक योग का बनना तुला राशि के जातकों को प्रतिकूल सिद्ध हो सकता है। क्योंकि यह योग आपकी राशि से छठे भाव पर बन गया है। इसलिए इस समय आपको सेहत संबंधित परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही अगर आपका कोई पुलिस और कोर्ट का केस चल रहा है तो आपको हार का सामना करना पड़ सकता है। वहीं इच्छाशक्ति में कमी आ सकती है लेकिन फिर भी नई चुनौतियों का सामना आप आराम से कर पाएंगे। साथ ही इस समय आपको पीठ दर्द और अल्सर जैसी समस्याएं हो सकती हैं। वहीं इस समय आपको गुप्त शत्रुओं से सावधान रहने की जरूरत है।

सिंह राशि (Leo Zodiac)

अंगारक योग का बनना सिंह राशि के लोगों को हानिकारक सिद्ध हो सकता है। क्योंकि यह योग आपकी गोचर कुंडली के अष्टम स्थान पर बन गया है। इसलिए इस दौरान आपको गुप्त रोग परेशान कर सकते हैं। वहीं कोई चोट- दुर्घटना हो सकती है। साथ  इस दौरान आपके फिजूल खर्चें हो सकते हैं। साथ ही जो हार्ट के रोगी हैं उनको भी समय ध्यान रखना चाहिए। साथ ही इस समय कोई नया कार्य करने से बचें, अन्यथा नुकसान हो सकता है। वहीं इस समय आपको किसी को धन उधार देने से बचना चाहिए।