कोरोना कहर,मुखिया की मौत से पीड़ित परिवारों की मदद और सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए अभी बहुत कुछ करने की जरूरत


नई दिल्ली, छत्तीसगढ़। असल बात न्यूज़।

0  चिंतन/  विश्लेषण/ जिंदगी बचाने के लिए

0  अशोक त्रिपाठी

दुनिया में लोग मनहूस कोरोना से प्रतिदिन चिंताजनक तरीके से हो रही लाखों की मौत को देख रहे हैं। इसके भयावह  संक्रमण के खतरनाक तरीके से फैलाव को देख रहे हैं। दुनिया के सामने कैसे भयानक हालात हो गए हैं उसको लोग देख रहे हैं। अस्पताल में दवाइयों, ऑक्सीजन तथा दूसरे संसाधनों की कमी तथा इससे पैदा हो रही अवस्थाएं सबके सामने आ रही हैं। लोग यह भी देख रहे हैं कि ऐसी अव्यवस्था,कमियों की वजह से भी लोगों की जान जा रही है। परंतु अभी एक बात दुनिया के सामने नहीं आ रही है। जोकि अत्यंत ही चिंताजनक स्थिति मानी जा रही है। कोरोना से हजारों लाखों लोगों की जान चली गई है, जिसमें ढेर सारे लोग अपने परिवार के मुखिया थे। उन्हीं के बदौलत परिवार की खुशियों थी। परिवार में खुशहाली थी और परिवार के सदस्य आगे बढ़ने कुछ नया करने के सपने देखते थे। उन्हीं से परिवार चलता था, परिवार में भोजन, पानी, वस्त्र सहित तमाम जरूरत की चीजों के लिए उनकी वजह से परिवार के सदस्यों को किसी की चिंता नहीं करनी पड़ती थी। मनहूस कोरोना ने हजारों परिवारों के मुखियाओं की जान ले ली है। ऐसे में पीड़ित परिवार  तहस-नहस होता नजर आ रहा है।इस परिवार के लोगों के सामने कुछ ही पल के भीतर इस दुनिया में इतने सारे संकट पैदा हो गए की एक तरह से इन  तमाम तकलीफों के बीच उन्हें, उनके जीवन का कोई अर्थ ही नहीं सोच तो रहा है। पल भर में हर तरह की मुसीबतें, तकलीफ उनके सामने आ गई है। मुखिया के चले जाने से सब कुछ छीन सा गया है। हालत इतने विकराल और बिगड़ गए हैं कि इस तरह से पीड़ित हंसते खेलते परिवार के सदस्यों को परिवार के मुखिया के चले जाने के बाद  इसकी भी चिंता करनी पड़ रही है कि आखिर दो जून की रोटी की कैसे व्यवस्था होगी। उसके लिए सामग्रियों की व्यवस्था कैसे और कहां से होगी ? इस समय जो इस पीड़ा को भोग रहा है, अथवा करीब से उसे देखा और महसूस कर रहा है,   वहीं इस परेशानी को समझ सकता है। इस परिवार की अंत्योदय से महाअंत्योदय के जैसे दयनीय परिवार की हालत हो गई है। ऐसे परिवारों में जिनकी बिना फिक्र के हंसते खेलते गाड़ी आगे खींच रही थी उन्हें मदद के लिए दूसरों के सामने हाथ फैलाना पड़ रहा है।  वास्तविकता यह भी है कि कौन, किसकी कब तक मदद कर सकेगा। और किसी परिवार के लिए चाहे वह कितना भी पीड़ित क्यों ना  हो दूसरों से आखिर कब तक मदद लेना चाहेगा ? कितनी ही मजबूरी क्यों ना हो कोई कब तक कितनी सहजता से आशा कर  सकेगा। विडंबना यह है कि आम लोग और  सरकारें भी अभी Corona के चलते तमाम समस्याओं से जूझ रही है।ऐसे में सरकारों का नई समस्याओं की ओर ध्यान नहीं जाना स्वाभाविक ही है।

