Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

मुख्यमंत्री श्री साय ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की तो राजनीतिक गलियारे में कई अटकलें तेज

  नई दिल्ली, छत्तीसगढ़.  असल बात न्यूज़.    0विशेष संवाददाता.0 अशोक त्रिपाठी      छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री विष्णु देव सहाय ने नई दिल्ली में ...

Also Read

 


नई दिल्ली, छत्तीसगढ़.

 असल बात न्यूज़.

   0विशेष संवाददाता.0 अशोक त्रिपाठी     

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री विष्णु देव सहाय ने नई दिल्ली में पहुंचकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की है तो यहां राजनीतिक गलियारे में कई अटकलें शुरू हो गई हैं.प्रधानमंत्री श्री मोदी ने एक्स पर पोस्ट कर इस मुलाकात के बारे में जानकारी दी है. वैसे मुख्यमंत्री के प्रधानमंत्री से इस मुलाकात के बारे में बताया गया है कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री श्री साय के द्वारा इस मुलाकात के दौरान  प्रधानमंत्री श्री मोदी को छत्तीसगढ़ विजन डॉक्यूमेंट व माओवादी विरोधी अभियानों के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई है. लेकिन जो राजनीतिक विश्लेषक छत्तीसगढ़ की राजनीतिक परिस्थितियों पर लगातार नजर रखते हैं वे यह भी मान कर चल रहे हैं कि इस दौरान छत्तीसगढ़ में मंत्रिमंडल का स्वरूप कैसा हो सकता है ?इसके बारे में भी जरूर चर्चा हुई होगी. और दिल्ली से हरी झंडी मिलने के बाद छत्तीसगढ़ मंत्रिमंडल का शीघ्र विस्तार किया जा सकता है.

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने एक्स पर पोस्ट किया;

"छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री श्री @vishnudsai ने पीएम @narendramodi से मुलाकात की।"छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय ने आज प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की।

जो सीधी सीधी जानकारी है उसके अनुसार मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री श्री साय ने प्रधानमंत्री को अमृतकाल : छत्तीसगढ़ विजन @2047  ‘विजन डॉक्यूमेंट’ के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इसका निर्माण राज्य नीति आयोग द्वारा किया जा रहा है जिसे एक नवंबर को राज्य की जनता को समर्पित किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने विगत छह माह में माओवादी विरोधी अभियानों में की गयी कार्रवाई की जानकारी भी प्रधानमंत्री को दी। उन्होंने बताया कि माओवादी समस्या के समूल उन्मूलन हेतु ज्वाइंट एक्शन प्लान तैयार कर कार्रवाई की जा रही है। 

नियद नेल्लानार योजना (आपका अच्छा गाँव) के बारे में जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री ने बताया कि इस योजना के तहत नक्सलियों के आधार को कमजोर करने व शासन-प्रशासन व ग्रामीणों के बीच परस्पर विश्वास बहाली का कार्य किया जा रहा है।इस योजना के तहत वर्तमान में 23 कैंप खोले गए हैं, जिनमें 90 ग्राम शामिल हैं तथा भविष्य में 29 कैंपों को प्रारंभ करने की योजना है। 

इन खबरों से अलग छत्तीसगढ़ के राजनीतिक विश्लेषको की नजर इस ओर लगी हुई है कि इस मुलाकात के दौरान राज्य के मंत्रिमंडल के विस्तार  पर भी क्या कोई चर्चा हुई है और यदि ऐसी कोई चर्चा हुई है तो क्या छत्तीसगढ़ में मंत्रिमंडल का विस्तार शीघ्राले देखने मिल सकता है. अब चर्चा इस बात पर भी हो रही है कि यदि मंत्रिमंडल का विस्तार होगा तो इसका स्वरूप क्या हो सकता है इसमें किस= किस को जगह मिल सकती है. 

 उल्लेखनीय है कि राज्य में मंत्री के दो पद रिक्त हैं. एक पद शुरू से रिक्त है. राज्य में शुरुआत में मंत्रिमंडल में सिर्फ 12 लोगों को जगह मिल सकी है. यहां प्रतिशत के अनुसार कुल 13 मंत्री बनाया जा सकते हैं. इस तरह से यहां एक मंत्री पद शुरू से रिक्त है.दूसरी तरफ अभी-अभी स्कूल शिक्षा मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने  ने सांसद पद पर निर्वाचित होने के बाद इस्तीफा दे  दिया है. उनके इस्तीफा के बाद से मंत्री का एक पद और रिक्त हो गया है.

