Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

देवबलौदा भिलाई 03 में घटित हत्या के मामले का खुलासा, पुराने झगड़े व रंजिश की वजह से दिया गया था हत्या की घटना को अंजाम, घटना के बाद से सभी आरोपी हो गये थें सकूनत से फरार, गिरफ्तारी से बचने के लिए लगातार बदल रहे थे अपना ठिकाना

भिलाई    - दुर्ग  रायपुर, बलौदाबजार, बेमेतरा, राजनांदगांव, दुर्ग एवं बालोद में लगातार दबिश देने के परिणाम स्वरूप आरोपियों को गिरफ्तार कर...

Also Read

भिलाई    - दुर्ग 






रायपुर, बलौदाबजार, बेमेतरा, राजनांदगांव, दुर्ग एवं बालोद में लगातार दबिश देने के परिणाम स्वरूप आरोपियों को गिरफ्तार करने में मिली सफलता।

आरोपियों के कब्जे से घटना में प्रयुक्त दो मोटर सायकल, आलाजरब लाठी, डण्डा, धारदार हथियार, बेस बाल डण्डा, लोहे का राड, तलवार आदि जप्त।

सात आरोपियों सहित एक विधि से संघर्षरत बालक गिरफ्तार।

थाना पुरानी भिलाई एवं एसीसीयु की संयुक्त कार्यवाही।

        

           दिनांक 05.06.2024 दरम्यानी रात को देवबलौदा में एल. चिरंजीव उर्फ ब्रुसली नामक व्यक्ति की कुछ लोगो के द्वारा हत्या करने के संबंध में सूचना प्राप्त हुयी, जिस पर तत्काल पुलिस टीम के द्वारा घटना स्थल पर पहुंचकर शव को मरच्युरी भिजवाया गया। प्रार्थी मुकेश कुमार मानिकपुरी निवासी देवबलौदा की रिपोर्ट पर थाना पुरानी भिलाई में अपराध क्रमांक 218/2024 धारा 302, 147, 148, 149, 120बी भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।

उक्त हत्या की घटना को अत्यंत ही गंभीरता से लेते हुए श्रीमान पुलिस अधीक्षक महोदय श्री जितेन्द्र शुक्ला (भापुसे) के द्वारा आरोपियों की शीघ्र पतासाजी कर गिरफ्तार करने हेतु निर्देश प्राप्त हुए थे। जिसके परिपालन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (शहर) भिलाई श्री सुखनंदन राठौर (रा.पु.से.), अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक क्राईम सुश्री रिचा मिश्रा (रा.पु.से.), उप पुलिस अधीक्षक क्राईम श्री हेमप्रकाश नायक (रा.पु.से.), नगर पुलिस अधीक्षक छावनी श्री हरिश पाटिल (रा.पु.से.) के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी पुरानी भिलाई निरीक्षक पी. डी. चन्द्रा एवं प्रभारी एसीसीयु निरीक्षण कपिल देव पाण्डेय के नेतृत्व में एक संयुक्त टीम गठित कर कार्यवाही हेतु लगाया गया। 

टीम द्वारा घटना स्थल का सूक्ष्मता से निरीक्षण कर जरूरी साक्ष्य एकत्रित कियें गये। चश्मदीद एवं आस पास के लोगो से पूछताछ कर आवश्यक जानकारी जुटायी गई। जिससे प्रारंभिक पतासाजी पर पता चला कि आरोपी अर्जुन बघेल, दीपक कुमार टंडन उर्फ गोलू, राजेश कुर्रे, भूपेंद्र टंडन, जसवंत मारकंडे, देवा बंजारे, सुनील बंधे, भीम बघेल, अजय बघेल, शेखर सेन एवं एक विधि से संघर्षरत बालक के द्वारा उक्त हत्या की घटना को अंजाम दिया गया है। टीम द्वारा आरोपियों के संबंध में पतासाजी करने पर घटना के बाद से सभी आरोपी अपने सकुनत से फरार हो गयें थें, जिनकी पतासाजी करने हेतु विशेष सूत्र भी लगाये गये। आरोपियों के छिपने के संबंधित ठिकानों पर अलग- अलग टीमें बनाकर लगातार दबिश दी गई। आरोपी गिरफ्तारी की भय से लगातार अपना स्थान परिवर्तित कर रहें थें, टीम द्वारा रायपुर, बलौदाबजार, बेमेतरा, राजनांदगांव, दुर्ग, बालोद के क्षेत्रों में आरोपियो उपस्थिति के संभावित ठिकानों में दबिश देकर आरोपी अर्जुन बघेल, दीपक कुमार टंडन उर्फ गोलू, राजेश कुर्रे, भूपेंद्र टंडन, जसवंत मारकंडे, देवा बंजारे, सुनील बंध एवं विधि से संघर्षरत बालक को पकड़ने में सफलता मिली। 