दूसरे तरफ घर परिवार की जरूरते  ऐसी होती होती हैं कि प्रत्येक दिन नहीं जरूरत पैदा  हो जाती है। लेकिन मुखिया के चले जाने के बाद ऐसे पीड़ित परिवारों के लिए अपनी एक भी जरूरत को पूरा करना दुश्वार हो गया है। हालात बिगड़ते जा रहे हैं। उस परिवार के सदस्य एक तरह से शिक्षा स्वास्थ्य और दूसरी जरूरी सुविधाओं से तो वंचित हो ही गए हैं, उनमें से कई परिवार के सदस्यों को जिंदा रहने के लिए दो जून,वक़्त की रोटी के लिए मशक्कत करनी पड़ रही है, ऐसी नौबत आ गई है।

यहां यह उल्लेखनीय कि मध्य प्रदेश की सरकार का ऐसे पीड़ित परिवारों की दिक्कत की ओर ध्यान गया है। वहां सरकार ने उन परिवारों के लिए 5,000 रुपये प्रतिमाह पेंशन की घोषणा की है जिन्होंने कोरोना महामारी के कारण अपने आजीविका कमाने वाले सदस्य को खो दिया हैइसके साथ ही अनाथ बच्चों को मुफ्त में शिक्षा भी दी जायेगी। मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने इसकी घोषणा करते हुए कहा है कि कई परिवार कोविड के कारण गंभीर वित्तीय संकट का सामना कर रहे हैं और राज्य सरकार ऐसे सभी परिवारों को हर संभव मदद सुनिश्चित करेगी। छत्तीसगढ़ में भी राज्य सरकार ने ऐसे परिवारों के पीड़ित बच्चों को निशुल्क शिक्षा की सुविधा प्रदान करने की घोषणा की है। लेकिन इन सुविधाओं को निश्चित तौर पर और अधिक बढ़ाने की जरूरत है। असल में इस मुद्दे पर नए सिरे से एक सामाजिक सर्वेक्षण किया चाहिए और इसकी पहचान की जानी चाहिए कि ऐसे परिवारों को किस तरह की दिक्कतों से जूझना पड़ रहा है और ऐसे पीड़ित परिवारों के सदस्यों की जिंदगी बचाने के लिए सरकार को क्या-क्या करना चाहिए और क्या करना उचित रहेगा ? तब इस गंभीर मुद्दे पर ठोस निर्णय लिया जाना चाहिए। यहां हम आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ सरकार ने कोविड-19 के कारण अनाथ हुए बच्चों की शिक्षा और अन्य खर्च वहन करने की घोषणा की है। यह योजना इसी वित्तीय वर्ष से लागू हो जाएगी। इसके अलावा ऐसे बच्चों को छात्रवृत्ति भी दी जाएगी। ऐसी योजनाओं पर  तत्काल काम शुरू किए जाने की जरूरत है। ऐसी भी जानकारी है कि इस संकट के समय में कई ऐसे लोगों की भी मौत हो गई जिनका covid test भी नहीं हो सका था। ऐसेपरिवारों में ढेर सारे लोगों की मौत हार्ट अटैक आने से भी हुई है।कोरोना की वजह से हार्ट अटैक की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है और इसी कारण से ढेर सारी लोगों की  जान भी गई है। मुखिया की मौत के बाद ऐसे परिवार भी  तहस-नहस हो गए हैं। सरकार को ऐसे परिवारों की समस्या की भी चिंता करने की जरूरत है। इसमें भी हो सकता है कि बहुत सारे परिवार को ढेर सारे साधन संपन्न हो।उनके सामने किसी से सहयोग लेने  की आवश्यकता, जरूरत  ना हो।ऐसे लोग, किसी से शहर लेना अपने स्वाभिमान के खिलाफ समझते हो।लेकिन हमें कमजोर वर्ग के उन पीड़ित परिवारों का ध्यान देना, रखना होगा, जो कि आकस्मिक विपदा आ जाने से तमाम समस्याओं से घिर गए हैं।और यह समस्याओं से जीवन पर्यंत जूझना उनकी नियति बन गई है।

.............