 इन पदों के रिक्त होने के बाद छत्तीसगढ़ में राजनीतिक गलियारे में लगातार अटकलें चल रहे हैं कि यहां अब किस मंत्री पद की जिम्मेदारी दी जा सकती है. कहा जा रहा है कि मंत्री मनाते समय जाति का समीकरण को ध्यान रखा जाएगा क्षेत्र को ध्यान में रखा जाएगा लेकिन अब वरिष्ठता कोई मुद्दा नहीं रह गया है. यह इसलिए कहा जा सकता है क्योंकि अभी मंत्रिमंडल में जो सदस्य हैं ज्यादातर सब नए हैं. और पुराने चेहरों को मंत्रिमंडल से दूर रखा गया है.संभवत दरकिनार किया गया है. इसी को ध्यान में रखकर नए चेहरे को मंत्री बनाए जाने की बातें चर्चाओं में है. जो स्थितियां है कहा जा रहा है कि दुर्ग जिले से तो अभी किसी को भी मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिलने वाला है.

 शिक्षा मंत्री बृजमोहन अग्रवाल रायपुर क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं तो कहा जा रहा है कि रायपुर संसदीय क्षेत्र से भी किसी को मंत्री बनाया जा सकता है. ऐसे में 80 वर्ग का प्रतिनिधित्व करने वाले खुशवंत साहेब का नाम सामने आ सकता है. एससी वर्ग से प्रतिनिधित्व मिल जाएगा वहीं रायपुर संसदीय क्षेत्र से भी एक को मंत्री बनने का  मौका मिल जाएगा. दूसरी तरफ अभी चर्चा में है कि मंत्रिमंडल में एक और महिला मंत्री को शामिल किया जा सकता है. ऐसे में भावना बोहरा और सुश्री लता उसेंडी का नाम सामने आ रहा है. कि इनमें से किसी एक को मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है. पिछले 6 महीने के दौरान दोनों सदस्यों  का विधानसभा में प्रदर्शन शानदार रहा है. अभी आगामी 22 जुलाई से विधानसभा का मानसून सत्र  शुरू होने जा रहा है तो संभावना है कि उसके पहले हमें दोनों मंत्री मिल जाएंगे.

 अभी मंत्रिमंडल के सदस्य और उनके विभाग

नामविभाग

मुख्यमंत्री, श्री विष्णुदेव साय

 मुख्यमंत्री, श्री विष्णुदेव साय

 सामान्य प्रशासन, खनिज साधन, ऊर्जा, जनसंपर्क, वाणिज्यिक कर (आबकारी), परिवहन एवं अन्य विभाग (जो किसी मंत्री को आबंटित नहीं हुआ हो)

उप मुख्यमंत्री , श्री अरूण साव

उप मुख्यमंत्री , श्री अरूण साव

 लोक निर्माण, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, विधि और विधायी कार्य एवं नगरीय प्रशासन विभाग।

श्री विजय शर्मा

उप मुख्यमंत्री , श्री विजय शर्मा

 गृह एवं जेल, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, तकनीकी शिक्षा एवं रोजगार, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग।   

श्री बृजमोहन अग्रवाल

श्री बृजमोहन अग्रवाल

 स्कूल शिक्षा, उच्च शिक्षा, संसदीय कार्य, धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व, पर्यटन एवं सांस्कृति विभाग।

श्री रामविचार नेताम

श्री रामविचार नेताम

 आदिम जाति विकास, अनुसूचित जाति विकास, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक विकास, कृषि विकास एवं किसान कल्याण विभाग।

श्री  दयालदास बघेल

श्री  दयालदास बघेल
 खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग।

श्री केदार कश्यप

 वन एवं जलवायु परिवर्तन, जल संसाधन, कौशल विकास एवं सहकारिता विभाग।

श्री लखनलाल देवांगन

श्री लखनलाल देवांगन

 वाणिज्य और उद्योग एवं श्रम विभाग।

श्री ओ.पी चौधरी

श्री ओ.पी चौधरी

 वित्त, वाणिज्यिक कर, आवास एवं पर्यावरण, योजना आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग।

श्री श्याम बिहारी जायसवाल

श्री श्याम बिहारी जायसवाल

 लोक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, चिकित्सा शिक्षा, बीस सूत्रीय कार्यान्वयन विभाग।

श्री टंकराम वर्मा

श्री टंकराम वर्मा

 खेलकूद एवं युवा कल्याण, राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग।

श्रीमती लक्ष्मी राजवाड़े

श्रीमती लक्ष्मी राजवाड़े

 महिला एवं बाल विकास तथा समाज कल्याण विभाग।