Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

21वीं सदी एशिया की होगी, जिसमें भारत अग्रणीय होगा: श्री मेघवाल

  नए आपराधिक कानून ‘जीवन को आसान’ बनाएंगे, जिससे नागरिक राष्ट्र की प्रगति एवं विकास में योगदान देंगे: केंद्रीय विधि मंत्री नई दिल्ली. असल बा...

Also Read

 


98ffe62f-a865-4753-9c69-ff43f24174ae.jpg


नए आपराधिक कानून ‘जीवन को आसान’ बनाएंगे, जिससे नागरिक राष्ट्र की प्रगति एवं विकास में योगदान देंगे: केंद्रीय विधि मंत्री

नई दिल्ली.
असल बात न्यूज़. 

केंद्रीय विधि एवं न्याय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) तथा संसदीय कार्य राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने सीबीआई अकादमी में आयोजित अलंकरण समारोह में 39 सीबीआई अधिकारियों/कर्मियों को विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक (पीपीएम) तथा सराहनीय सेवा के लिए भारतीय पुलिस पदक (आईपीएम) प्रदान किया।इस अवसर पर पदक विजेताओं और उनके परिवारों को बधाई देते हुए श्री मेघवाल ने कहा कि सी बी आई की जांच भी सबसे अच्छी होती हैजो सीबीआई द्वारा जांच किये गए मामलों की उच्च सजा दर से परिलक्षित होती है। श्री मेघवाल ने जोर देकर कहा कि सीबीआई को सही मायने में सर्वश्रेष्ठ जांच एजेंसी माना जाता हैजो जटिल और संवेदनशील मामलों में विभिन्न हितधारकों द्वारा हर समय सीबीआई जांच की मांग से परिलक्षित होता है।

WhatsApp Image 2024-07-04 at 3.16.12 PM (1).jpeg


 नए आपराधिक कानूनों पर चर्चा करते हुए श्री मेघवाल ने कहा कि ये कानून नागरिकों के लिए बड़े पैमाने पर जीवन को आसान बनाएंगे। ये कानून न्याय प्रदान करने में तेजी लाएंगे और मुकदमे के दौरान सभी हितधारकों के लगने वाले महत्वपूर्ण समय में बचत करेंगे। मंत्री ने जोर देकर कहा कि यह राष्ट्र के लिए अत्यधिक लाभदायक साबित होगा, क्योंकि ऊर्जा का समाज के विकास की प्रक्रिया में उपयोग होगा, जिससे अंततः देश उच्च प्रगति की ओर जाएगा। उन्होंने कहा कि भारत कुछ वर्ष पहले के 11वें स्थान से पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है। उन्होंने कहा कि न्यायिक प्रक्रिया में सुधार, आने वाले कुछ वर्षों में भारत को तीसरे स्थान पर ले जाने के प्रयास और लक्ष्य में योगदान देगा।

श्री मेघवाल ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की भारत की प्रगति की परिकल्पना के महत्व को रेखांकित करते हुए कहा कि भारत 21वीं सदी में वैश्विक स्तर पर महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। उन्होंने कहा कि 19वीं सदी में यूरोप ने प्रगति कीजिसका नेतृत्व इंग्लैंड ने कियाजबकि 20वीं सदी में अमेरिका ने प्रगति की, जिसका नेतृत्व संयुक्त राज्य अमेरिका ने किया। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि 21वीं सदी एशिया की होगीजिसका नेतृत्व भारत करेगा। स्वामी विवेकानंद की भविष्यवाणी को याद करते हुए उन्होंने कहा कि भारत अपने विभिन्न मापदंडों के कारण इस उपलब्धि को हासिल करने के लिए तैयार है

98ffe62f-a865-4753-9c69-ff43f24174ae.jpg

अपने स्वागत भाषण मेंसीबीआई के निदेशक श्री प्रवीण सूद ने पदक प्राप्तकर्ताओं की सराहना की और कहा कि उन्होंने अपनी पेशेवर कड़ी मेहनतसहनीयता और दृढ़ता के कारण यह उपलब्धि हासिल की हैजिससे सीबीआई को बहुत सम्मान मिला है। उन्होंने पदक प्राप्तकर्ताओं के परिवार के सदस्यों को भी बधाई दी। इस अवसर परश्री सूद ने जोर देकर कहा कि सीबीआई और कानून मंत्रालय जांच के साथ-साथ अधिक कुशल अभियोजन को प्राथमिकता देने के लिए तालमेल और आपसी सहयोग के वातावरण में काम कर रहे हैं। सीबीआई निदेशक ने बल देकर कहा कि सीबीआई की भूमिका समय बीतने के साथ विकसित हो रही है

निम्नलिखित अधिकारियों/कर्मचारियों को विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक (पीपीएम) प्रदान किया गया:

1. श्री विप्लव कुमार चौधरीआईपीएससंयुक्त निदेशकएससीजेडसीबीआईनई दिल्ली (अब संयुक्त निदेशकदिल्ली जोनसीबीआई);

2. श्री शरद अग्रवालआईपीएससंयुक्त निदेशकएसटीजेडसीबीआईनई दिल्ली (अब विशेष आयुक्तदिल्ली पुलिस);

3. श्री वीरेंद्र मोहन मित्तलएसपीएसीबीसीबीआईनई दिल्ली;

4. श्री सत्य नारायण जाट, एडिशनल एसपीएसीबीसीबीआईजयपुर (अब एचओबीएसीबीरायपुर);

5. श्री महर्षि रे हाजोंगएएसपीसीबीआईबीएसएफबीकोलकाता;

