भोपाल में 4:42 बजे, प्रयागराज में 4: 40 बजे और भुवनेश्वर में चार बजकर छप्पन मिनट से शुरू हुआ सूर्य ग्रहण, इस समय नंगी हाथों से सूर्य को देखने से अंधापन स्थाई अंधापन हो सकता है

 

ग्रहण सूर्य को नंगी आँखों से नहीं देखना चाहिए, यहाँ तक कि बहुत कम समय के लिए भी नहीं 

00 आंशिक सूर्य ग्रहण पर विशेष

नई दिल्ली, छत्तीसगढ़।
असल बात न्यूज़।।

भारत में आज 4:32 से आंशिक सूर्यग्रहण देखा जा रहा है।देश में यह ग्रहण दोपहर में सूर्यास्त से पहले शुरू हो गया है और अधिकांश स्थानों पर देखा जा रहा है। हालाँकि, यह अंडमान और निकोबार द्वीप समूह और उत्तर-पूर्व भारत के कुछ हिस्सों से नहीं दिखाई देने वाला है, ऐसे कुछ स्थानों के नाम आइजोल, डिब्रूगढ़, इंफाल, ईटानगर, कोहिमा, सिबसागर, सिलचर, तामेलोंग आदि हैं। लोगों में सूर्यग्रहण को लेकर भारी जिज्ञासा और उत्सुकता है लेकिन हम बता दे रहे हैं कि सूर्यग्रहण को किसी भी समय नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए।  बहुत कम समय के लिए भी सूर्य ग्रहण को नंगी आंखों से देखने से आंखों पर काफी बुरा प्रभाव पड़ता है और इससे स्थाई अंधापन आ सकता है। 

जो लोग हमारे साथ इस "न्यूज " से सीधे जुड़े हुए हैं वे देख रहे होंगे कि छत्तीसगढ़ राज्य में भी 4: 30 बजे तक अच्छी चटक धूप निकली हुई थी। इसके बाद से सूर्य देव को बादलों ने घेर लिया है। आसमान भी काला दिखने लगा है और शाम को चारों तरफ हल्का अंधेरा छा गया है। छत्तीसगढ़  के किसी हिस्से से आंशिक सूर्यग्रहण ना के बराबर दिखेगा लेकिन इसे बिल्कुल महसूस किया जा सकता है। जिस तरह से तेज धूप खत्म हो रही है, धूप नहीं दिख रही है उसे महसूस किया जा सकता है कि आंशिक ग्रहण सूर्य ग्रहण शुरू हो गया है। देश में सबसे पहले अमृतसर में आंशिक सूर्य ग्रहण का शाम 4:20 से असर देखा जाने लगा है। यहां से खबर मिली है कि इस समय के बाद से यहां शाम गहरा गई है। और समय बीतने के साथ रात जैसा नजारा नजर आने लगा है। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में 4:42 से आंशिक सूर्य ग्रहण का प्रभाव दिखने की खबर आ रही है।देश के उत्तर-पश्चिमी भागों में अधिकतम ग्रहण के समय चंद्रमा से सूर्य का धुंधलापन लगभग 40 से 50 प्रतिशत के बीच रहेगा। देश के अन्य हिस्सों में, प्रतिशत कवरेज उपरोक्त मूल्यों से कम होगा। 

ग्रहण का अंत भारत से दिखाई नहीं देगा क्योंकि सूर्यास्त के बाद भी ऐसा ही होगा। हम आपको यह भी बता दें कि अभी देश के कुछ हिस्सों में चक्रवाती तूफान का भी असर बना हुआ है जिसके चलते वहां मूसलाधार बारिश हो रही है। उड़ीसा के भी कुछ जिलों में इस चक्रवाती तूफान का असर बना हुआ है। ऐसे इलाकों में आंशिक सूर्य ग्रहण लगने के पहले से ही सूर्य देव के दर्शन नहीं हो रहे हैं। 

आज हमारे सबसे बड़े त्यौहार दीपावली का पहला दिन है। आमतौर पर इस दिनों में व्यवसायिक कारोबार पूरी तरह से बंद रहते हैं और सड़कों पर भी सन्नाटा छा दिखता है। शासकीय कार्यालय में भी आज छुट्टियां घोषित की गई है। ऐसे में आज आंशिक सूर्य ग्रहण के दिन सुबह से ही सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ दिख रहा है।आंशिक सूर्य ग्रहण के समय से तो बिल्कुल सन्नाटा छा गया है। कोई भी घर से बाहर निकलता नहीं दिख रहा है। हमें जो जानकारियां मिली है इस समय लोग घरों में ही रहकर भगवान का ध्यान कर रहे हैं।

ग्रहण सूर्य को नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए, यहां तक ​​कि बहुत कम समय के लिए भी नहीं। देश के वैज्ञानिकों ने हमसे बातचीत में बताया है कि जब चंद्रमा सूर्य के अधिकांश भाग को ढक लेता है तब भी यह आंखों को स्थायी रूप से नुकसान पहुंचाएगा जिससे अंधापन हो जाएगा। सूर्य ग्रहण को देखने के लिए सुरक्षित तकनीक या तो एल्युमिनाइज्ड मायलर, ब्लैक पॉलीमर,   वेल्डिंग ग्लास जैसे उचित फिल्टर का उपयोग करके या टेलीस्कोप द्वारा एक सफेद बोर्ड पर सूर्य की छवि का प्रक्षेपण करके देखा जा सकता है। 

