Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

नेता प्रतिपक्ष राहुल गांधी समेत विपक्षी सांसदों ने नीट पेपर लीक चर्चा के दौरान माइक बंद करने का आरोप लगाते लोकसभा स्पीकर से की शिकायत

  सदन में विपक्षी सांसदों के माइक बंद करने का मामला एक बार फिर से तूल पकड़ने लगा है। नेता प्रतिपक्ष राहुल गांधी समेत विपक्षी सांसदों ने नीट ...

Also Read

 

सदन में विपक्षी सांसदों के माइक बंद करने का मामला एक बार फिर से तूल पकड़ने लगा है। नेता प्रतिपक्ष राहुल गांधी समेत विपक्षी सांसदों ने नीट पेपर लीक चर्चा के दौरान माइक बंद करने का आरोप लगाते हुए इसकी शिकायत लोकसभा स्पीकर (Lok Sabha Speaker ) ओम बिरला (Om Birla) से की। आरोप पर लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने तुरंत जवाब दिया और कहा कि यहां पर कोई बटन नहीं होता है, जिससे माइक को बंद किया जाए। आप खुद यहां आकर देख सकते हैं।


बता दें कि नीट पेपर लीक मामला सरकार के लिए परेशानी का सबब बन गया है। इसे लेकर पूरे दूेश में विरोध प्रदर्शन हो रहा है। इससे सरकार बैक फुट पर है। 

विपक्ष ने शुक्रवार (28 जून) को भी एक बार फिर से लोकसभा में नीट पेपर लीक पर चर्चा के लिए समय देने की मांग की। हालांकि, स्पीकर ओम बिरला ने तुरंत समय देने से इनकार कर दिया और कहा कि आपको चर्चा के लिए आगे वक्त मिलेगा।

इसके बावजूद विपक्षी सांसदों की तरफ से लगातार मांग की जा रही थी कि नीट पेपर लीक पर चर्चा की जाए। इस पर स्पीकर ओम बिरला ने कहा कि आप सभी लोगों को पहले ही अवगत कराया गया है कि राष्ट्रपति के अभिभाषण पर जवाब के लिए आपको समय दिया जाएगा। मैं सरकार से भी अपेक्षा करूंगा कि वह आपके जरिए उठाए गए सभी मुद्दों पर जवाब देगी। इस दौरान विपक्षी सांसद लगातार नीट को लेकर हंगामा करते रहे।

ओम बिरला ने कहा कि आपको अभिभाषण पर बोलने के लिए जब समय दिया जाएगा तो आप दो नहीं, बल्कि आप जितना समय लेना चाहे ले लें। उन्होंने राहुल गांधी से कहा कि आप नेता प्रतिपक्ष हैं। ऐसे में आपसे मेरी अपेक्षा है कि आप संसदीय मर्यादाओं का पालन करेंगे। इस दौरान राहुल समेत विपक्षी सांसदों ने स्पीकर से कहा कि हमारे माइक को बंद कर दिया जाता है। इसके जवाब में बिरला ने कहा कि मैं माइक बंद नहीं करता हूं। पूर्व में भी आपको व्यवस्था दी गई थी। यहां कोई बटन नहीं होता

राहुल गांधी ने कहा कि हम विपक्ष और सरकार की ओर से भारत के छात्रों को एक संयुक्त संदेश देना चाहते हैं कि ये हमारे लिए महत्वपूर्ण मुद्दा है। लिहाजा हमने सोचा कि छात्रों का सम्मान करने के लिए हम आज नीट पर चर्चा करेंगे, एक समर्पित चर्चा। हालांकि, स्पीकर नीट पर चर्चा करने में दिलचस्पी नहीं दिखाई।