Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

जिला प्रशासन महिला एवं बाल विकास विभाग की टीम ने रोके सात बाल विवाह, जिला प्रशासन महिला एवं बाल विकास विभाग मिशन वात्सल्य की सक्रीय टीम ने सात नाबालिगों की सात फेरें होने से बचाया

 कवर्धा   कवर्धा,  जिला कलेक्टर एवं अध्यक्ष जिला बाल संरक्षण समिति श्री जनमेजय महोबे के निर्देशानुसार जिला कार्यक्रम अधिकारी एवं जिला महिला ...

Also Read

 कवर्धा


  कवर्धा,  जिला कलेक्टर एवं अध्यक्ष जिला बाल संरक्षण समिति श्री जनमेजय महोबे के निर्देशानुसार जिला कार्यक्रम अधिकारी एवं जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी के मार्गदर्शन एवं जिला बाल संरक्षण अधिकारी के नेतृत्व में मिशन वात्सल्य महिला एवं बाल विकास विभाग जिला बाल संरक्षण इकाई टीम द्वारा कार्य योजना तैयार कर जिले में बाल विवाह प्रभावी रोकथाम के प्रति जन जागरूकता लाने विशेष अभियान चलाया जा रहा है।

जिला कलेक्टर श्री जनमेजय महोबे ने बाल विवाह की पूर्णतः रोकथाम के लिये सभी विभाग के अधिकारियों को जिले मे होने वाले सभी विवाह आयोजनों पर पैनी नजर रखने तथा निरंतर निगरानी के निर्देश दिए है। बाल विवाह रोकथाम के लिए महिला एवं बाल विकास विभाग नोडल विभाग है। महिला एवं बाल विकास विभाग मिशन वात्सल्य जिला बाल संरक्षण इकाई चाईल्ड हेल्प लाईन 1098 विशेष किशोर पुलिस इकाई की टीम गांव-गांव जाकर बाल संरक्षण समितियों संबंधित विभागों जन प्रतिनिधियों समाज प्रमुखों आम नागरिकों सभी स्टेक होल्डरों के साथ बैठक, प्रशिक्षण कार्यशाला जागरूकता कार्यक्रम, नुक्कड़ नाटक, नारा, वाल लेखन मुनादी पाम्प्लेट एवं प्रचार-प्रसार सामग्री वितरण एवं विभिन्न माध्यमों से व्यापक प्रचार-प्रसार कर बाल अधिकार संरक्षण बाल विवाह प्रतिशेध अधिनियम 2006 तथा बाल विवाह से होने वाले नुकसान परेशानियों एवं कानूनी प्रावधानों की जानकारी देकर लोगो में निरंतर जागरूकता लाने का कार्य कर रहें हैं।

  बाल विवाह रोकथाम की त्वरीत प्रभावी कार्यवाही के लिये कलेक्टर श्री जनमेजय महोबे के निर्देशानुसार जिला जनपद ग्राम पंचयात एवं वार्ड स्तर पर बाल संरक्षण टीम गठित है। साथ ही शासन द्वारा सभी बाल विकास सेवा परियोजना अधिकारियों को बाल विवाह प्रतिशेध अधिकारी नियुक्त किया है, जिन्हें चौकन्ना होकर निगरानी के निर्देश दिया गया है। राम नवमीं अक्षय तृतीया शुभ मुहुर्त एवं विशेष अवसरों में अधिक संख्या में विवाह आयोजन होता है, जिसमें बाल विवाह होने की संभावना होती है। इसके लिए बाल विवाह रोकथाम टीम को पूर्व से अलर्ट किया गया है। बाल विवाह आयोजन की जानकारी या सूचना मिलने पर तत्काल बाल संरक्षण समिति महिला एवं बाल विकास विभाग मिशन वात्सल्य जिला बाल संरक्षण इकाई चाईल्ड हेल्प लाईन 1098 विशेष किशोर पुलिस इकाई की टीम द्वारा मौके स्थल पर जाकर संबंधित बालक-बालिका की जन्म प्रमाण पत्र, शैक्षणिक अंकसूची के माध्यम से उम्र सत्यापन किया गया, जिसमें इस वर्ष कुल सात नाबालिग पाए, जिनका बाल विवाह रोकथाम की कार्यवाही किया गया। साथ ही बाल विवाह प्रतिशेध अधिनियम 2006 की विस्तृत जानकारी दिए। इस प्रकार वर्ष 2024 में कुल 07 बाल विवाह होने से पहले ही सक्रिय टीम ने रूकवा लिया