Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री पद की दौड़ में लता उसेंडी का नाम आगे

  छत्तीसगढ़।  असल बात न्यूज़।।    छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री बनने की दौड़ में भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुश्री लता उसेंडी का ...

Also Read

 छत्तीसगढ़।

 असल बात न्यूज़।।   

छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री बनने की दौड़ में भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुश्री लता उसेंडी का नाम अब प्रमुखता से सामने आने की जानकारी मिल रही है। बताया जा रहा कि पार्टी का राष्ट्रीय नेतृत्व छत्तीसगढ़ में आदिवासी वर्ग से ही किसी को मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी देना चाहता है। और इसके लिए ऐसे नाम की भी तलाश की जा रही है जिस पर कोई विवाद ना हो। ऐसे में सुश्री लता उसेंडी का नाम प्रमुखता से सामने आ गया है।

पार्टी नेतृत्व को यह मालूम है कि 15 साल सत्ता में रहने के बाद लोगों ने पार्टी को सत्ता से क्यों बेदखल कर दिया। यह भी समझ आ गया है इस बेदखली के पीछे पार्टी के कार्यकर्ताओं और समर्थकों की भी बड़ी भूमिका रही है। वही पार्टी नेतृत्व के ध्यान में यह भी है कि छत्तीसगढ़ में पिछले 5 वर्षों के दौरान अनुसूचित जाति, जनजाति वर्ग (एससी और एसटी वर्ग) की भारी उपेक्षा हुई है उनके अधिकारों का हनन करने की कोशिश की गई है जिससे इस वर्ग के लोगों का पिछली सरकार के प्रति भारी आक्रोश व्याप्त रहा है। ऐसे में भारतीय जनता पार्टी, यहां,इस बार एससी एसटी वर्ग को प्रमुखता से सामने लाना चाहती है, महत्व देना चाहती है।

चुनाव परिणाम आ जाने के बाद से छत्तीसगढ़ का मुख्यमंत्री कौन बनेगा को लेकर यहां तरह-तरह के लगातार के कयास लगाए जा रहे हैं। और जैसे-जैसे दिन बदलते जा रहा है दिन आगे बढ़ता जा रहा है मुख्यमंत्री पद के प्रमुख दावेदारों के नाम भी बदलते जा रहे हैं। 

कहा जा रहा है कि सुश्री लता उसेंडी का नाम, शांत, सरल छबि और पढ़ी-लिखी होने के कारण आगे आया है। आदिवासी वर्ग का प्रतिनिधित्व करने तथा साफ सुथरी छवि की वजह से उन्हें पसंद किया जा रहा है। लता उसेंडी युवा भी है और वे पूर्व में दो बार मंत्री भी रह चुकी हैं।


इधर ताजा जानकारी के अनुसार भारतीय जनता पार्टी ने तीन राज्यों में पार्टी विधायक दल के नेता के चुनाव के लिए केंद्रीय पर्यवेक्षकों की नियुक्तियां कर दी है। छत्तीसगढ़ के लिए केंद्रीय जनजाति मंत्री अर्जुन मुंडा, केंद्रीय बंदरगाह मंत्री सर्वानंद सोनोवाल और राष्ट्रीय महासचिव दुष्यंत कुमार गौतम को केंद्रीय पर्यवेक्षक बनाया गया है। 
राजस्थान प्रदेश के लिए केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, राज्यसभा सदस्य सरोज पांडेय और राष्ट्रीय महासचिव विनोद तावड़े तथा मध्य प्रदेश के लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, पार्टी के ओबीसी मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के लक्ष्मण, व राष्ट्रीय सचिव सुश्री आशा लकड़ा को केंद्रीय पर्यवेक्षक बनाया गया है। 
प्राप्त जानकारी के अनुसार पार्टी के विधायक दल के नेता के चयन के लिए नियुक्त केंद्रीय पर्यवेक्षक रायपुर आएंगे तथा यहां संगठन के लोगों से मुलाकात कर जरूरी चर्चा करेंगे।