..................

................................

...............................

असल बात न्यूज़

खबरों की तह तक, सबसे सटीक , सबसे विश्वसनीय

सबसे तेज खबर, सबसे पहले आप तक

मानवीय मूल्यों के लिए समर्पित पत्रकारिता

................................

...................................

 






अब देशभर में कोरोना महामारी के संक्रमण के फैलाव पर एक नजर


 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image003GSIK.jpg

 


 

भारत में अब तक दो करोड़ से अधिक लोग कोरोना से स्वस्थ हुए

  • बीते चार दिनों में तीसरी बार दैनिक नए मामलों की तुलना में नई रिकवरी की संख्या अधिक रही
  • बीते 24 घंटे में सक्रिय मामलों की संख्या में 5,632 की गिरावट दर्ज की गई
  • भारत में अब तक लगभग 18 करोड़ लोगों को कोरोना का टीका लगाया गया
  • अभी तक 18-44 आयु समूह के 39 लाख से अधिक लाभार्थियों को टीके लगाए गये


महाराष्ट्र: बृहन्मुंबई महानगरपालिका ने कोरोनावायरस पर शोध करने के लिए स्वास्थ्य विभाग के विशेषज्ञों और डॉक्टरों की एक समिति का गठन किया है। कमेटी कोरोनावायरस के विभिन्न स्ट्रेन और उनके इंसानों पर प्रभावों आदि की जांच करेगी। अपर आयुक्त सुरेश काकानी ने कहा कि कमेटी नये वायरसों और उनके संभावित प्रभावों पर भी नजर रखेगी। नगर निकाय विभिन्न बीमारियों के इलाज के लिये सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल खोलने की भी योजना बना रहा है। महाराष्ट्र में लगातार 5वें दिन कोविड के 50,000 से कम नये मामले दर्ज हुए। महाऱाष्ट्र ने गुरुवार को राज्य के नये कोविड-19 मामलों में गिरावट दर्ज की। राज्य में 12 मई को दर्ज हुए 46781 मामलों के मुकाबले 13 मई को कोविड-19 के 42,582 नये मामले दर्ज किये गये। 

गुजरात: केंद्र के द्वारा कोविशील्ड की दो खुराकों में अंतर बढ़ाने के बीचगुजरात में 45 साल से ऊपर के लोगों का टीकाकरण 14 मई से 3 दिन के लिये रोक दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग ने जानकारी दी कि गुरुवार को गुजरात में 10,742 नये कोविड-19 मामले और 109 मौत दर्ज की गयींजिसके साथ ही राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 7,25,353 और मरने वालों की संख्या बढ़कर 8840 पर पहुंच गयी।

राजस्थान: कम संख्या में आरटी-पीसीआर परीक्षण किये जाने के बावजूद राजस्थान में पिछले सप्ताह से सकारात्मकता दर में कोई गिरावट नहीं देखी गयी। राज्य कोरोनावायरस टीकाकरण की प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए विदेश से टीके खरीदेगा जिसके लिये वैश्विक निविदा जारी की जायेगी। इसके साथ ही सरकार ने कंपनियों से कोरोनावायरस उपचारकीदवायें और उपकरणों की सीधी खरीद को भी मंजूरी दे दी है।

