Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

श्वसन संबंधी रोग फैलने की रिपोर्टों के मद्देनजर मेडिकल कालेजों एवं निजी चिकित्सालयों में उपचार की पुख्ता व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश

  रायपुर.   असल बात न्यूज़।।    चीन में पिछले कुछ दिनों से अज्ञात बीमारी से बच्चों में श्वसन संबंधी रोग फैलने की रिपोर्टों के मद्देनजर राज्य...

Also Read




 रायपुर. 

असल बात न्यूज़।।   

चीन में पिछले कुछ दिनों से अज्ञात बीमारी से बच्चों में श्वसन संबंधी रोग फैलने की रिपोर्टों के मद्देनजर राज्य के शासकीय स्वास्थ्य केंन्द्रों, जिला चिकित्सालयों, मेडिकल कालेजों एवं निजी चिकित्सालयों में उपचार की पुख्ता व्यवस्था सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है. भारत सरकार ने भी संबंध में राज्यों के लिए  एडवाइजरी जारी कर दी है। छत्तीसगढ़ में भी लगभग सभी स्थानों पर लोगों में सर्दी, खांसी और उसके बाद बुखार तथा सिर दर्द होने की शिकायतो वाले मरीजों की संख्या बढ़ते जाने की जानकारी सामने आ रही है। और यह भी जानकारी सामने आई है कि ऐसे संक्रमित 25-तीस दिनों से पहले ठीक नहीं हो रहे हैं।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भारत सरकार द्वारा इस संबंध में जारी की गई एडवायजरी के अनुरूप जिलों के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को आवश्यक सावधानियां बरतने को कहा है. भारत सरकार की एडवायजरी के अनुसार उक्त श्वसन संबंधी रोग के भारत में फैलने के संभावना नहीं है, किंतु आपात स्थिति से निपटने के लिए उन्होंने स्वास्थ्य सेवाओं के अंतर्गत मानव संसाधन, बेड, जांच सुविधा एवं इन्फेक्शन कन्ट्रोल प्रेक्टिस इन हेल्थ फैसिलिटी का सुदृढीकरण किया जाना आवश्यक है. 

मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ राज्य के शासकीय स्वास्थ्य केन्द्रों, जिला चिकित्सालय, चिकित्सा महाविद्यालय से संबंद्ध चिकित्सालय एवं निजी चिकित्सालयों से इन्फ्लूएन्जा [ILI-SARI] के प्रकरणों को रिपोर्टिग IHIP-IDSP पोर्टल में कराते हुए स्थिति की नियमित समीक्षा करने को कहा है.गौरतलब है कि मौजूदा इन्फ्लूएंजा और सर्दी के मौसम चलते श्वसन संबंधी बीमारी में वृद्धि हुई है. इससे घबराने की जरूरत नहीं है. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव द्वारा राज्यों और केंद्र-शासित प्रदेशों को लिखे पत्र में, जन स्वास्थ्य और अस्पताल की तैयारियों की तुरंत समीक्षा करने की सलाह दी गई है. मानव संसाधन, अस्पताल में फ्लू के लिए दवाएं और टीके, मेडिकल ऑक्सीजन, एंटीबायोटिक औषधियों, व्यक्तिगत सुरक्षा के उपकरणों, टेस्टिंग किट एवं रिएजेंट, ऑक्सीजन प्लांट और वेंटिलेटर की पर्याप्त उपलब्धता, स्वास्थ्य सेवाओं में संक्रमण की रोकथाम के पर्याप्त उपाय इनमें शामिल हैं.