चार महीने में 19 हत्या, 664 चोरी की वारदात, बड़ी वारदात में पुलिस के हाथ खाली

 


रायपुर  . राजधानी में अपराधियों के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई नाकाफी रायपुर। जिले में औसत 30 अपराध हर दिन हो रहे हैं। ये हम नहीं बल्कि पुलिस विभाग से मिले आंकड़े बता रहे हैं। इसी वर्ष जनवरी से 30 अप्रैल तक जिले में तीन हजार 648 घटनाएं घटी है।

इन घटनाओं की सूचना मिलने के बाद पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ एफआइआर कर कई लोगाें की गिरफ्तारी भी की है। शहर में वारदात को अंजाम देने वाले कई आरोपित अभी भी पुलिस को चकमा देकर फरार हैं। 

हत्या और चोरी की वारदात चुनौती

हत्या लूट और चोरी पुलिस के लिए चुनौती है। आंकड़ों के अनुसार रायुपर जिले में बीते चार माह में हत्या की 19 वारदात, लूट की 26 वारदात, चोरी की 664 और धोखाधड़ी की 144 वारदातें हुई। इनके अलावा महिला संबंधी अपराधों में भी इजाफा हुआ है। राहत की बात यह है कि मार्च की अपेक्षा अप्रैल में क्राइम का ग्राफ गिरा है। मार्च में एक हजार 30 वारदात हुई थी, वहीं अप्रैल में 957 केस दर्ज हुए। 

12 लाख की डकैती में पुलिस के हाथ खाली :

- टिकरापारा थाने इलाके में पति-पत्नी को बंधक बनाकर 12 लाख की डकैती को अंजाम दिया गया। घटना तीन अप्रैल रात की है। छह डकैत घर में घुसकर व्यापारी को और उसकी पत्नी को बंधक बनाया। घर में रखे सोने के जेवर और नकदी लेकर फरार हो गए। साथ में दो पहिया वाहन तक चुरा ले गए। एक माह से ज्यादा समय बीतने के बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं। पुलिस चोरी की गई गाड़ी तक को नहीं खोज सकी है। 

विधान सभा- धरसींवा में 15 लाख की चोरी:

- धरसींवा ब्लाक के अकोली गांव में 29-30 अप्रैल की रात चोरों ने किसान के घर में धावा बोल दिया। 10 लाख के जेवर व नकदी रकम लेकर फरार हो गए। पीछे के दरवाजे में छेदकर कुंडी खोलकर चोरी की गई। घटना के समय लोग, घर के दूसरे कमरों में सो रहे थे। अब तक चोरों का कोई क्लू नहीं मिला है। वहीं विधान सभा इलाके में एक ठेकेदार के घर चोरी की बड़ी वारदात हुई। चार दीवारी से सुरक्षित कालोनी रहेजा ग्रींस में चोरों ने धावा बोलकर पांच लाख से ज्यादा के जेवर व नकदी पार कर दिए।

फैक्ट फाइल

- हत्या-19

- हत्या का प्रयास- 43

- मानव वध- 1

- दुष्कर्म - 87

- अपहरण- 165

- डकैती 02

- लूट- 26

- नकबजनी- 213

- चोरी- 664

- बलवा- 28

- अमानत में खयानत- 9

- धोखाधड़ी- 144

- जाली नोट- 1

- आगजनी- 13

- शीलभंग- 1

- यौन उत्पीड़न- 61

- प्रताड़ना- 19

पुलिस लगातार मामलों का राजफाश कर रही है। कुछ बड़े मामलों में पुलिस जांच में जुटी है। जल्द ही आरोपित पकड़े जाएंगे।