Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

चक्रवाती तूफान "बिपारजॉय"को देखते हुए भारतीय रेलवे ने भी उठाए कई कदम,50 किमी प्रति घंटे से अधिक हवा का वेग होने पर ट्रेनों को नियंत्रित करने या रोकने के निर्देश

  रायपुर / बिलासपुर। असल बात न्यूज़।।   चक्रवाती तूफान "बिपारजॉय''जिसे काफी गंभीर माना जा रहा है भारत देश के गुजरात में    मांड...

Also Read

 

रायपुर / बिलासपुर।

असल बात न्यूज़।।  

चक्रवाती तूफान "बिपारजॉय''जिसे काफी गंभीर माना जा रहा है भारत देश के गुजरात में  मांडवी-जखाऊ बंदरगाह के पास 14जून की शाम को लैंडफॉल कर सकता है। चक्रवात का असर इसके बाद लगातार चार दिनों तक रहने की संभावना है। इसे देखते हुए देश में व्यापक सुरक्षा उपाय किए जा रहे हैं। रेलवे ने भी इस आपदा से निपटने तैयारियां की हैं। फिलहाल 50 किमी प्रति घंटे से अधिक हवा का वेग होने पर ट्रेनों को नियंत्रित करने या रोकने के निर्देश दे दिया गया है।

                    भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने इस संबंध में आज शाम को नवीनतम बुलेटिन  जारी किया है। बुलेटिन के अनुसार, पूर्वी मध्य अरब सागर के ऊपर बेहद गंभीर चक्रवाती तूफान "बिपारजॉय" बढ़ रहा है और सौराष्ट्र और कच्छ क्षेत्रों को प्रभावित कर सकता है। 11 से 14 जून 2023 तक अगले 4 दिनों के लिए चक्रवात " बिपारजॉय " का पूर्वानुमान पूरे सौराष्ट्र क्षेत्र में बना दिया गया है।

रेलवे से प्राप्त जानकारी के अनुसार तूफान के, सौराष्ट्र और कच्छ क्षेत्रों को प्रभावित करने की उम्मीद है। संवेदनशील वर्गों में भावनगर, महुवा, वेरावल से पोरबंदर क्षेत्र, ओखा से एचएपीए और गांधीधाम क्षेत्र शामिल हैं।14जून की शाम को मांडवी-जखाऊ बंदरगाह के पास लैंडफॉल होने का अनुमान है। भारतीय रेलवे ने सुरक्षा सुनिश्चित करने और चक्रवात के प्रभाव को कम करने के लिए विभिन्न उपायों को लागू किया है, जो इस प्रकार हैं :

1. जोनल रेलवे मुख्यालय में आपदा प्रबंधन कक्ष का सक्रिय होना और विभिन्न विभागों द्वारा चौबीसों घंटे मैनिंग।

2. भावनगर, राजकोट, अहमदाबाद और गांधीधाम में मंडल मुख्यालयों पर आपातकालीन नियंत्रण कक्षों का संचालन।

3. कई स्थानों पर हवा की गति की नियमित निगरानी और 50 किमी प्रति घंटे से अधिक हवा का वेग होने पर ट्रेनों को नियंत्रित करने या रोकने के निर्देश। स्टेशनों पर एनीमोमीटर लगाए गए हैं और हर घंटे के आधार पर हवा की गति की रीडिंग ली जा रही है।

4. वास्तविक समय की निगरानी और समन्वय के लिए ऑनलाइन समूहों का गठन।

5. mausam.imd.gov.in वेबसाइट पर चक्रवात से संबंधित जानकारी की निरंतर निगरानी।

6. आपातकालीन निकासी के लिए पर्याप्त डीजल लोकोमोटिव और कोचिंग रेक की उपलब्धता।

7. डबल स्टैक कंटेनरों के लदान पर रोक और उनके संचलन पर प्रतिबंध।

8. पैसेंजर ट्रेनों के शेड्यूल की समीक्षा और चक्रवात की स्थिति के आधार पर जरूरी फैसले।

9. राहत ट्रेन की तैयारी।

10. चक्रवात/तूफान की स्थिति के दौरान सुरक्षा प्रोटोकॉल के संबंध में लोको पायलटों और सहायक लोको पायलटों की काउंसलिंग। चालक दल के विश्राम के लिए बनाए गए विभिन्न रनिंग रूम में सभी आवश्यक व्यवस्थाएं (भोजन, चिकित्सा आदि) की गई हैं।