आरोपियों से विस्तृत पूछताछ पर आरोपियों के द्वारा मृतक एल. चिरंजीव उर्फ ब्रुसली के साथ पुराने झगड़े को लेकर रंजिश होना क्योंकि पिछले साल की होली में मृतक एल. चिरंजीव उर्फ ब्रुसली ने भीम के बड़े भाई अर्जुन को मारपीट किया था, जिसकी रिपोर्ट इनके द्वारा जीआरपी थाना भिलाई 03 में कराई गई थी और बीच बीच में झगड़ा विवाद होते रहता था, इसी तरह गांव के ही दीपक कुमार टंडन उर्फ गोलु के साथ भी मृतक ने पूर्व में मारपीट झगड़ा लड़ाई किया था, तब से दीपक कुमार टंडन उर्फ गोलु और भीम, उसका भाई और उसके साथियों के मध्य इसी बात को लेकर इनके बीच रंजिश बनी हुयी थी। ये लोग उस मारपीट की घटना का बदला लेने के लिए मौके की तलाश में लगे हुए थें। तभी दिनांक 05-06.06.2024 दरम्यानी रात को करीबन 10.00 बजे पता चला कि बंधवा तालाब के पास मैदान में एल. चिरंजीव उर्फ ब्रुसली गांव के जय सिंह एवं मुकेश मानिकपुरी के साथ शराब पी रहे हैं, तब गोलु के द्वारा मौका सही होने की बात करते हुए एल. चिरंजीव को सबक सिखाने की योजना बनाई गई और लाठी, डण्डा, धारदार हथियार, बेस बाल डण्डा, लोहे का राड, तलवार आदि लेकर मोटर सायकल से अर्जुन बघेल, दीपक कुमार टंडन उर्फ गोलू, राजेश कुर्रे, भूपेंद्र टंडन, जसवंत मारकंडे, देवा बंजारे, सुनील बंधे, भीम बघेल, अजय बघेल, शेखर सेन एवं एक विधि से संघर्षरत बालक बंधवा तालाब गये जहां पर मृतक एल. चिरंजीव उर्फ ब्रुसली अपने साथी मुकेश मानिकपुरी व जयसिंह के साथ बैठकर शराब पी रहा था, इनको देखकर जयसिंह और मुकेश मानिकपुरी भाग गयें जिसके बाद उक्त सभी आरोपियों के द्वारा लाठी, डण्डा, धारदार हथियार, बेस बाल डण्डा, लोहे का राड, तलवार आदि से मारपीट कर हत्या कर दी गई और सभी गिरफ्तारी की डर से भाग गयें थे। आरोपियों के निशादेही पर घटना में प्रयुक्त मोटर सायकल एक सुपर स्पलेण्डर बिना नंबर की एवं होण्डा शाईन क्रमांक CG 07 AM 2402 आलाजरब लाठी, डण्डा, धारदार हथियार, बेस बाल डण्डा, लोहे का राड, तलवार आदि उनके निशादेही पर पृथक पृथक बरामद कर जप्त किया गया। अग्रिम कार्यवाही थाना पुरानी भिलाई से की जा रही है। 

उक्त कार्यवाही में थाना पुरानी भिलाई से उप निरीक्षक योगेश्वर कुमार वर्मा, सहा. उप निरीक्षक जी.एन.एच. चौधरी, हिरामन रामटेके, मंगला गुप्ता, प्र.आर. राजेश साहू, रविन्द्र भारतीय, राजेश तिवारी, आरक्षक ईश्वर भारद्वाज, विजय पासवान, महेश बंछोर, शशिकांत यादव व एसीसीयु से सहा.उप निरी. चन्द्रशेखर सोनी, शमित मिश्रा, पूर्णबहादुर, प्र.आर. सगीर खान, रोमन सोनवानी, आरक्षक रिंकु सोनी, राकेश चौधरी, राकेश अन्ना, भावेश पटेल, गुनित कुमार, अजय गहलोत, शहबाज खान, अनुप शर्मा, शिव मिश्रा, जुगनु सिंह, अश्वनी यदु, मेघराज चेलक, राजकुमार चन्द्रा, अजय ढीमर, पंकज चतुर्वेदी की उल्लेखनिय भूमिका रही।