कोरबा, बिलासपुर, जांजगीर-चांपा और गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही से बंद ट्रेनों को बंद करने पर राजस्व मंत्री ने डी.आर.एम. को लगाई कड़ी फटकार

 

कोरबा ।

असल बात न्यूज़।।

   प्रदेश के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने   कोरबा एवं गेवरा रोड स्टेशन से चलने वाली सवारी गाड़ियों को बंद कर देने पर गहरी नाराजगी जताई है तथा संभागीय रेल प्रबंधक  बिलासपुर डी.आर.एम. आलोक सहाय को  पूर्व में संचालित सभी सवारी गाड़ियों को तत्काल शुरू करने को कहा है। 

 राजस्व मंत्री ने संभागीय रेल प्रबंधक  बिलासपुर डी.आर.एम. आलोक सहाय को  बुलाकर इस मामले में चर्चा की है तथा  कड़े शब्दों में कहा है कि कोरबा से भिलाई के बीच चलने वाली लोकल मेमू व पैसेंजर गाड़ियों को रेलवे द्वारा बन्द कर देने की वजह से आम यात्रियों को अनेक कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है। यात्रियों को समय व पैसे की बर्बादी के साथ ही अनेक कठिनाईयों का भी सामना करना पड़ रहा है। रेल प्रशासन द्वारा लंबित रखी गई सवारी गाड़ियों को तत्काल चलाए जाने का अनुरोध करते हुए कोरबा के आम नागरिकों द्वारा विभिन्न मंचों से अनेक बार रेलवे को ज्ञापन भी दिया जा चुका है। राजस्व मंत्री द्वारा स्वयं भी इस संबंध में महाप्रबंधक रेलवे को पत्र लिखा जा चुका है। राजस्व मंत्री ने आश्चर्य व्यक्त करते हुए कठोर शब्दों में कहा कि बिलासपुर रेलवे प्रशासन द्वारा इस संबंध में कोरबा के नागरिकों की जरूरतों और उनकी भावनाओं को कोई महत्व नहीं दिया जा रहा है। 

जयसिंह अग्रवाल ने अपनी बात जारी रखते हुए कहा कि रेलवे के इस अड़ियल रवैये के प्रति कोरबावासियों में बहुत नाराजगी है जिसकी वजह से वे कभी भी इस मुद्दे को लेकर बड़ा आन्दोलन कर सकते हैं, हालांकि अभी उन सभी को समझाईश देकर रोक रखा गया है। राजस्व मंत्री ने कड़े लहजे में कहा कि यदि कोरबावासियों की भावनाओं के साथ रेल प्रशासन का ऐसे ही अड़ियल रूख रहा तो कभी भी कोरबा में उग्र आंदोलन हो सकता है जिसकी सम्पूर्ण जवाबदारी रेलवे प्रशासन की होगी। 

बैठक में जयसिंह अग्रवाल ने इस बात पर विशेष बल देते हुए कहा कि कोरबा अंचल से कोल परिवहन कर रेल प्रशासन द्वारा साल दर साल अरबों रूपये का राजस्व अर्जन किया जाता है परन्तु सुविधा विस्तार की तो बात अलग है, जो सुविधाएं पहले से प्राप्त हो रही थीं, रेलवे द्वारा उसे भी बंद कर दिया जाना क्षेत्रीय जनता की घोर उपेक्षा है। लोगों में रेल प्रशासन के प्रति घोर नाराजगी है।

डी.आर.एम बिलासपुर आलोक सहाय को हिदायत देते हुए जयसिंह अग्रवाल ने कहा कि रेलवे महाप्रबंधक व अन्य उच्चाधिकारियों के साथ इस विषय पर एक सप्ताह के भीतर बैठक आयोजित कराएं। बिलासपुर संभाग के प्रमुख जनप्रतिनिधियों को आयोजित की जाने वाली बैठक में उपस्थित होने के लिए आमंत्रित करने का निर्देश राजस्व मंत्री द्वारा दिया गया।

इस महत्वपूर्ण बैठक में राजस्व मंत्री के साथ अन्य जन प्रतिनिधियों के अलावा बिलासपुर निगम के महापौर रामशरण यादव, कोरबा के प्रतिष्ठित व्यवसायी व रेल संघर्ष समिति से मुरलीधर माखीजा, कमलेश यादव, किशेर शर्मा, राकेश श्रीवास्तव, कोरबा जिला उद्योग संघ व अग्रवाल महासभा के अध्यक्ष श्रीकांत बुधिया और बिलासपुर कलेक्टर सारांश मित्तर, विशेष रूप में उपस्थित थे। 



असल बात न्यूज़

सबसे तेज, सबसे विश्वसनीय 

अपने आसपास की खबरों के लिए हम से जुड़े रहे , यहां एक क्लिक से हमसे जुड़ सकते हैं आप

https://chat.whatsapp.com/KeDmh31JN8oExuONg4QT8E

...............

................................

...............................

असल बात न्यूज़

खबरों की तह तक, सबसे सटीक , सबसे विश्वसनीय

सबसे तेज खबर, सबसे पहले आप तक

मानवीय मूल्यों के लिए समर्पित पत्रकारिता