Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

स्वदेशी जागरण मंच छत्तीसगढ़ प्रांत स्वालंबी भारत आभियान प्रांतीय विचार वर्ग एवम कार्यशाला कार्यक्रम में शामिल हुए, विधायक ललित चंद्राकर

दुर्ग  दुर्ग/अग्रसेन भवन में आयोजित स्वदेशी जागरण मंच छत्तीसगढ़ प्रांत स्वालंबी भारत आभियान प्रांतीय विचार वर्ग एवम कार्यशाला कार्यक्रम में ...

Also Read

दुर्ग


 दुर्ग/अग्रसेन भवन में आयोजित स्वदेशी जागरण मंच छत्तीसगढ़ प्रांत स्वालंबी भारत आभियान प्रांतीय विचार वर्ग एवम कार्यशाला कार्यक्रम में शामिल होकर इस कार्य क्रम के लिए हार्दिक शुभकामनाएं प्रेषित किया और लोगो को स्वदेश निर्मित वास्तुवो के उपयोग के लिए लोगों को प्रेरित किया ......


*इस अवसर पर विधायक श्री ललित चंद्राकर ने कहा*... 

स्वावलंबी भारत अभियान 'स्व' की भावना पर आधारित सराहनीय पहल

कौशल अर्जित करके न केवल रोजगार प्राप्त किया जा सकता है बल्कि यह स्वयं को जीवंत और ऊर्जावान महसूस करने का माध्यम भी है।

स्वावलंबी भारत अभियान, देश में रोजगार और स्वरोजगार के अवसर पैदा करने हेतु ठोस कदम उठाने के लिए एक महत्वपूर्ण सामूहिक पहल है, जिसे आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक क्षेत्र में काम कर रहे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के आठ संगठनों द्वारा प्रारम्भ किया गया है...

संगठित और सशक्त भारत के निर्माण हेतु हमें आत्मनिर्भर भारत बनाना होगा। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने युवाओं को बेरोजगारी की समस्या से निजात दिलाने की मंशा शुरू किए गए स्वावलंबी भारत अभियान का और प्रचार प्रसार और विस्तार करने का फैसला किया है। इसकी जिम्मेदारी स्वदेशी जागरण मंच को सौंपी गई है जिसे संघ का आर्थिक विभाग कहा जाता है। उल्लेखनीय है कि स्वदेशी जागरण मंच की स्थापना 1991में संघ के सहयोगी पांच राष्ट्रीय संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ मिलकर नागपुर में कुशल संगठक स्व दत्तोपंत ठेंगड़ी ने की थी।

आगे विधायक श्री ललित चंद्राकर जी बताया... 

उल्लेखनीय है कि मोदी सरकार ने अपने कार्यकाल की शुरुआत से ही युवाओं को स्वरोजगार के लिए प्रेरित करने हेतु उनके कौशल विकास की दिशा में सक्रिय कदम उठाने प्रारंभ कर दिये थे उसी का परिणाम है कि सरकार की कौशल विकास योजनाओं का लाभ लेकर अपना स्वयं का व्यवसाय शुरू करने के लिए युवा वर्ग में ललक बढ रही है। विश्व युवा कौशल विकास दिवस के अवसर पर अपने संबोधन में कौशल को अनमोल खजाना निरूपित करते हुए प्रधानमंत्री ने इसे राष्ट्रीय आवश्यकता के रूप में परिभाषित किया था जिसमें आत्मनिर्भर भारत का मजबूत आधार बनने की क्षमता है।


स्वावलंबी अभियान को गतिशील बनाने में बेहद उपयोगी सुझाव हैं,लोग स्थानीय व स्वदेशी उत्पाद ही खरीदें, उत्पाद ही उद्यमी एवं स्वरोजगारी बनें, गौ आधारित जैविक खेती करें जिससे कि किसानों की आमदनी बढ़ाने में मदद मिले और लघु एवं कुटीर उद्योग व स्टार्ट अप शुरू करने के लिए लोग प्रोत्साहित हों , जल स्रोतों, जमीन व जानवरों की रक्षा करें और योग और स्वच्छता को प्राथमिकता प्रदान करें....

इस अवसर पर प्रमुख रूप से

चेंबर्सआफ़ कामर्श के अध्यक अमर परवानी जी नवभारत  प्रेस के संपादक राजेन्द्र ठाकुर जी मुख्य प्रांत संयोजन स्वदेशी जागरण मंच जगदीप पटेल व बड़ी संख्या में स्वदेशी जागरण मंच के सद्स्य उपस्थित रहे।