Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

टाटा ग्रुप जल्द ही देशभर में चार्जिंग स्टेशन बनाने की योजना बना रहा, जानिए किस कंपनी के साथ किए MoU साइन?

  Tata Group Charging Stations: टाटा ग्रुप जल्द ही देशभर में चार्जिंग स्टेशन बनाने की योजना बना रहा है. इस योजना के लिए टाटा समूह की कंपनी...

Also Read

 Tata Group Charging Stations: टाटा ग्रुप जल्द ही देशभर में चार्जिंग स्टेशन बनाने की योजना बना रहा है. इस योजना के लिए टाटा समूह की कंपनी टाटा पैसेंजर इलेक्ट्रिक मोबिलिटी लिमिटेड ने हाल ही में शेल इंडिया मार्केट्स प्राइवेट लिमिटेड के साथ एक गैर-बाध्यकारी समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं.

दोनों कंपनियां इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए रेंज की चिंता और चार्जिंग पहुंच जैसी चुनौतियों का समाधान करने के लिए अपनी ताकत और संसाधनों का लाभ उठाएंगी. वर्तमान में रेंज और चार्जिंग की समस्या के कारण लोग इलेक्ट्रिक वाहनों को तेजी से नहीं अपना रहे हैं.

फिलहाल ईवी वाहनों की कम बिक्री का एक अहम कारण चार्जिंग स्टेशनों की कमी है. इस साझेदारी के तहत टाटा पैसेंजर और शेल इंडिया दोनों कंपनियां लोगों को इलेक्ट्रिक वाहन अपनाने के लिए प्रोत्साहित करेंगी. दोनों कंपनियां सुविधा के मुताबिक पेमेंट सिस्टम और लॉयल्टी प्रोग्राम शुरू करने की भी योजना बना रही हैं.

दोनों कंपनियां कहां बनाएंगी चार्जिंग स्टेशन? (Tata Group Charging Stations)

दोनों कंपनियों के बीच इस साझेदारी के माध्यम से, शेल के राष्ट्रव्यापी ईंधन स्टेशन नेटवर्क और टाटा पैसेंजर इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के चार्जिंग स्टेशनों का नेटवर्क भारतीय सड़कों पर चलने वाले टाटा के 1.4 लाख इलेक्ट्रिक वाहनों के विवरण का उपयोग करके बनाया जाएगा. टाटा कंपनी का कहना है कि चार्जिंग स्टेशन वहां बनाए जाएंगे जहां टाटा इलेक्ट्रिक वाहनों के मालिक अक्सर आते हैं.

इलेक्ट्रिक पैसेंजर वाहनों के मामले में टाटा पैसेंजर इलेक्ट्रिक मोबिलिटी की बाजार हिस्सेदारी 71% है. कंपनी ने गुरुग्राम में अपना पहला ईवी-एक्सक्लूसिव स्टोर पेश किया है. कंपनी ने देश के चार्जिंग बुनियादी ढांचे को विकसित करने के लिए कई चार्ज प्वाइंट ऑपरेटरों के साथ भी काम किया है.

साझेदारी से इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा मिलेगा

यह साझेदारी इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने और वाहन उत्सर्जन को कम करने के लक्ष्य का भी समर्थन करेगी.