सेंट थॉमस महाविद्यालय ने कोरोनाकाल में छात्रों को दिया संरक्षण

 

भिलाई। असल बात न्यूज।

सेंट थॉमस महाविद्यालय आर्थिक रूप से समस्या ग्रस्त छात्रों की पढ़ाई भी मदद करेगामहाविद्यालय ने उन छात्रों की ओर सहायता का हाथ बढ़ाया है जो अपने परिवार की आर्थिक स्थिति ख़राब होने के कारण महाविद्यालय की फ़ीस देने में असमर्थ हैं| 

सेंट थॉमस मलंकारा ऑर्थोडॉक्स सीरियन चर्च जो भिलाई मिशन के नाम से प्रसिद्ध है अपनी सेवा के 50 वें वर्ष में प्रवेश कर चुका है| सेंट थॉमस मिशन के स्वर्ण जयंती समारोह के उपलक्ष्य में विभिन्न शैक्षणिक,पारिस्थितिक, विकासशील एवं पुण्यार्थ कार्यों की परिकल्पना की गयी है| सेंट थॉमस महाविद्यालय ने भी छात्रों की सहायता के लिए बहुत से कदम उठाये है और आसपास के विद्यालयों में शिक्षण –प्रशिक्षण प्रक्रिया को बढ़ावा देने के लिए प्रयासरत है| महाविद्यालय ने उन छात्रों की ओर सहायता का हाथ बढ़ाया है जो अपने परिवार की आर्थिक स्थिति ख़राब होने के कारण महाविद्यालय की फ़ीस देने में असमर्थ हैं| आर्थिक समस्या के कारण फ़ीस न दे पाने वाले छात्रों को महाविद्यालय छुट प्रदान करेगा| महाविद्यालय उन विद्यार्थियों की सहायता के लिए भी तत्पर है जिन्होंने कोरोना महामारी के कारण अपने परिवार के सदस्यों को खो दिया है| सेंट थॉमस मिशन ने ऐसे विद्यार्थियों को महाविद्यालय में उनकी पढाई पूरी होने तक निशुल्क शिक्षा देने की पहल की है| इसके निर्णय के पीछे उद्देश्य यही है कि कोई भी छात्र अपनी पढाई अधूरी न छोड़े| इसके अतितिक्त सेंट थॉमस महाविद्यालय सामाजिक उत्थान पर भी अपना ध्यान केन्द्रित कर रहा है जिसके अंतर्गत  महाविद्यालय के आसपास रहने वाले बच्चो एवं युवाओं को निशुल्क कंप्यूटर कौशल विकास प्रशिक्षण, एनिमेशन,टैली,स्पोकन इंगलिश एवं सॉफ्ट स्किल्स की ट्रेनिंग भी प्रस्तावित है| महाविद्यालय अपने क्षेत्र में  पर्यावरण की रक्षा के प्रति भी सजग है जिसके अंतर्गत महाविद्यालय परिक्षेत्र में छात्रों, कर्मचारियों एवं आसपास के रहवासियों को जैविक खेती के लिए प्रोत्साहित किया जायेगा एवं उसके गुणों से अवगत कराया जायेगा| महाविद्यालय के प्रशासक रेवेरेंट फादर डॉ जोशी वर्गीस ने सभी योजनाओं के बारे में चर्चा करते हुए उनके सफल क्रियान्वन पर कार्य करने की रुपरेखा तैयार की| महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ एम. जी. रोईमोन ने कहा कि महाविद्यालय परिवार पूरी लगन एवं सहृदयता के साथ सेंट थॉमस मिशन के स्वर्ण जयंती वर्ष में कार्य करेगा|