स्वामी आत्मानंद इंग्लिश मीडियम स्कूलों के माध्यम से पढ़ाई की बेहतर व्यवस्थाः मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघे ल

 

*छत्तीसगढ़ के बच्चे भी अब फर्राटे से बोलेंगे अंग्रेजी

*मुख्यमंत्री ने शिक्षकों को किया समानित

*कुम्हारी क्षेत्र को 57 करोड़ रूपए के विकास कार्यों की दी सौगात

*कुम्हारी में पेयजल की बेहतर व्यवस्था के लिए 98 करोड़ रूपए दी मंजूरी


रायपुर ।

 असल बात न्यूज।।

 मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज शिक्षक दिवस के मौके पर कुम्हारी स्थित स्वामी आत्मानंद अंग्रजी स्कूल में आयोजित एक गरिमामय कार्यक्रम में पाटन विधान सभा क्षेत्र के लगभग 570 से अधिक शिक्षकों को सम्मानित किया और उन्हें शिक्षक दिवस की बधाई और शुभकामनाएं दी। सम्मानित शिक्षकों में सेवानिवृत्त एवं कार्यरत शिक्षक शामिल थे। श्री बघेल ने इस अवसर पर स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल के बच्चों से चर्चा कर उनकी पढ़ाई लिखाई के बारे में जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने बच्चों को खूब मन लगाकर पढ़ाई करने और परिवार, समाज और छत्तीसगढ़ का नाम रोशन करने का आव्हान किया। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कायक्रम के दौरान कुम्हारी अंचल को 57 करोड़ रूपए के विकास कार्यों की सौगात देने के साथ ही कुम्हारी में 98 करोड़ रूपए की लागत से पेयजल आपूर्ति की बेहतर व्यवस्था किए जाने की मंजूरी दी। 


मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि प्रदेश में शिक्षा को बेहतर बनाना हमारी प्राथमिकताओं में शामिल है। उन्होंने कहा कि पालकों और अभिभावकों की अपने बच्चों को अंग्रजी माध्यम में पढ़ाने की इच्छा को देखते हुए राज्य सरकार द्वारा स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल खोले गए हैं। उन्होंने कहा कि अब आर्थिक स्थिति और अन्य दिक्कतों के कारण अंग्रेजी माध्यम की शिक्षा से वंचित नहीं होना पड़ेगा। हमने शुरूआत में 27 इंग्लिश मीडियम स्कूल आरंभ किये और लोगों ने इसे काफी सराहा। यहाँ की उच्चस्तरीय सुविधा, शैक्षणिक स्तर, लाइब्रेरी, अधोसंरचना, विज्ञान लैब और हमारे शिक्षकों की कड़ी मेहनत ने इन स्कूलों को काफी ऊँचाई दी। अब हमारे बच्चे भी दिल्ली, चेन्नई और मुंबई में फर्राटे से अंग्रेजी बोलने में नही हिचकेंगे। 

मुख्यमंत्री ने अपने विधानसभा के शिक्षकों को सम्मानित करते हुए कहा कि हम भाग्यशाली हैं कि पाटन क्षेत्र में हमारे पूर्वजों ने शिक्षा के लिए बड़ा काम किया। आजादी के पूर्व यहाँ 6 हाईस्कूल थे। शिक्षा को लेकर हमारे पूर्वजों का यह कार्य स्तुत्य है। उन्होंने कहा कि स्वामी आत्मानंद ने विवेकानंद विद्यापीठ के माध्यम से अबूझमाड़ के बच्चों की शिक्षा के लिए कार्य किया। यहाँ के बच्चे पढ़ाई में शानदार रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब हमने यह नवाचार आरंभ किया तब इन विद्यालयों का नाम स्वामी आत्मानंद के नाम पर रखने का निश्चय किया। मुख्यमँत्री ने अपने संबोधन के आरंभ में पूर्व राष्ट्रपति डॉ. राधाकृषणन के योगदान को भी नमन किया। 

स्कूल शिक्षा मंत्री श्री प्रेमसाय सिंह टेकाम ने भी अपना संबोधन दिया। उन्होंने कहा कि पढ़ई तुंहर द्वार और अनेक नवाचारों के माध्यम से हमने प्रदेश में शिक्षा के लिए बहुत अच्छा कार्य किया है। जिले के प्रभारी मंत्री श्री मोहम्मद अकबर ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में अनेक तरह के नवाचार हमने किये हैं। नगरीय प्रशासन मंत्री श्री शिव डहरिया ने कहा कि मुख्यमंत्री के मार्गदर्शन में सभी नगरीय निकायों में लोगों की बुनियादी सुविधाओं के लिए बहुत अच्छा कार्य हो रहा है। शिक्षाविद श्री ओपी वर्मा ने भी अपना संबोधन दिया। इस मौके पर कुम्हारी नगर पालिका के अध्यक्ष श्री राजेश्वर सोनकर एवं अन्य गणमान्य अतिथि मौजूद थे। 

शुभ्रा सोनकर से पूछा, बेटा कैसा लग रहा है यहाँ- मुख्यमंत्री ने आज कुम्हारी स्कूल में अपना कुछ वक्त बच्चों के साथ बिताया। उन्होंने बच्चों से पूछा कि उन्हें इस स्कूल में कैसा लग रहा है। शुभ्रा सोनकर ने बताया कि उसे यहाँ बहुत अच्छा लग रहा है। ऋतु चौधरी ने बताया कि यहाँ के टीचर बहुत अच्छे हैं। लाइब्रेरी भी अच्छी है और हम तेजी से अंग्रेजी सीख रहे हैं। नीलम साहू ने कहा कि हमारा स्कूल बहुत अच्छा है। मुख्यमंत्री ने बच्चों को बहुत सी शुभकामनाएं दीं।

98 करोड़ रुपए की राशि से पेयजल व्यवस्था होगी मुकम्मल- मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि कुम्हारी नगर पालिका में पेयजल की किसी तरह की दिक्कत नहीं होगी। इसके लिए उन्होंने 98 करोड़ रुपए के माध्यम से पेयजल व्यवस्था के लिए कार्य करने की घोषणा की। उल्लेखनीय है कि आज ही मुख्यमंत्री ने कुम्हारी में 15 करोड़ रुपए के कार्यों का लोकार्पण एवं 42 करोड़ के कार्यों का भूमिपूजन किया। इस तरह 57 करोड़ रुपए के कार्यों की सौगात दी।