ईडी ने पिछले महीने में देशभर में कई बहुचर्चित मामलों में की है बड़ी गिरफ्तारियां, कई जगह से करोड़ों की संपत्तियां जप्त, इसके बारे में जानिए हमारी विशेष रिपोर्ट में


 नई दिल्ली, छत्तीसगढ़।

असल बात न्यूज़।।  

        00  अशोक त्रिपाठी 

      00  विशेष संवाददाता   

ईडी, प्रवर्तन निदेशालय, enforcement directorate,छत्तीसगढ़ राज्य में इस समय हर सभी की जुबान पर चर्चाओ में है।कोयला भ्रष्टाचार मामले में  कई किलो सोना बरामद करने और प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों की गिरफ्तारी के बाद यह विभाग छत्तीसगढ़ में और अधिक चर्चाओ में आ गया है। कहा जा रहा है कि अभी जो कार्रवाई हुई है यह तो शुरुआत है, यह कार्रवाई काफी आगे बढ़ेगी तथा इसका आगे व्यापक असर दिख सकता है।इस कार्रवाई में आगे और कई बड़े लोगों के लपेटे में आने की संभावना है। विभाग ने राज्य में जो कार्रवाइयां की है उससे प्रशासनिक, राजनीतिक, व्यापारिक गलियारे में चारों ओर आपाधापी मची हुई है। दूसरी तरफ प्रदेश में सरकार में बैठे तमाम लोगों ने ईडी की कार्रवाई पर सवाल उठाया है तथा आरोप लगाया कि राजनीतिक दबाव के चलते ऐसी कार्रवाई की जा रही हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी कुछ दिन पहले आरोप लगा चुके हैं कि ईडी के द्वारा छत्तीसगढ़ में दादागिरी की जा रही है। आंध्र प्रदेश में वाहन घोटाले और दूसरे आरोपों से जूझ रहे रेड्डी परिवार के लोगों ने भी आरोप लगाया है कि ईडी की कार्रवाई पूरी तरह से राजनीति से प्रेरित है तथा ऐसी कार्रवाई दबाव बनाने  की जा रही है। ऐसे में सभी के मन में इस विभाग के बारे में अधिक से अधिक जानने की उत्सुकता है। तो हम बता रहे हैं कि ईडी, एनफोर्समेंट डिपार्टमेंट प्रवर्तन निदेशालय ने सिर्फ पिछले 25 दिनों के भीतर ही 20 बड़े मामलों में कार्रवाई की है और करोड़ों रुपए की बेहिसाब चल अचल संपत्तियों को बरामद कर कई घोटालों, भ्रष्टाचार को उजागर किया है तथा कई बड़े लोगों की गिरफ्तारियां की है। देशभर में विभिन्न राज्यों में जगह-जगह यह कार्रवाई की गई है। 

सिर्फ पिछले  महीने के आंकड़ों को देखें तो enforcement directorate ने छत्तीसगढ़ के साथ उत्तर प्रदेश, बिहार ,आंध्र प्रदेश, दिल्ली, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, उड़ीसा जैसे राज्यों में बड़ी कार्रवाई की है। यह कार्रवाई फेमा, मनी लांड्रिंग, सेक्सटॉर्शन, वाहन घोटाला, मनरेगा घोटाला, मोबाइल गेमिंग एप्लीकेशन, उच्च रिटर्न के वादे से जमाकर्ताओं को लुभाने और लूटने, पार्ट टाइम जॉब स्कैम,सेबी से संबंधित धोखाधड़ी, डकैती और अपहरण से बेहिसाब संपत्ति अर्जित करने के जैसे मामलों में की गई है। विभिन्न राज्यों में कई ऐसे बड़े मामले हैं जिनमें भारी भ्रष्टाचार हुआ है,आम लोगों को लूटा गया है तथा ऐसे मामलों में अपराधियों के खिलाफ ठोस कार्यवाही नहीं हुई है और लोग, इन मामलों के खुलासे और अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई का इंतजार कर रहे हैं। ऐसे में प्रवर्तन निदेशालय ने जो ठोस कार्रवाई शुरू की है उसकी और पूरे देश का ध्यान गया है। इन मामलों में करोड़ों रुपए की बरामदगी की गई है।

ईडी ने छत्तीसगढ़ में जो कार्रवाई की है वह तो सभी की जानकारी में है। हम आपको ईडी की उन कार्यवाइयों के बारे में जानकारी दे रहे हैं जो कि पिछले महीनों के दौरान देश के विभिन्न राज्यों में की गई है। ईडी ने 23 नवंबर 2022 को प्रिवेंशन ऑफ मनी लांड्रिंग एक्ट 2002 के तहत बड़ी कार्रवाई की है। यह राजस्थान का मामला है जिसमें ₹16 करोड़ रुपए से अधिक की राशि की जब्ती की गई है। इसमें अल्फाजियों इंडिया लिमिटेड नामक कंपनी के खिलाफ कार्रवाई चल रही है जिसने यूनाइटेड अरब अमीरात मैं भी बड़ी राशि का हस्तांतरण किया है। इसके खाते को दुबई से एक चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑपरेट कर रहा थ। 