मध्य प्रदेश: प्रदेश सरकार ने गुरुवार को उन परिवारों के लिए 5,000 रुपये प्रतिमाह पेंशन की घोषणा की है जिन्होंने कोरोना महामारी के कारण अपने आजीविका कमाने वाले सदस्य को खो दिया हैइसके साथ ही अनाथ बच्चों को मुफ्त में शिक्षा भी दी जायेगी। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कई परिवार कोविड के कारण गंभीर वित्तीय संकट का सामना कर रहे हैं और राज्य सरकार ऐसे सभी परिवारों को हर संभव मदद सुनिश्चित करेगी। मध्य प्रदेश में लगातार चौथे दिन 10,000 से कम मामले दर्ज हुए हैं। राज्य में 8,419 नए मामले सामने आए और 74 लोगों की मौत हुईजबकि 10,157 मरीज संक्रमण मुक्त हुए हैं। राज्य में सक्रिय मामलों की संख्या 1 लाख 8 हजार है। हर दिन 60 हजार से ज्यादा जांच की जा रही हैं। मुख्यमंत्री कोविड कल्याण योजना के तहत 2280 मरीजों का मुफ्त में इलाज किया जा रहा है। राज्य सरकार रेमडिसिवर इंजेक्शन की कालाबाजारी के लिये सख्त कार्रवाई कर रही है। अब तक 75 लोगों को एनएसए के तहत जेल भेजा जा चुका है।

छत्तीसगढ़: कोरोना संक्रमण के मामलों में छत्तीसगढ़ लगातार गिरावट दर्ज कर रहा है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना संक्रमण की संभावित तीसरी लहर की चुनौतियों से निपटने की तैयारी भी शुरू कर दी है। छत्तीसगढ़ सरकार कोविड-19 के कारण अनाथ हुए बच्चों की शिक्षा और अन्य खर्च वहन करेगी। यह योजना इसी वित्तीय वर्ष से लागू हो जाएगी। इसके अलावा ऐसे बच्चों को छात्रवृत्ति भी दी जाएगी। राज्य के कई जिलों में ऐसे बच्चों की पहचान के लिए एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है। साथ ही विभिन्न आश्रय घरों में उनको ठहराने की भी व्यवस्था की जा रही है।

गोवा: मुख्यमंत्री श्री प्रमोद सावंत ने कहा है कि राज्य में शनिवार से 18-44 आयु वर्ग के लोगों के लिए टीकाकरण अभियान शुरू होगा। मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया कि 35 सरकारी केंद्रों के माध्यम से पूरे गोवा में वैक्सीन नि:शुल्क दी जाएगी। सरकार को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया से कोविशील्ड वैक्सीन की लगभग 32,870 खुराक प्राप्त हुई। गोवा में कोविड की दैनिक सकारात्मकता दर में उल्लेखनीय गिरावट दर्ज हुई। सकारात्मकता दर 41.40 प्रतिशत से घटकर 35.16 प्रतिशत हो गय़ी है। गोवा मेडिकल कॉलेज और बांबोलिम अस्पताल में ऑक्सीजन संकट की जांच के लिए लिये राज्य सरकार ने गुरुवार को तीन सदस्यीय समिति नियुक्त की। डॉ बी के मिश्रानिदेशक-आईआईटी गोवा, पैनल के अध्यक्ष होंगे।

असम: राज्य में गुरुवार को कोविड-19 के कारण 75 लोगों की जान चली गई। राज्य में पिछले 24 घंटों में 5,468 सकारात्मक मामले दर्ज किएकुल सकारात्मकता दर 9.18 प्रतिशत रही। कामरूप (मेट्रो) ने 1,173 मामले दर्ज किए। स्वास्थ्य मंत्री श्री केशब महंत ने कहा कि हालांकि राज्य सरकार लॉकडाउन की घोषणा के पक्ष में नहीं थीलेकिन स्थिति बिगड़ती है तो शहरी क्षेत्रों में ऐसा करने के लिए मजबूर होना पड़ सकता है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने कहा राज्य में फिलहाल कोविड बेड की कोई कमी नहीं है। अस्पतालों में कोविड-19 के 5,233 सक्रिय मामलों और ऑक्सीजन बेड पर इलाज करा रहे 421 रोगियों के मुकाबले 11 मई तकराज्य के सभी सरकारी अस्पतालों में कुल मिलाकर 10,844 आइसोलेशन बेड, 1,751 ऑक्सीजन बेडकोविड-19 रोगियों के लिए 686 ICU बेड थे। राज्य शिक्षा विभाग ने कोविड-19 महामारी को देखते हुए शैक्षणिक दिनों के नुकसान को कम करने के लिएकक्षा 1 से 12 के लिए एक महीने लंबी गर्मी की छुट्टियों का समय फिर से निर्धारित किया गया हैऔर इसे सामान्य अवधि 1 जुलाई से 31 जुलाई की जगह 15 मई से 14 जून, 2021 तक कर दिया गया है। भारतीय सेना की चौथी कोर ने केवल 3 दिनों के रिकॉर्ड वक्त में तेजपुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 45 ऑक्सीजन बेड और 5 आईसीयू बेड स्थापित किये हैं।