दिल्ली और मुंबई में, सबसे बड़े ग्रहण के समय चंद्रमा द्वारा सूर्य का प्रतिशत कवरेज क्रमशः 44 प्रतिशत और 24 प्रतिशत होगा। ग्रहण की शुरुआत से सूर्यास्त तक की अवधि दिल्ली और मुंबई दोनों के लिए क्रमशः 1 घंटा 13 मिनट और 1 घंटा 19 मिनट होगी। चेन्नई और कोलकाता में ग्रहण की शुरुआत से सूर्यास्त तक की अवधि क्रमशः 31 मिनट और 12 मिनट होगी।

ग्रहण यूरोप, मध्य पूर्व, अफ्रीका के उत्तर-पूर्वी हिस्सों, पश्चिमी एशिया, उत्तरी अटलांटिक महासागर और उत्तरी हिंद महासागर को कवर करने वाले क्षेत्र में दिखाई दे रहा है।        

अगला सूर्य ग्रहण 2 अगस्त 2027 को भारत से दिखाई देगा। यह पूर्ण सूर्य ग्रहण होगा। देश के सभी हिस्सों से इसे आंशिक सूर्य ग्रहण के रूप में देखा जाएगा।

सूर्य ग्रहण अमावस्या के दिन होता है जब चंद्रमा पृथ्वी और सूर्य के बीच आ जाता है और जब तीनों वस्तुएँ संरेखित होती हैं। आंशिक सूर्य ग्रहण तब होगा जब चंद्र डिस्क आंशिक रूप से सौर डिस्क को कवर करेगी।


भारत में कुछ स्थानों की स्थानीय परिस्थितियों से संबंधित तालिका तत्काल संदर्भ के लिए अलग से संलग्न है।

 

आंशिक सौर ग्रहण, 25 अक्टूबर, 2022 



 

भारत में कुछ स्थानों से संबंधित आंशिक चरण की 

स्थानीय परिस्थितियाँ  

स्थान

आंशिक ग्रहण

शुरू करना

(आईएसटी)

महानतम

ग्रहण

(आईएसटी)

ग्रहण

जिस वक़्त

महानतम

ग्रहण

आंशिक ग्रहण

समाप्त होता है

(आईएसटी)

सूर्यास्त का समय

(आईएसटी)

ग्रहण की शुरुआत से लेकर सूर्यास्त तक की अवधि

 

एच एम

एच एम

 

       

 एच एम

   एच एम

अगरतला

16 50.5

*

--

*

गंगटोक

16 40.7

*

--

*

16 58

0 17.3

गुवाहाटी

16 45.2

*

--

*

16 47

0 01.8

गया

16 44.6

*

--

*

17 15

0 30.4

हरिद्वार

16 25.7

17 27.7

47.4%

*

17 36

1 10.3

हजारीबाग

16 46.8

*

--

*

17 14

0 27.2

हुबली

17 00.5

17 47.1

17.1%

*

18 02

1 01.5

हैदराबाद

16 59.1

17 45.9

18.7%

*

17 48

0 48.9

जयपुर

16 32.2

17 32.7

40.6%

*

17 50

1 17.8

जालंधर

16 20.3

17 24.6

51.3%

*

17 43

1 22.7

जम्मू

16 17.7

17 23.1

52.9%

*

17 47

1 29.3

कन्याकूमारी

17 32.8

17 55.6

2.1%

*

18 00

0 27.2

कावलोर

17 14.0

*

--

*

17 49

0 35.0

कवरत्ती

17 15.7

17 52.3

7.8%

*

18 16

1 00.3

कोल्हापुर

16 57.5

17 46.1

18.9%

*

18 06

1 08.5

कोलकाता

16 52.3

*

--

*

17 04

0 11.7

कोरापुट

16 58.5

*

--

*

17 30

0 31.5

कोझिकोड

17 17.0

17 52.4

7.5%

*

18 05

0 48.0

कुरनूल

17 03.6

17 47.8

15.4%

*

17 51

0 47.4

लखनऊ

16 36.6

*

--

*

17 29

0 52.4

मदुरै

17 24.6

17 53.9

4.4%

*

17 56

0 31.4

मंगलौर

17 10.2

17 50.5

10.9%

*

18 07

0 56.8

 


16 51

0 00.5

अहमदाबाद

16 38.5

17 37.1

33.6%

*

18 06

1 27.5

अजमेर

16 32.0

17 32.9

40.3%

*

17 55

1 23.0

इलाहाबाद

16 40.6

*

--

*

17 27

0 46.4

अमृतसर

16 20.1

17 24.8

50.9%

*

17 48

1 27.9

बैंगलोर

17 12.4

17 50.8

9.9%

*

17 56

0 43.6

भागलपुर

16 44.7

*

--

*

17 07

0 22.3

भोपाल

16 42.4

17 38.2

32.1%

*

17 47

1 04.6

भुवनेश्वर

16 56.7

*

--

*

17 16

0 19.3

कैन्नानोर

17 14.4

17 51.7

8.7%

*

18 06

0 51.6

चंडीगढ़

16 23.5

17 26.5

49.1%

*

17 38

1 14.5

चेन्नई

17 14.5

*

--

*

17 45

0 30.5

कोचीन

17 22.7

17 53.7

5.1%

*

18 04

0 41.3

कूच बिहारी

16 43.6

*

--

*

16 56

0 12.4

कटक

16 56.2

*

--

*

17 16

0 19.8

दार्जिलिंग

16 41.2

*

--

*

17 00

0 18.8

देहरादून

16 26.1

17 28.0

47.0%

*

17 37

1 10.9

दिल्ली

16 29.3

17 30.5

43.8%

*

17 42

1 12.7

द्वारका

16 36.5

17 36.6

33.1%

*

18 21

1 44.5

गांधीनगर

16 38.1

17 36.9

33.9%

*

18 06

1 27.9