उच्च रिटर्न का झांसा देकर जमा कर्ताओं को लूटने के मामले में  ईडी ने  खेतेश्वर अर्बन क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी के खिलाफ कार्रवाई की है। इस सोसाइटी में पिछले जुलाई अगस्त महीने से जमा कर्ताओं को पेमेंट करना बंद कर दिया था। इसके बाद इसके खिलाफ लगभग 50 एफ आई आर दर्ज कराए गए।ईडी ने  इसमें PMLA, 2002 के तहत श्री खेतेश्वर अर्बन क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड की लगभग लगभग 3,51,09,524/- की रुपये की चल और अचल संपत्तियों को कुर्क किया है। 

ईडी ने मैसर्स के तीन निदेशकों आर अरविंद, एस गोपालकृष्णन, एस भारतराज को गिरफ्तार किया है। ब्लूमैक्स कैपिटल सॉल्यूशंस प्रा. लिमिटेड और पीएमएलए के तहत तूतीकोरिन के उनके सहयोगी जे. अमरनाथ और उन्हें माननीय पीएमएलए विशेष न्यायालय के समक्ष पेश किया।  न्यायालय ने इन सभी व्यक्तियों के लिए 12 दिनों की ईडी हिरासत प्रदान की ।

 चेन्नई, मुंबई और दिल्ली में सिक्योरक्लाउड टेक्नोलॉजीज लिमिटेड, एक सूचीबद्ध इकाई, क्वांटम ग्लोबल सिक्योरिटीज लिमिटेड, प्रो फिन कैपिटल सर्विसेज लिमिटेड-एक अन्य सूचीबद्ध कंपनी, यूनिटी ग्लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड एंड डेजर्ट रिवर कैपिटल प्राइवेट लिमिटेड जो पीएमएलए, 2002 के तहत शेयर दलाली और वित्तीय सेवा कंपनियां और इसके प्रमोटर हैं के कार्यालय और आवासीय परिसरों को कवर करते हुए 16 परिसरों की तलाशी ।  खोज में 1.04 करोड़ रुपये नकद, सोने और हीरे के आभूषणों की जब्ती हुई, रुपये से अधिक की अचल संपत्तियों की पहचान हुई। 30 करोड़ और अन्य संपत्ति और आपत्तिजनक मीडिया/दस्तावेज मिले।

ईडी ने अस्थायी रूप से रुपये  है।झारखंड के रांची में  मनरेगा घोटाला मामले में आईएएस पूजा सिंघल के 82.77 करोड़ रुपये की अचल संपत्तियों को कुर्क किया गया। इससे पहले, पूजा सिंघल को ईडी ने 11.05.2022 को गिरफ्तार किया था ।

मैसर्स दिवाकर रोड लाइन्स, मेसर्स से जुड़ी फर्मों जटाधारा इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड,के नाम पर हुए एम/एस। बीएस- IV वाहन घोटाले से संबंधित मामले में विभिन्न चल और अचल संपत्तियों अनुमानित कीमत 22.10 करोड़ को कुर्क किया गया।मामले में पीएमएलए, 2002 के तहत सी. गोपाल रेड्डी एंड कंपनी, और जेसी प्रभाकर रेड्डी और गोपाल रेड्डी के परिवार के सदस्यों की सहभागिता पाई गई है।

पीएमएलए विशेष. कोर्ट ने मोबाइल गेमिंग एप्लिकेशन (अर्थात् ई-नगेट्स मामले) में आमिर खान (मुख्य आरोपी) को 14 दिनों के लिए ईडी की हिरासत में  दिया है। इससे पहले ईडी ने इसकी 68.42 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त/फ्रीज की थी।

उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में 31.24 करोड़ रुपये की जमीन और अमिताभ कुमार श्रीवास्तव के नाम पर एक आवासीय प्लॉट के रूप में 300 करोड़ रुपये की अचल संपत्ति कुर्क की है।  शाइनसिटी कंपनी के नाम पर ठगी के मामले में लखनऊ में 23.70 लाख रु. इस मामले में कुल कुर्की करीब 49 करोड़ रुपए है।

पीएमएलए विशेष अदालत के समक्ष मनी लॉन्ड्रिंग के अपराध के लिए गजेंद्र नागपाल, उनकी पत्नी सोनिया नागपाल और अन्य के खिलाफ सेबी से संबंधित धोखाधड़ी और धोखाधड़ी मामले में अभियोजन शिकायत दर्ज की गई।  न्यायालय ने शिकायत को संज्ञान लिया है।

पीएमएलए, 2002 के तहत कोट्टाकल पुलिस, केरल द्वारा दर्ज डकैती और अपहरण के मामले में संबंधित अपराध की आय होने के नाते 3.25 करोड़ रुपये की नकदी कुर्क।