मेघालय: मेघालय में गुरुवार को एक ही दिन में अब तक के सर्वाधिक 591 नए मामले दर्ज किये गयेजबकि उस दिन 18 और मौतों से मरने वालों की संख्या 268 तक पहुंच गयी। इसके साथराज्य में कुल सक्रिय मामलों की संख्या बढ़कर 3,726 हो गयी है। स्वास्थ्य विभाग शुक्रवार से तीसरे चरण के टीकाकरण के तहत 18-44 आयु वर्ग के टीकाकरण अभियान शुरू करने के लिए पूरी तरह तैयार है। एनएचएम मिशन निदेशक के एक बयान में कहा गया है कि टीकाकरण के लिए कोविन पोर्टल (www.cowin.gov.in) पर पंजीकरण 28 अप्रैल को शुरू हुआ और 13 मई को तय किये गये टीकाकरण केंद्रों पर टीका दिये जाने के समय की बुकिंग शुरू हुई। रिंजाह स्टेट डिस्पेंसरी और शिलांग सिविल अस्पताल मेंजहां 150 स्लॉट हैं, के अतिरिक्तराज्य भर में सभी सरकारी सुविधाओं में प्रति दिन 100 टीकों के लिये स्लॉट हैं।

सिक्किम: सिक्किम में कोविड से रिकॉर्ड 9 लोगों की जान गईजिससे मरने वालों की संख्या बढ़कर 19O हो गयी। सिक्किम में पिछले 24 घंटों में नोवल कोरोनावायरस के 231 नए मामले सामने आएजिससे राज्य में कोविड-19 के सकारात्मक मामलों की संख्या बढ़कर 10,623 हो गयी। सिक्किम में अब कोरोनावायरस के 2,946 सक्रिय मामले हैं।

नगालैंड: नगालैंड में गुरुवार को कोविड से 12 मौत और 366 नए मामलों के साथ लगातार दूसरे दिन दैनिक मामलों में रिकॉर्ड बढ़त दर्ज हुई। नगालैंड में आज शाम 6 बजे से पूर्ण लॉकडाउन लग गया है। लॉकडाउन की अवधि 21 मई को समाप्त होगी। नगालैंड में 17 मई से 18-44 वर्ष आयु वर्ग के लिए कोविड टीकाकरण शुरू होगा। राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने कहा कि राज्य को बुधवार को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया से कोविशील्ड की 36,580 खुराक मिलीं। सप्ताह के दौरान कोहिमा में रात्रि कर्फ्यू और कंटेनमेंट जोन के प्रतिबंधों का उल्लंघन करने पर 600 से अधिक व्यक्तियों को दंडित किया गया।

