अजाक थानों को एफ आई आर 72 घंटों के भीतर ऑनलाईन पोर्टल पर अपलोड करने के निर्देश

 

वीडियों कांफ्रेसिंग के माध्यम से जिलों के अजाक थाना प्रभारियों की समीक्षा बैठक

 

रायपुर । असल बात न्यूज।

अजाक थानों  की कार्यवाहिओ का उप पुलिस अधीक्षक स्तर के अधिकारियों को बारीकी से निरीक्षण करने का निर्देश दिया गया है।वही निवेशकों को यहां आने वाले मामलों की विवेचना शीघ्र से शीघ्र करने को कहा गया है।सभी थानों को ऑनलाइन f.i.r. लेने की प्रक्रिया शुरू करने को भी कहा गया है।

 विशेष पुलिस महानिदेशक  आर.के. विज के द्वारा जिलों के समस्त अजाक थाना प्रभारियों एवं थानों में तैनात बल का वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से सीसीटीएनएस योजना की समीक्षा बैठक आयोजित की गई। इसमें उक्त निर्देश दिए गए। समीक्षा बैठक  में राज्य के 27 जिलों में संचालित अजाक थानों के सुपरविजन अधिकारी, थाना प्रभारी एवं थानों में तैनात बल सम्मिलित हुये। श्री विज द्वारा बैठक को संबोधित करते हुये सीसीटीएनएस योजना के संचालन के संबंध में जानकारी ली गई। सभी थानों को ऑनलाईन एफआईआर लिये जाने एवं माननीय सर्वोच्च न्यायालय के निर्देषानुसार 24 से 72 घंटों में ऑनलाईन पोर्टल पर अपलोड किये जाने के संबंध में निर्देशित किया गया। सभी से  बारी-बारी से बात कर उनकी मांग एवं समस्याओं से अवगत हुये। श्री विज द्वारा जिस भी अजाक थानों में सीसीटीएनएस योजना के संचालन हेतु आवष्यक संसाधन कम्प्यूटर, फर्नीचर एवं नेट  कनेक्टिविटी उपलब्ध नहीं है वहां अतिशीघ्र संसाधन उपलब्ध कराने की स्वीकृति प्रदान  की गई। बहुत से थाना प्रभारियों द्वारा थानों में बंदीगृह, मोटर सायकल, महिलाओं हेतु विश्राम गृह, शौचालय एवं थाना भवन की मरम्मत की मांग करने पर योजना/प्रबंध के माध्यम से जल्द ही इसे पूरा किये जाने की स्वीकृति प्रदान की गई।

 बैठक में सम्मिलित उप पुलिस अधीक्षक स्तर के अधिकारियों को थाने की कार्यवाहियों को अच्छे से निरीक्षण करने एवं विवेचकों को बारीकी से विवेचना कर मामलो की जल्द निकाल करने की हिदायत दी गई। साथ ही माननीय उच्चतम न्यायालय के निर्णयानुसार सूचना एवं प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 66 A के तहत एफआईआर नहीं किये जाने की बात को संज्ञान में लाया गया। ज्ञात हो कि यह प्रथम अवसर था जब पुलिस मुख्यालय से किसी विशेष पुलिस महानिदेशक स्तर के अधिकारी द्वारा जिलों के अजाक थाना प्रभारियों एवं वहां तैनात बल से सीधे बात की गई। बैठक में सम्मिलित समस्त अधिकारियों/कर्मचारियों द्वारा अपनी मांगो को पूरा  किये  जाने  पर हर्ष व्याप्त किया गया।