ईडी ने अस्थायी रूप से रुपये की चल संपत्ति कुर्क की है। धोखाधड़ी के एक मामले में डॉ एसएम सीएसआई मेडिकल कॉलेज, काराकोनम, केरल के बैंक खाते में जमा राशि के रूप में 95.25 लाख।

ईडी ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) और उसके तीन पदाधिकारियों परवेज अहमद, मोहम्मद इलियास और अब्दुल मुकीत के खिलाफ अभियोजन शिकायत दर्ज की है। विशेष अदालत (पीएमएलए), पटियाला हाउस, नई दिल्ली ने अभियोजन पक्ष की शिकायत का संज्ञान लिया है।

ईडी ने दिनांक 07.11.2022 को माननीय पीएमएलए विशेष न्यायालय एर्नाकुलम के समक्ष विलियम वर्गीज, अध्यक्ष, मैसर्स बीआरडी ग्रुप ऑफ कंपनीज और 5 अन्य के खिलाफ अभियोजन शिकायत दर्ज की थी। माननीय न्यायालय ने ईडी द्वारा दिनांक 18.11.2022 को दायर अभियोजन शिकायत का संज्ञान लिया है।

ईडी ने भुवनेश्वर शहर में और उसके आसपास चलाए जा रहे हाई प्रोफाइल सेक्सटॉर्शन रैकेट की चल रही पीएमएलए जांच के सिलसिले में रात भर चलाए गए तलाशी अभियान में महिला ब्लैकमेलर अर्चना नाग की एक फोर्ड एंडेवर गाड़ी बरामद और जब्त की है।

ईडी ने करीब 300 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की है। इंडियन रेड क्रॉस सोसाइटी, तमिलनाडु शाखा, (IRCS, TNB), एग्मोर अर्थात के पदाधिकारियों से संबंधित 3.37 करोड़। हरीश एल मेथा, अध्यक्ष, सेंथिल नाथन, तत्कालीन पूर्व कोषाध्यक्ष और एमएसएम नसरुद्दीन, पूर्व महासचिव।

ईडी ने "सुपर लाइक ऑनलाइन अर्निंग एप्लिकेशन (पार्ट टाइम जॉब स्कैम)" से संबंधित मामले में 14.11.2022 और 15.11.2022 को बैंगलोर में 16 स्थानों पर तलाशी ली है। तलाशी के दौरान करीब 80 बैंक खातों में रुपये की राशि जमा थी। आरोपी व्यक्तियों से संबंधित 1 करोड़ को फ्रीज कर दिया गया है।

ईडी ने पीएमएलए, 2002 के तहत मिस्बाहुद्दीन एस को उच्च रिटर्न के वादे के साथ जमाकर्ताओं को लुभाने के लिए भारी धन के हस्तांतरण/हस्तांतरण के संबंध में की जा रही जांच के संबंध में गिरफ्तार किया है। उन्हें विशेष अदालत (पीएमएलए), बेंगलुरु के समक्ष पेश किया गया और अदालत ने 19.11.2022 तक ईडी को उनकी हिरासत दे दी है।

ईडी ने 10.11.2022 को ओडिशा में अर्चना नाग और अन्य से जुड़े सेक्सटॉर्शन मामले में 7 परिसरों (आवासीय परिसर और कार्यालय सहित) में तलाशी ली और चल रही मनी लॉन्ड्रिंग जांच में आपत्तिजनक सबूत जब्त किए। अर्चना नाग और उसके सहयोगी हाईप्रोफाइल सेक्सटॉर्शन रैकेट को अंजाम दे रहे थे। ईडी ने 11.11.2022 को अर्चना नाग के करीबी सहयोगी खगेश्वर पात्रा को भी गिरफ्तार किया है। उन्हें 21.11.2022 तक ईडी की हिरासत में भेज दिया गया है। 


असल बात न्यूज़ 
वैवाहिक 


असल बात न्यूज़ की समाज सेवा के क्षेत्र में पहल।। हमने अपने पोर्टल पर  विवाह योग्य युवक-युवतियों का बायोडाटा पब्लिश करना शुरू किया है। आप भी विवाह योग्य युवक युवती का बायोडाटा पब्लिश कराना चाहे, तो हमें जानकारियां भेज सकते हैं।इसका स्वागत है।। 
  • असल बात न्यूज़

    सबसे तेज, सबसे विश्वसनीय 

     पल-पल की खबरों के साथ अपने आसपास की खबरों के लिए हम से जुड़े रहे , यहां एक क्लिक से हमसे जुड़ सकते हैं आप

    https://chat.whatsapp.com/KeDmh31JN8oExuONg4QT8E

    ...............


    असल बात न्यूज़

    खबरों की तह तक,सबसे सटीक,सबसे विश्वसनीय

    सबसे तेज खबर, सबसे पहले आप तक

    मानवीय मूल्यों के लिए समर्पित पत्रकारिता