केरल: केरल उच्च न्यायालय ने आज केंद्र से कहा कि वह 21 मई तक जानकारी दे कि वह केरल के कोवि़ड वैक्सीन हिस्से को कब तक वितरित कर सकता है। केंद्र सरकार ने न्यायालय को सूचित किया कि वैक्सीन की आपूर्ति उनके सीधे नियंत्रण में नहीं है और सुप्रीम कोर्ट के द्वारा नियुक्त एक उच्च स्तरीय समिति इसकी प्रभारी है। केरल में दिन-प्रतिदिन कोविड के बढ़ते मामलों का उल्लेख करते हुए कोर्ट ने कहा कि केंद्र को राज्य की वर्तमान स्थिति पर विचार करना चाहिए। इस बीचकल 97 मौतों के साथ 39,955 नए कोविड मामले सामने आए। टीपीआर 28.61% पर है। कोविड के मामलों में वृद्धि को देखते हुएराज्य सरकार ने आईसीएमआर दिशानिर्देशों के अनुसार राज्य में और अधिक एंटीजन परीक्षण करने का निर्णय लिया है। इस उद्देश्य के लिए तटीय क्षेत्रों और मलिन बस्तियों में एंटीजन परीक्षण बूथ स्थापित किये जाएंगे। रेलवे स्टेशनों और बस स्टैंडों पर 24 घंटे परीक्षण सुविधाकी व्यवस्था की जाएगी। मौसम विभाग द्वारा भारी बारिश की चेतावनी की वजह से तिरुवनंतपुरम और कोल्लम जिलों में आज होने वाले कोविड टीकाकरण को स्थगित कर दिया गया है। राज्य में अब तक कुल 82,39,454 लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। इसमें से 62,79,381 को पहली खुराक और 19,60,073 को दूसरी खुराक मिली है।

तमिलनाडु: पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर से पहुंची ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन से आज राज्य को 80 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मिली। मेडिकल ऑक्सीजन की भारी कमी की वजह से राज्य के कई अस्पतालों द्वारा ऑक्सीजन बेड की जरूरत वाले मरीजों को भर्ती नहीं कर पाने सेतमिलनाडु राज्य सरकार ने ऑक्सीजन के अधिकतम उपयोग के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में तमिलनाडु की मदद करने के लिये डीएमके सांसद और विधायक मुख्यमंत्री राहत कोष में एक महीने का वेतन देंगे। गुरुवार को कोविड के 30,608 नए मामलों के साथराज्य में 1,83,772 सक्रिय मामलों के साथ अब तक कुल 14,99,485 कोविड मामले दर्ज किये गये हैं। 297 और मौतों के साथ मरने वालों की कुल संख्या 16,178 है। अब तक राज्य भर में 68,22,834 को टीका लगाया जा चुका हैजिनमें से 49,78,091 को पहली खुराक और 18,44,743 को दूसरी खुराक मिली है।

कर्नाटक: रिपोर्ट किए गए नए मामले: 35,297; कुल सक्रिय मामले: 5,93,078; कोविड से नई मौतें: 344; कोविड से कुल मौतें: 20,712 । बीते दिन 68,658 को टीका लगाया गया था और इसके साथ ही राज्य में अब तक कुल 1,09,76,189 को टीका लगाया जा चुका है। सरकार ने राज्य सरकार के सभी मंत्रियों को एक साल का वेतन कोविड राहत कोष में दान के रूप में देने का आदेश दिया है। उप मुख्यमंत्री और राज्य के कोविड कार्यबल के प्रमुख डॉ सीएन अश्वथा नारायण ने कहा है कि वैश्विक निविदाओं के जरिए 5 लाख रेमडेसिविर इंजेक्शन आयात किए जाएंगे।