6. श्री थंगलियान मांग एमएडिशनल एसपीएससी-I, सीबीआईनई दिल्ली (अब एएसपीसीबीआईएसीबीअगरतला);

7. श्री नीलांबर नारायणन श्रीकृष्णनडीएसपीसीबीआईएसयूचेन्नई;

8. श्री राजेश्वर सिंह राणाएसआईसीबीआईआईपीसीयूनई दिल्ली(अब इंस्पेक्टरसीबीआईजबलपुर)

9. श्रीमती गीता पॉलएसआईसीबीआईईओबीकोलकाता (अब इंस्पेक्टरईओबीकोलकाता);

10. श्री गौतम चंद्र दास, हेड कांस्टेबलएसीबीसीबीआईभुवनेश्वर (अब सेवानिवृत्त)

निम्नलिखित अधिकारियों/कर्मचारियों को सराहनीय सेवा के लिए भारतीय पुलिस पदक (आईपीएम) प्रदान किया गया:

11. श्री प्रवीण मंडलोईपुलिस अधीक्षकसीबीआईएसयूनई दिल्ली;

12. श्री राजबीर सिंहएएसपीसीबीआईएसीबीइम्फाल (अब एसपीसीबीआईएससी.III, नई दिल्ली);

13. श्री राज मोहन चंदवरिष्ठ लोक अभियोजकसीबीआईएसी-VI/एसआईटीनई दिल्ली (अब डीएलएदिल्ली जोन);

14. श्री सुरेश कुमारवरिष्ठ पीपीसीबीआईएससीबीचंडीगढ़;

15. श्री डार्विन के जेउप एसपीसीबीआईईओबीचेन्नई (अब एएसपीसीबीआईएसीबीचेन्नई);

16. श्री. जावेद अख्तर अलीउप पुलिस अधीक्षकसीबीआईएसीबीगाजियाबाद (अब एएसपीसीबीआई अकादमीगाजियाबाद);

17. श्री कुमार अभिषेकउप पुलिस अधीक्षकसीबीआईएसयूनई दिल्ली (अब एएसपीसीबीआईएसयूनई दिल्ली);

18. श्री मनोज कुमारउप पुलिस अधीक्षकसीबीआईनीति प्रभागनई दिल्ली (अब एएसपीसीबीआईनीति प्रभाग);

19. श्री जगरूप सिंहउप पुलिस अधीक्षकसीबीआईएसीबीचेन्नई (अब सेवानिवृत्त);

20. श्री गिरीश सोनीउप पुलिस अधीक्षकसीबीआईएसीबीपुणे;

21. श्री जगदेव सिंह यादवउप पुलिस अधीक्षकसीबीआईएसीबीजयपुर (अब डीएसपीएसीबीगुवाहाटी);

22. श्री मुकेश कुमारउप पुलिस अधीक्षकसीबीआई अकादमीगाजियाबाद (अब डीएसपीएसी.III, नई दिल्ली);

23. श्री अजय कुमार मिश्राडीएसपीसीबीआईएसीबीगाजियाबाद;

24. श्री टी. संतोष कुमारडीएसपीसीबीआईएसीबीचेन्नई;

25. श्री. अनिल बिष्टडीएसपीसीबीआईसतर्कता प्रकोष्ठनई दिल्ली;

26. श्री मुन्ना कुमार सिंहपुलिस निरीक्षकसीबीआईबीएसएफबीनई दिल्ली (अब डीएसपीसीबीआईबीएसएफबीदिल्ली);

27. श्री तेजवीर सिंहपुलिस निरीक्षकसीबीआई अकादमीगाजियाबाद;

28. श्री राकेश कुमार शर्माएएसआईसीबीआईएसयूनई दिल्ली;

29. श्री किशोर कुमारएएसआईसीबीआईईओ-II, नई दिल्ली;

30. श्री किशन चंदएएसआईसीबीआईएसी-VI/एसआईटीनई दिल्ली (अब एएसआईसीबीआईएसी-III, नई दिल्ली);

31. श्री जगदीश चौधरीहेड कांस्टेबलसीबीआईएससीबीपटना (अब सेवानिवृत्त);

32. श्री जाहर लाल नायकहेड कांस्टेबलसीबीआईएसीबीकोलकाता, (अब एएसआईसीबीआईएससीबीकोलकाता);

33. श्री इचिक्कमंदनाथ वर्गीस पॉलोजहेड कांस्टेबलसीबीआईएसीबीबेंगलुरु;

34. श्री देबदत्त मुखर्जीहेड कांस्टेबलसीबीआईएससीबीकोलकाता (अब सेवानिवृत्त);

35. श्री हरदेव सिंहएचसीसीबीआईबीएसएफबीनई दिल्ली (अब एएसआईसीबीआईएसी.III, नई दिल्ली);

36. श्री चंद्र शेखर जोशीकांस्टेबलसीबीआईएचओनई दिल्ली;

37. श्री सतीश कुमारकांस्टेबलसीबीआईएसीबीचंडीगढ़;

38. श्री अनूप मैथ्यूजकार्यालय अधीक्षकसीबीआईएसी-I, नई दिल्ली और

39. श्रीमती नारायणन मीनाक्षीएसजी-I, सीबीआईचेन्नई जोनचेन्नई (अब पीएससीबीआईएसीबीचेन्नई)

इस अवसर पर विधि एवं न्याय मंत्रालय के विधिक कार्य विभाग के सचिव डॉ. राजीव मणि भी विधि एवं न्याय मंत्रालयसीबीआई और अन्य विभागों/स्थानीय प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ उपस्थित थे। पदक विजेताओं के लगभग 90 परिवार-सदस्य भी उपस्थित थे।