Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

पुलिस को दो शातिर चोरों को पकड़ने में बड़ी सफलता,वारदात को अंजाम देकर ऐशोआराम की जिंदगी जी रहे थे,अब चोरों की रात जेल में कटेगी

  बलौदाबाजार. भाटापारा शहर पुलिस को दो शातिर चोरों को पकड़ने में बड़ी सफलता मिली है, जो बलौदाबाजार जिले सहित आसपास के जिलों एवं ओड़िशा के शह...

Also Read

 बलौदाबाजार. भाटापारा शहर पुलिस को दो शातिर चोरों को पकड़ने में बड़ी सफलता मिली है, जो बलौदाबाजार जिले सहित आसपास के जिलों एवं ओड़िशा के शहरों में चोरी की वारदात को अंजाम देकर ऐशोआराम की जिंदगी जी रहे थे और किसी को आभास नहीं हो रहा था, लेकिन पुलिस की तीसरी आंख और शहर थानेदार की सूक्ष्म निगाहों से बच नहीं पाए और अब चोरों की रात जेल में कटेगी.

मामले का खुलासा करते हुए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अविनाश ठाकुर ने बताया कि भाटापारा शहर एवं ग्रामीण क्षेत्र में लगातार चोरी की घटनाएं हो रही थी. इस पर पुलिस काफी दिनों से खोजबीन में जुटी हुई थी और सायबर सेल सीसीटीएनएस की टीम के साथ भाटापारा शहर एवं ग्रामीण पुलिस की टीम लगातार तकनीकी पहलुओं को ध्यान देते हुए बारीकी से जांच एवं सीसीटीवी खंगाल रही थी. ऐसे में सीसीटीवी फुटेज में लगातार जिस क्षेत्र में चोरी की घटनाएं हुई थी वहां बुलेट सवार की आवाजाही देखी गई. इसके बाद खोजबीन प्रारंभ की गई.

खोजबीन के दौरान पता चला कि दो लोग भाटापारा में किराये का मकान लेकर निवास करता है, जहां सुख सुविधा की सारी चीज मौजूद थी. पुलिस की पूछताछ में दोनों ने भाटापारा के पांच जगहों में चोरी करना स्वीकार किया एवं चोरी के सामान को अपने साथी जो सोनार का काम करता था उसे बेचना बताया. निशानदेही पर पुलिस ने लगभग आठ लाख रुपये से अधिक के सोने चांदी के जेवरात व घटना में प्रयुक्त बुलेट मोटरसाइकिल जब्त किया है. अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने बताया, आरोपी आदतन चोर है और ओडिशा में आठ व रायपुर में दो चोरी के वारदातों में जेल जा चुका है. चोरी के पैसों से जमीन खरीदने की बात भी सामने आ रही है, जिसकी जांच की जा रही है.

आरोपी का नाम संतोष कुमार राठौर उम्र 34 वर्ष एवं अक्षय कुमार वर्मा उम्र 34 वर्ष जिला सुंदरगढ़ ओडिशा निवासी है. पुलिस ने यह जरूर खुलासा किया कि चोरी के मुख्य आरोपी का मित्र सोने चांदी के सामान का लगाई का काम करता था पर दुकान का नाम नहीं बता पाई और न ही जिक्र किया, जो अनेक सवाल भी खड़ा करते हैं.