रूदा हत्याकांड में गांव के महिला-पुरुष पर शक

 


दुर्ग. के अंडा थाना अंतर्गत रूदा (खाड़ा) गांव में 12 साल की हत्या के मामले का जल्द ही पुलिस खुलासा करेगी। पुलिस आरोपियों तक पहुंच चुकी है। आरोपी कोई और नहीं बच्चे के मोहल्ले के ही हैं। हत्याकांड में महिला और पुरुष शामिल हैं। हत्या की वारदात को पुरुष ने अंजाम दिया है।

इस मामले को खुद गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने संज्ञान में लिया था। उन्होंने आरोपियों को जल्द से जल्द पकड़ने के लिए एसपी दुर्ग डॉ. अभिषेक पल्लव से भी बात की थी। पुलिस अधीक्षक ने इस मामले की जांच के लिए साइबर सेल, क्राइम ब्रांच और एक विशेष टीम को लगाया था।

साइबर सेल ने घटना के समय आसपास के मोबाइल लोकेशन और उन सभी के सीडीआर की जांच की है। क्राइम सेल की टीम ने 200 से अधिक संदेहियों से पूछताछ किया है। इसमें कुछ लोंगों पर शक की सुई अब भी घूम रही है। विशेष टीम ने हत्या के अलग-अलग पहलुओं की जांच की । इस तरह पुलिस हत्या मामले के आरोपियों तक पहुंच चुकी है। एसपी दुर्ग का कहना है कि एक से दो दिन के भीतर इस मामले का खुलासा कर देंगे।

यह है पूरा मामला
रूदा खाड़ा निवासी खिलेश्वर साहू के 12 साल के बेटे समीर साहू की किसी ने बेरहमी से हत्या कर दी थी। समीर रविवार 23 अक्टूबर की रात अचानक गायब हो गया था। सुबह लोगों ने शिवनाथ नदी से लगी बाड़ी के पास बोरा में भरी हुई समीर की लाश देखी। उसकी हत्या करके शव को बोरे में भरकर फेंका गया था।

मोहल्ले का हो सकता है आरोपी
पुलिस अभी इस मामले में कुछ भी नहीं बोल रही है। सूत्रों के मुताबिक ऐसा पता चला है कि समीर ने घटना की शाम मोहल्ले की किसी महिला को किसी पुरुष के साथ संदिग्ध अवस्था में देख लिया था। वह किसी को यह बात बता न दे इसलिए महिला और पुरुष ने उसको किडनैप किया। इसके बाद उसकी हत्या करके शव को बोरे में भरकर देर रात नदी के किनारे बाड़ी के पास फेंक दिया है। कुछ लोगों का कहना है कि हत्या की वारदात संपत्ति विवाद को लेकर हुई है, लेकिन इसके कोई ठोस सबूत पुलिस को नहीं मिले हैं।