Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

तेन्दूपत्ता संग्रहण का ऑनलाईन भुगतान संबंधित प्रशिक्षण संपन्न

कवर्धा विदित हो कि कबीरधाम जिले के अंतर्गत लगभग 40100 मानक बोरा तेन्दूपत्ता माह मई में प्रतिवर्ष संग्रहण किया जाता है। इसमें 35000 वनवासियों...

Also Read

कवर्धा




विदित हो कि कबीरधाम जिले के अंतर्गत लगभग 40100 मानक बोरा तेन्दूपत्ता माह मई में प्रतिवर्ष संग्रहण किया जाता है। इसमें 35000 वनवासियों को लगभग 22 करोड़ रूपये एक माह की अल्प अवधि में प्राप्त होते है। दिनांक 30.04.2024 को कबीरधाम जिले के समस्त प्रबंधको तथा पोषक अधिकारी को संघ मुख्यालय द्वारा ऑनलाईन भुगतान की प्रशिक्षण प्रदान किया गया। प्रशिक्षण के पश्चात वनमण्डलाधिकारी कवर्धा द्वारा समस्त कर्मचारियो को निर्देशित किया गया कि वनवासियों को संग्रहण पश्चात 03 दिन के अंदर राशि भुगतान करें। ग्रामीणो का खाता ऑनलाईन है अथवा नही इसकी जांच करें तथा कही त्रुटि है तो उसे तत्काल सुधार कराये।

वनमण्डलाधिकारी द्वारा तेन्दूपत्ता संग्रहण संबंधित समस्त पहलुओ की विस्तृत समीक्षा की तथा पाया कि समस्त 263 तेन्दूपत्ता संग्रहण केन्द्रो पर फड़मुंशी, फड़ अभिरक्षक की ड्यूटी लगा दी गई है। 19 पोषक अधिकारी तथा 07 गुणवत्ता अधिकारी, 03 जोनल अधिकारी की नियुक्ति कर दी गई है। सीमा पर बैरियर लगा कर तेन्दूपत्ता को अन्य जिलो में जाने से रोकने के निर्देष दिये।

तेन्दूपत्ता की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने की समझाइस देते हुये वनमण्डलाधिकारी ने कहा कि इससे ग्रामीणो को बोनस अधिक प्राप्त होगा। तेन्दूपत्ता के अतिरिक्त चार गुठली, महुआ गुठली तथा शहद का अधिक से अधिक संग्रहण कर ग्रामीणो की आय में वृद्धि करने के निर्देश दिये।

संग्रहण दरों का विस्तृत प्रचार-प्रसार करें:- वनमण्डलाधिकारी महोदय ने कहा कि शासन ने इस वर्ष तेन्दूपत्ता संग्रहण दरों में वृद्धि की है। रूपये 4000 प्रति मानक बोरा के स्थान पर रू. 5500 मानक बोरा दिया जाना है। इसी प्रकार चिरौजी गुठली की दर की 200 रू. प्रति किलो से बढ़ाकर 350 रू. कर दी गई है। समस्त वनोपजो तथा तेन्दूपत्ता दरों का विस्तृत प्रचार, मुनादी, दीवार लेखन कर करने के निर्देष दिये।

प्रशिक्षण का निरीक्षण करने पहुॅचे पदेन मुख्य महाप्रबंधक कार्यालय के अधिकारी:- प्रशिक्षण सुचारू रूप से संचालित हो इस हेतु मुख्य महाप्रबंधक व मुख्य वन संरक्षक कार्यालय दुर्ग के अधिकारी श्री सुनील राठौर उप प्रबंधक व गोदाम प्रभारी श्री आनंद राव नायडू भी प्रशिक्षण के समय उपस्थित रहे