Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

स्वामी श्री स्वरुपानंद सरस्वती महाविद्यालय में आनलाईन रंगोली व व्यंजन प्रतियोगिता का आयोजन

  भिलाई। असल बात न्यूज़। स्वामी श्री स्वरूपांनद सरस्वती महाविद्यालय, हुडको भिलाई के बायोटेक्नोलाजी विभाग द्वारा छट पर्व के अवसर पर आनलाईन रं...

Also Read

 भिलाई। असल बात न्यूज़।

स्वामी श्री स्वरूपांनद सरस्वती महाविद्यालय, हुडको भिलाई के बायोटेक्नोलाजी विभाग द्वारा छट पर्व के अवसर पर आनलाईन रंगोली व परंपरागत व्यंजन बनाओं प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम संयोजिका डा. शिवानी शर्मा विभागाध्यक्ष बायोटेक्नोलाजी ने बताया विद्यार्थी छट पर्व में परंपरागत रंगोली से घर-आंगन को सजाते है साथ ही त्यौहार पर परंपरागत व्यंजनों की खुशबू  महकने लगती है। विद्यार्थियों को अपनी संस्कृति व परंपरा से जोड़ने के उद्देशय  से कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें विद्यार्थियों को रंगोली व व्यंजन बनाते हुये फोटो और विडियो भेजना था उसी के आधार पर मूल्यांकन किया गया।

महाविद्यालय के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा. दीपक शर्मा ने स्टाफ एवं विद्यार्थियों को छट पर्व की बधाई देते हुए कहा कि विभिन्न त्यौहारो पर आयोजित प्रतियोेगिता से विद्यार्थियों के रचनात्मक क्षमता एवं कल्पना को साकार करने का अवसर मिलता है।

कार्यक्रम आयोजन के लिये बधाई देते हुये प्राचार्य डा. हंसा शुक्ला ने कहा त्यौहार का आनंद दोगुना हो जाता है जब आंगन रंगोली व दियों से सजा हो। स्वयं के बनाये व्यंजनों का स्वाद ही अलग होता है जो स्वादिष्ट  होने के साथ ही पौष्टिक भी होते है। परंपरागत रुप से सभी अपने घरों में विभिन्न प्रकार के व्यंजन बनाते है जिसकी खुशबू आस-पास फैलकर खुशनुमा  माहौल बना देती है।





प्रतियोगिता में विद्यार्थियों ने उत्साह पूर्वक भाग लिया जिसमें निर्णायक के रुप में डा. रचना पाण्डेय शिक्षा विभाग एवं स.प्रा उषा  साहू शिक्षा  विभाग उपस्थित हुई।

विजयी प्रतिभागियों के नाम इस प्रकार है-

रंगोली प्रतियोगिताः-प्रथम-शिल्पा यादव बी.एस.सी.-प्रथम वर्ष, द्वितीय- के. हेमा बी.एस.सी.-प्रथम वर्ष तृतीय- मिनाती बेहरा बी.एड.-तृतीय सेमेस्टर एवं संजीता पाल बी.एड.-तृतीय सेमेस्टर

व्यंजन प्रतियोगिताः- प्रथमः- समीक्षा मिश्रा एम.एस.सी.-माईक्रोबायोलाॅजी-तृतीय सेमेस्टर

कार्यक्रम को सफल बनाने में सहायक प्राध्यापक शिरीन  अनवर ने विशेष सहयोग प्रदान किया।सभी प्रतिभागियों को ई-प्रमाण पत्र प्रदान किया गया।