प्रधानमंत्री केयर फॉर चिल्ड्रन योजना से कोरोना में माता-पिता को खो देने वाले बच्चों का संरक्षण, देखरेख एवं सशक्तिकरण किया जाएगा

 

कोवीड महामारी से माता-पिता, अभिभावक या दत्तक माता-पिता को खोने वाले बच्चों का होगा चिन्हांकन

-

दुर्ग । असल बात न्यूज़।

 भारत सरकार महिला एवं बाल विकास विभाग के द्वारा कोविड-19 महामारी से अनाथ हुए बच्चों की पहचान का अभियान चलाया जा रहा है। कोविड-19 महामारी से माता-पिता, अभिभावक या दत्तक माता-पिता को खोने वाले बच्चे के लिए प्रधानमंत्री  केयर फॉर चिल्ड्रन योजना लागू किया गया है।

 योजना का उद्देश्य बच्चों के कल्याण हेतु स्वास्थ्य बीमा, शिक्षा के माध्यम से सशक्तिकरण तथा आत्मनिर्भर बनाना है। योजनांतर्गत ऐसे बच्चों को 23 वर्ष की आयु पूर्ण होने पर 10 लाख रूपए की वित्तीय सहायता देने का प्रावधान किया गया है। 

ऐसे  बच्चों के  बारे में चाइल्ड लाईन 1098 में सूचित करने अथवा जिला बाल संरक्षण इकाई या अन्य एजेंसी के माध्यम से सूचित किए जाने पर ऐसे बच्चों का 24 घंटे के भीतर पर संरक्षण के प्रयास सुनिश्चित किया जाएगा। योजना का लाभ लेने एवं बच्चों का चिन्हांकन एवं आवेदन संबंधी जानकारी के लिए जिला कार्यक्रम अधिकारी/ जिला बाल संरक्षण अधिकारी, महिला एवं बाल विकास विभाग, 5 बिल्डिंग परिसर कार्यालय से संपर्क कर सकते हैं। कार्यालय के दूरभाष नंबर 0788-2323704, 2213363 पर संपर्क कर सकते हैं।