11. हवा के मुक्त आवागमन के लिए कोचों के दरवाजे और खिड़कियां खुली रखने के निर्देश।

12. कड़ी निगरानी के लिए गहन फुटप्लेट निरीक्षण किए गए हैं।

13. आरसीडी ईंधन की आवाजाही के लिए सड़क के बुनियादी ढांचे में बाधा आने की स्थिति में चक्रवात के बाद पूरी तरह से ईंधन वाले डीजल इंजनों और भरे हुए आरसीडी ईंधन टैंकों की सामान्य परिचालन में उपलब्धता की व्यवस्था।

14. वैकल्पिक संचार व्यवस्था

A.संचार विफलता के मामले में सैटेलाइट फोन, एफसीटी और डीओटी फोन सहित आपातकालीन नियंत्रण कक्ष।

B.  साइट संचार के लिए वीएचएफ सेट उपलब्ध हैं । 

15. वैकल्पिक विद्युत व्यवस्था

A.सभी डिपो के टावर वैगन चालक व टीआरडी स्टाफ अलर्ट पर रहेगा।

B. अगर पावर ग्रिड की आपूर्ति बाधित होती है, तो ट्रेन सेवाएं डीजल ट्रैक्शन पर चलेंगी।

C.  जंक्शन स्टेशनों, कंट्रोल रूम और प्रमुख कॉलोनियों, पंपों आदि पर बिजली की आपूर्ति विफल होने पर डीजी सेट के माध्यम से बिजली की आपूर्ति की जाएगी।

16. मटेरियल, मशीनरी और मैन पावर रिजर्व रखने की व्यवस्था।

A. जमीन के साथ-साथ पहियों पर सभी महत्वपूर्ण सामग्रियों जैसे मलबे, गिट्टी, खदान की धूल और खदान की धूल का स्टेशनवार विवरण तैयार किया गया है।

B.  वैगनों में सामग्री की लोडिंग की व्यवस्था की गई है और रात में लोडिंग जारी रहेगी

C. पोकलेन, जेसीबी मशीन आदि किराए पर ली गई हैं और गोताखोरों के ठहरने की व्यवस्था की गई है।

D. भारी अर्थ मूविंग मशीनरी, ट्रक, रस्सी, चेन आरी, पानी निकालने वाले पंप, पिकअप वैन आदि रखने वाली एजेंसियों के विवरण का आकलन किया गया है और उन्हें अलर्ट पर रखा गया है।

E.  विभागीय और संविदात्मक दोनों प्रकार से जनशक्ति जुटाई गई है । 

F. बेहतर समन्वय के लिए द्वारिका, जामनगर और सुरेंद्रनगर स्टेशनों पर विभिन्न शाखाओं के पर्यवेक्षकों वाली 3 टीमों का गठन किया गया है।

17. ट्रैक और पुलों की लगातार पेट्रोलिंग की जा रही है।

18. सीओपी और एफओबी की निगरानी करना :पूर्व सर्वेक्षण और सीटों की आवश्यक सुरक्षा की जा चुकी है। सभी स्टेशन प्लेटफार्म शेल्टर को उचित रूप से सुरक्षित किया गया है । 

19. पुलों (60 किमी प्रति घंटे की अधिकतम हवा की गति) पर आवागमन के लिए यातायात प्रतिबंध लगाने के लिए हवा के वेग को प्रति घंटे के आधार पर मापा और निगरानी की जा रही है। मानसून सावधानियों को भी पूरी तरह से लागू किया जाएगा।

20. ट्रैक के पास कमजोर पेड़ों की पहचान और छटाई की जा चुकी है ।

21. सुरक्षा के लिए विशेष निर्देश, जिसमें एलसी बूम बंद करना और पोर्टा केबिन से काम करने वाले एलसी से कर्मचारियों की वापसी शामिल है।

22. ओएचई और पारेषण लाइनों की निगरानी और निरीक्षण, बिजली अधिकारियों के साथ संपर्क, और अतिरिक्त बिजली उपकरणों का प्रावधान।

