सोनिया गांधी से आज की पूछताछ पूरी, कांग्रेस का देशव्यापी विरोध-प्रदर्शन

 


  प्रवर्तन निदेशालय (ED) आज कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से नेशनल हेराल्ड केस में पूछताछ करेगा। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी नेशनल हेराल्ड मामले में हुए भ्रष्टाचार को लेकर पूछताछ के लिए ED कार्यालय पहुंच चुकी है और उनके साथ राहुल गांधी और प्रियंका वाड्रा भी मौजूद है। प्रवर्तन निदेशालय की इस कार्रवाई के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ता देशभर सत्याग्रह प्रदर्शन कर रहे हैं। भारी हंगामे के चलते दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय के आसपास कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है। पुलिस ने सचिन पायलट, हरीश रावण, रणदीप सुरजेवाला, जयराम रमेश सहित कई कांग्रेस नेताओं को हिरासत में ले लिया है।

सोनिया गांधी से ईडी की पूछताछ से कांग्रेस के कई आला नेता भड़क गए हैं। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तो यहां तक कह दिया कि ED को सोनिया गांधी के घर जाकर बयान लेना चाहिए था। गहलोत ने कहा कि सोनिया गांधी वह महिला है, जिनकी सास और पति देश के लिए शहीद हो गए। सरकार को इतनी शर्म नहीं आती है कि आप किसके साथ किस तरह का व्यवहार कर रहे हैं। ED वाले उनके घर जाकर बयान ले सकते थे, कई बार ऐसा किया गया है कि ED घर जाकर बयान लेती है।

गहलोत ने कहा कि सोनिया गांधी जी को जिस तरह से बुलाया गया, वो बेहतर हो सकता था। हम जानते हैं और मानते हैं कि कानून सबके लिए बराबर है। इनके शासन में कानून सबके लिए समान नहीं है। जो BJP में है, उसके लिए कानून बदल जाता है। इन्होंने देश में 2 कानून बना दिए हैं, विपक्ष के लिए अलग और पक्ष के लिए अलग कानून।

वहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने कहा कि आम जनता और कांग्रेस कार्यकर्ता सोनिया गांधी को ईडी ऑफिस में बुलाकर पूछताछ करने से काफी नाराज है। भाजपा मोदी जी को कितना बचाते हैं जब वे मोदी जी के लिए ये कर सकते हैं तो हम सोनिया गांधी के लिए नहीं कर सकते हैं। मोदी जी अभी 8-10 साल से देश में दिख रहे हैं,सोनिया गांधी का परिवार कब से देश की सेवा करते आ रहा है।

अनुराग ठाकुर बोले, क्या गांधी परिवार के लिए अलग कानून बनेगा

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए कहा कि अगर कांग्रेस के पास छिपाने के लिए कुछ ना हो तो हंगामा करने की जरूरत नहीं है। ये तिलमिलाहट क्यों है, घबराहट क्यों है, छटपटाहट क्यों है? ये कहीं ना कहीं दिखाता है कि दाल में कुछ काला है या तो पूरी दाल ही काली है। अनुराग ठाकुर ने कहा कि अगर गांधी परिवार बेदाग है और उन्होंने भ्रष्टाचार नहीं किया तो हंगामा क्यों? आखिरकार भारत के नागरिकों से अगर किसी ने भ्रष्टाचार किया है तो उससे पूछताछ करना एजेंसियों का काम है। तो क्या गांधी परिवार के लिए कानून अलग से बनेगा?।

वहीं केंद्रीय मंत्री कौशल किशोर ने भी कांग्रेस पर पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस अपने कार्यकर्ताओं को सड़क पर इसलिए उतार रही है ताकि जिस मामले में ED ने बुलाया है, लोगों का ध्यान उधर से भटकाया जाए।

कांग्रेस ने दिया स्थगन प्रस्ताव

कांग्रेस ने संसद में केंद्र सरकार पर आरोप लगाया है कि राजनीतिक कारणों से विपक्षी नेताओं के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय के हथियार की तरह इस्तेमाल किया जा रहा है। कांग्रेस ने संसद में इस मुद्दे पर चर्चा के लिए स्थगन प्रस्ताव दिया है। मानसून सत्र के दौरान सदन की कार्यवाही शुरू होने के कुछ मिनट बाद कुछ विपक्षी सदस्यों द्वारा नारेबाजी के बाद राज्यसभा की कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित की गई।

भाजपा का पलटवार, ये सत्याग्रह नहीं, दुराग्रह है

सोनिया गांधी से पूछताछ पर कांग्रेस पार्टी के सत्याग्रह पर भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि ये सत्याग्रह नहीं, देश और देश के कानून, देश की संस्थाओं के खिलाफ दुराग्रह है. सोनिया गांधी और राहुल गांधी इस मामले में बेल पर हैं, इन दोनों पर धोखाधड़ी का भी आरोप है।

राहुल गांधी से हो चुकी है 50 घंटे पूछताछ

नेशनल हेराल्ड मामले में सोनिया गांधी से पहले राहुल गांधी से भी करीब 50 घंटे पूछताछ हो चुकी है। तब भी कांग्रेस पार्टी ने काफी विरोध प्रदर्शन किया था। आज भी पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ एकजुटता दिखाने के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता AICC कार्यालय में इकट्ठा होंगे। राहुल गांधी और प्रियंका वाड्रा भी सोनिया गांधी के साथ ED दफ्तर जाएंगे।

दो मुख्यमंत्री सहित कांग्रेस कार्यकर्ता करेंगे शक्ति प्रदर्शन

कांग्रेस पार्टी ने सोनिया गांधी की पेशी पर शक्ति प्रदर्शन की योजना बनाई है। राजधानी दिल्ली में संसद से सड़क तक कांग्रेस के आक्रामक तेवर देखे जा सकते हैं। इसके अलावा विरोध प्रदर्शन में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी शामिल हो सकते है। वहीं कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने आरोप लगाया है कि दिल्ली पुलिस गृह मंत्रालय से आदेश लेकर मीडिया को कांग्रेस पार्टी मुख्यालय में प्रवेश करने से रोक रही है।

जानिए क्या है नेशनल हेराल्ड केस

जिस नेशनल हेराल्ड केस में आज सोनिया गांधी की प्रवर्तन निदेशालय की पेशी हो रही है, वह करीब 10 साल पुराना मामला है। नेशनल हेराल्ड नाम से एक अखबार जवाहरलाल नेहरू ने निकाला था। इस केस में करोड़ों रुपए की जायदाद पर मालिकाना हक का विवाद है।