खपत बढ़ जाने से सामान्य घरेलू श्रेणी में आ गए बीपीएल उपभोक्ताओं को नहीं देनी पड़ेगी अतिरिक्त सुरक्षा निधि की राशि, कंपनी के प्रबंध निदेशक का निर्देश

 बीपीएल से घरेलू श्रेणी में परिवर्तित 3 लाख 42 हजार उपभोक्ताओं को अतिरिक्त सुरक्षा निधि के भुगतान में राहत


रायपुर ।

असल बात न्यूज़।। 

खपत बढ़ने से सामान्य घरेलू श्रेणी में आ जाने वाले बीपीएल श्रेणी के उपभोक्ताओ से अभी अतिरिक्त सुरक्षा निधि की राशि  वसूल नहीं की जाएगी।छत्तीसगढ़ स्टेट पॉवर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी ने इसका निर्णय लिया है।इस संबंध में कंपनी को शिकायतें प्राप्त हुई थी। इसके बाद कंपनी के प्रबंध निदेशक में खपत बढ़ने के कारण सामान्य श्रेणी में आ गए उपभोक्ताओं से अभी अतिरिक्त सुरक्षा निधि की राशि वसूल नहीं करने का आदेश दिया है।

 छत्तीसगढ़ स्टेट पॉवर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी को  शिकायतें प्राप्त हुई थीं कि पहले बीपीएल श्रेणी में आने वाले उपभोक्ताओं से बिजली की खपत बढ़ जाने पर उन्हें अब सामान्य घरेलू श्रेणी के उपभोक्ता में परिवर्तित कर दिया गया है और उनके बिल में अतिरिक्त सुरक्षा निधि की राशि को भी वसूल किया जा रहा है। इसका पूरे प्रदेश में विरोध शुरू हो गया। तमाम जगह उपभोक्ताओं  ने सड़क पर आकर प्रदर्शन भी शुरू कर दिया।

अब नए फैसले से बड़े वर्ग को राहत मिलेगी, जिनके बिल में अतिरिक्त सुरक्षा निधि जोड़ी गई थी। ऐसे जिन उपभोक्ताओं ने अतिरिक्त सुरक्षा निधि सहित अक्टूबर माह में बिल जमा कर दिया है, उनके आगामी बिल में समायोजन कर दिया जाएगा।

छत्तीसगढ़ स्टेट पॉवर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी के प्रबंध निदेशक  मनोज खरे ने बताया कि बीपीएल से एपीएल उपभोक्ताओं की श्रेणी में पहुंच चुके ऐसे लगभग 3 लाख 42 हजार उपभोक्ताओं को इससे राहत मिलेगी। कंपनी प्रबंधन उनके अतिरिक्त सुरक्षा निधि के लिए राज्य विद्युत नियामक आयोग से निर्देश प्राप्त करेगा, जिसके बाद उनके अतिरिक्त सुरक्षा निधि की वसूली पर निर्णय लिया जाएगा। 


दूसरी तरफ बीपीएल श्रेणी के उपभोक्ताओं से उक्त राशि वसूल किए जाने के खिलाफ जगह-जगह विरोध प्रदर्शन चल रहा है। दुर्ग जिले में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने इसके खिलाफ विद्युत मंडल कार्यालय के सामने आज जमकर प्रदर्शन किया।