23. सिग्नलिंग और दूरसंचार व्यवस्था

A.डीजी सेटों और स्पेयर पार्ट्स की उपलब्धता की जा चुकी है । 

B. आपातकालीन संचार के लिए 15 एफसीटी, एआरटी/एआरएमई में 2 सैटेलाइट फोन और वॉकी टॉकी सेट का उपयोग किया जाएगा।

24. रणनीतिक स्थानों पर एआरटी/एआरएमई (दुर्घटना राहत ट्रेन/दुर्घटना राहत चिकित्सा उपकरण) की तैयारी। सभी कर्मचारी तैनात एवं तैयार हैं । व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण जैसे हेलमेट, जूते आदि का उपयोग करने का निर्देश दिया गया है । 

25. आरपीएफ द्वारा सुरक्षा व्यवस्था

A. आपात स्थिति में सहायता के लिए एक RPSF (रेलवे सुरक्षा विशेष बल) कंपनी (कंपनी) की तैनाती।

B. आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए आस-पास के डिवीजनों की RPSF कंपनी को चक्रवात संभावित क्षेत्र में तैनात किया गया है।

C. अधिकारियों को चक्रवात के मद्देनजर जीआरपी, शहर पुलिस, नागरिक अधिकारियों, एसडीआरएफ और एनडीआरएफ के साथ समन्वय करने और आपात स्थिति में आवश्यक सहायता लेने की सलाह दी गई है।

26. फंसे यात्रियों के लिए व्यवस्था

A. जल और खाद्य सामग्री के पर्याप्त स्टॉक के साथ चक्रवात प्रभावित अवधि के दौरान खानपान स्टॉल खुले रहेंगे।

B. यात्रियों को सतर्क करने के लिए चक्रवात की स्थिति के बारे में नियमित घोषणा की जाएगी।

C. चक्रवात संभावित क्षेत्रों में विभिन्न स्टेशनों पर हेल्प डेस्क खोला गया है।

D. जरूरत पड़ने पर यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने के लिए राज्य परिवहन सेवाओं के साथ गठजोड़।

27. आपात कालीन चिकित्सा की तैयारी :

A.अस्पतालों और स्वास्थ्य इकाइयों में एंबुलेंस और पर्याप्त दवाएं तैयार रखी जाती हैं

B. जरूरत पड़ने पर मरीजों को शिफ्ट करने के लिए चक्रवात क्षेत्र में चिकित्सा राज्य प्राधिकरण और पैनलबद्ध अस्पताल संपर्क में हैं।

C. रेलवे मेडिकल टीम राज्य मेडिकल टीम के संपर्क में है और उनके साथ समन्वय कर रही है और आपात स्थिति में मरीजों को स्थानांतरित करने के लिए सूचीबद्ध अस्पतालों के साथ भी।

D. गुजरात राज्य एम्बुलेंस टोल फ्री नंबर 108 को अलर्ट किया गया।

E. अन्य स्थानीय अस्पतालों को भी हताहतों की संख्या से निपटने के लिए अलर्ट कर दिया गया है।

F. मुंबई में सभी डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ अलर्ट पर हैं ।

28. रेलवे बोर्ड वार रूम से सतत निगरानी की जा रही है

[12/06, 10:06 pm] +91 97524 48459: पश्चिम रेलवे में बिपोरजोय चक्रवात के प्रभाव की  संभावना को देखते हुए ट्रेन नंबर 12905 पोरबंदर शालीमार एक्सप्रेस  दिनांक 14 जून एवं 15 जून को कैंसिल रहेगी । इसी प्रकार ट्रेन नंबर 12906 शालीमार पोरबंदर एक्सप्रेस  दिनांक 16 जून एवं 17 जून को कैंसिल रहेगी ।


ट्रेन नंबर 12950 संतरागाछी पोरबंदर एक्सप्रेस दिनांक 11 जून को अहमदाबाद स्टेशन में शॉर्ट टर्मिनेट होगी। ट्रेन नंबर 22906 शालीमार ओखा एक्सप्रेस दिनांक 13 जून को सुंदरनगर  स्टेशन में  शॉर्ट टर्मिनेट होगी।

ट्रेन नंबर 22829 भुज शालीमार एक्सप्रेस दिनांक 13 जून को अहमदाबाद स्टेशन से प्रारंभ  होगी। ट्रेन नंबर 12940 पोरबंदर संतरागाछी एक्सप्रेस दिनांक 16 जून को अहमदाबाद स्टेशन से प्रारंभ होगी।