Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

उप मुख्यमंत्री श्री विजय शर्मा के पहल और प्रयासों से कबीरधाम जिले के दो श्रमिक कर्नाटक से सकुशल घर लौटे, श्रमिको के परिजनों ने सकुशल वापसी के लिए उपमुख्यमंत्री श्री शर्मा से मदद मांगी थी

 बिग ब्रेकिंग,कबीरधाम गांव के एक युवक ने इन दोनों युवक को अच्छा काम दिलाने का ख्वाब देकर नागपुर के गए और वहां से धोखे से कर्नाटक ले गए, कर्न...

Also Read

 बिग ब्रेकिंग,कबीरधाम



गांव के एक युवक ने इन दोनों युवक को अच्छा काम दिलाने का ख्वाब देकर नागपुर के गए और वहां से धोखे से कर्नाटक ले गए, कर्नाटक के धारवाड़ में कराते थे गन्ना कटाई का काम, खेतों में बने झोपड़ी में ठहराए, मजदूरी भी मिलती थी कम

श्रमिको  की छत्तीसगढ़, और कबीरधाम जिले में वापसी होने से उनके माता-पिता और उनके अभिभावकों ने खुशी का इजहार किया

परिवारजनों ने उपमुख्यमंत्री श्री विजय शर्मा और कलेक्टर श्री जनमेजय महोबे के पहल और प्रयासों के लिए आभार जताया

कलेक्टर जनमेजय महोबे ने ग्रामीण युवकों को अच्छे काम दिलाने के बहाने, बहला-फुसलाकर बाहर ले जाने वाले एजेंटों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिए

श्रमिक को उनकी पारिश्रमिक 32 हजार रुपए राशि नगद श्रमिक को भुगतान भी कराया गया और दोनों श्रमिकों को उनके अभिभावक को सौंप दिया गया


कवर्धा। छत्तीसगढ़ के उप मुख्यमंत्री एवं गृहमंत्री श्री विजय शर्मा के प्रयासों और उनके सार्थक पहल से छत्तीसगढ़ के कबीरधाम जिले दो ग्रामीण श्रमिक युवक 

शशिकांत यादव और गंगाप्रसाद परस्ते को जिला प्रशासन की टीम ने कर्नाटक के धारवाड़ से सुरक्षित और सहकुशल वापस ला लिया है। इन दोनों ग्रामीण युवक के माता-पिता तथा उनके परिजनों ने अपने बेटे की गांव वापसी के लिए उप मुख्यमंत्री एवं कवर्धा विधायक श्री शर्मा से मदद मांगी थी। उपमुख्यमंत्री ने पूरी संवेदनशीलता से पूरे मामले को संज्ञान में लिया था और कबीरधाम जिले के इन दिनों श्रमिको की सकुशल वापसी के लिए कलेक्टर श्री जनमेजय महोबे से चर्चा कर कर्नाटक टीम भेजने के निर्देश दिए। 

 कलेक्टर के निर्देश पर इन दोनों श्रमिको के लोकेशन की जानकारी लेने के लिए जिला साइबर सेल की मदद ली। श्रमिको की ठहरने की जानकारी मिलते ही जिला प्रशासन द्वारा प्रशासनिक, श्रम विभाग और पुलिस विभाग की संयुक्त टीम बना कर कर्नाटक के लिए रवाना हुए। 

 कलेक्टर श्री महोबे ने बताया कि कबीरधाम जिले के श्री शशिकांत यादव पिता श्री महापति यादव और गंगाप्रसाद परस्ते पिता श्री मातवर परस्ते निवासी ग्राम बांकी ग्राम पंचायत केसमर्दा थाना तरेगांव विकासखण्ड बोड़ला के रहने वाले है। ये दोनों श्रमिक माता-पिता और उनके अभिभावकों ने बताया था कि ये दोनों कर्नाटक कमाने खाने गए थे वहां पर वे किसी कम्पनी में गन्ना कटाई का काम करते थे। उनको वहां से कहीं भी आने -जाने नहीं दिया जा रहा था। उपमुख्यमंत्री एवं गृहमंत्री के निर्देश पर त्वरित निर्णय लेते हुए  श्रम पदाधिकारी कवर्धा एवं धारवाड़ कर्नाटक राज्य के प्रशासन एवं श्रम विभाग के साथ सामंजस्य स्थापित कर तत्काल उक्त दोनों श्रमिकों को मुक्त करवाने के लिए टीम गठित की गई। 

कबीरधाम जिले से  गठित टीम 8 जनवरी को कवर्धा से कर्नाटक के लिए रवाना किया गया था। दोनों श्रमिकों को 12 जनवरी को  देर शाम  कवर्धा लाया गया। कबीरधाम लौटने पर श्रमिको ने बताया कि गांव के एक युवक ने इन दोनों युवक को अच्छा काम दिलाने का ख्वाब देकर नागपुर के गए और वहां से धोखे से कर्नाटक ले गए, कर्नाटक के धारवाड़ में गन्ना कटाई का काम कराते थे। खेतों में बने झोपड़ी में ठहराए, मजदूरी भी कम मिलती थी।


कलेक्टर श्री महोबे ने ग्रामीण युवकों को अच्छे काम दिलाने के बहाने, बहला-फुसलाकर बाहर ले जाने वाले एजेंटों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिए।


जिला श्रम पदाधिकारी श्री आरके प्रधान ने बताया कि दोनों श्रमिको की सकुशल वापसी के साथ ही 

श्रमिक को उनकी पारिश्रमिक 32 हजार रुपए नगद भुगतान भी कराया गया। दोनों श्रमिकों को उनके अभिभावक को सौंप दिया गया। श्रमिक एवं उनके अभिभावकों द्वारा छत्तीसगढ़ शासन और कलेक्टर का आभार व्यक्त किया गया। उक्त टीम में श्री गौरव महोबिया, श्रम निरीक्षक एवं श्री सुनील सायतोडें, श्रम कल्याण निरीक्षक, एवं श्री रविन्द्र नेताम, आरक्षक थे