आंध्र प्रदेश: राज्य में बीते 24 घंटों में 89 मौतों और 96,446 नमूनों के परीक्षण के बाद कोविड-19 के 22,399 नये मामले दर्ज किएजबकि पिछले 24 घंटों के दौरान 18,638 संक्रमण मुक्त हए। राज्य में कल तक कोविड वैक्सीन की कुल 74,13,446 खुराकें दी जा चुकी हैंजिनमें 53,32,845 पहली खुराक और 20,80,601 दूसरी खुराक शामिल हैं। राज्य सरकार ने गुरुवार को कोविड टीकों के लिए वैश्विक निविदाएं जारी कींजो 20 या 22 मई को बोली के पहले की बैठक के साथ 3 जून तक खोली जा सकती हैं। मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने कहाअकेले आंध्र प्रदेश में, 18 साल से ऊपर सभी लोगों के टीकाकरण के लिये सात करोड़ से अधिक खुराकों की जरूरत होगीलेकिन केंद्र ने अब तक केवल 73 लाख खुराकें दी है। कोविड मरीजों को ऑक्सीजन की आपूर्ति के बारे में बताते हुए मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को अस्पतालों में ऑक्सीजन के भंडार की क्षमता बढ़ाने और आपूर्ति में तकनीकी खराबी को रोकने के लिए उचित कदम उठाने के निर्देश दिये। इस बीचप्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) अनिल कुमार सिंघल ने कहा कि वाईएसआर आरोग्यश्री के तहत निजी अस्पतालों में कोविड-19 के इलाज को शुरू कर दिया गया है और ये पूरी तरह से कैशलेस है।

तेलंगाना: राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने इस महीने के अंत तक कोविड वैक्सीन की केवल 'दूसरी खुराकदेने का फैसला किया है। तेलंगाना के लिए चौथी ऑक्सीजन एक्सप्रेस छह क्रायोजेनिक टैंकरों के साथ 120 मीट्रिक टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (LMO) लेकर कल हैदराबाद पहुंची। राज्य में कल 4,693 नए कोविड संक्रमण और 33 मौतें दर्ज हुईंजिससे मरने वालों की कुल संख्या 2,867 और कुल मामले 5,16,404 पर पहुंच गये। राज्य में सक्रिय मामलों की संख्या अब 56,917 हो गई है। राज्य में टीकाकरण कार्यक्रम की बात करें तो बीते दिन राज्य में विभिन्न श्रेणियों के कुल 1045 लोगों को पहली खुराक और 38,510 लोगों को टीके की दूसरी खुराक मिली। राज्य में पहली खुराक लेने वालों की कुल संख्या 43,75,396 और दूसरी खुराक लेने वालों की संख्या 11,03,872 है। राज्य के जन स्वास्थ्य निदेशक डॉ. जी. श्रीनिवास राव ने कहा कि पूरे तेलंगाना में कोविड संक्रमणमृत्यु और अस्पताल में भर्ती होने वालों की संख्या में गिरावट के स्पष्ट संकेत दिखाई दे रहे हैं। इसके लिये कई उपायों के मेल को वजह बताया जा रहा हैजिसमें दो सप्ताह का रात्रि कर्फ्यूराज्य सरकार द्वारा लागू की गई कंटेनमेंट रणनीतियों की श्रृंखला और जनता द्वारा पूरे मन से अपनाये जी रही कोविड-19 सावधानियां शामिल हैं।

पंजाब: परीक्षण में सकारात्मक पाये गये रोगियों की कुल संख्या 475949 है। सक्रिय मामलों की संख्या 79950 है। कुल मौतों की संख्या 11297 है। कोविड-19 टीके की पहली खुराक पाने वालों (हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन कर्मचारी) की कुल संख्या 817002 है। कोविड-19 टीके की दूसरी खुराक पाने वालों (हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन कर्मचारी) की कुल संख्या 238127 है। 45 साल से ऊपर टीके की पहली खुराक पाने वालों की संख्या 2583802 है। 45 साल से ऊपर टीके की दूसरी खुराक पाने वालों की संख्या 425877 है।

हरियाणा: अब तक सकारात्मक पाये गये नमूनों की कुल संख्या 665028 है। सक्रिय कोविड 19 मरीजों की कुल संख्या 103140 है। मरने वालों की कुल संख्या 6238 है। अब तक कुल 4756185लोगों को टीका लगाया जा चुका है।

चंडीगढ़: प्रयोगशाला से पुष्टि हुए कुल कोविड-19 मामले 53393 हैं। सक्रिय मामलों की कुल संख्या 8441 है। आज की तारीख तक कोविड-19 से मरने वालों की संख्या 609 है।