Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

स्वरूपानंद महाविद्यालय में संत शिरोमणि भक्त माता कर्मा जयंती पर परिचर्चा का आयोजन

  भिलाई. असल बात न्यूज़.     स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में महिला सेल द्वारा संत शिरोमणि भक्त माता कर्मा जयंती के अवसर पर परि...

Also Read

 


भिलाई.

असल बात न्यूज़.    

स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में महिला सेल द्वारा संत शिरोमणि भक्त माता कर्मा जयंती के अवसर पर परिचर्चा का आयोजन किया गया इस परिचर्चा में महाविद्यालय के समस्त शिक्षक गण उपस्थित रहे। महिला सेल प्रभारी स.प्रा. श्रीमती उषा साहू, शिक्षा विभाग ने बताया आराध्य मां कर्माबाई के जीवन से हमें आत्मबल, निर्भीकता, साहस, पुरुषार्थ, समानता और राष्ट्र भावना की शिक्षा मिलती है। मां कर्मा ने अपनी भक्ति से साक्षात कृष्ण के दर्शन किए और बालकृष्ण को अपने हाथों से खिचड़ी खिलाई। 

महाविद्यालय के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. दीपक शर्मा ने मां कर्माबाई जयंती  पर प्राध्यापको को हार्दिक शुभकामनाएं दी। 

महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. हंसा शुक्ला ने कहा माता कर्मा सामाजिक और धार्मिक कार्यों में लगनपूर्वक लगी रही आजीवन वह शोषित, पीड़ित एवं असहाय लोगो के हित के लिए कार्य करती रही। इन्ही कारणों से कर्माबाई का यशगान बड़ी तेजी से फैलने लगा और लोग उन्हें भक्त शिरोमणि माता कर्मा कहने लगे। भक्त माता कर्मा सम्पूर्ण मानव जाती के लिए आदर्श है।

महाविद्यालय की उपप्राचार्य डॉ. अज़रा हुसैन ने कहा मां कर्माबाई के जीवन से अपने बल, निर्भीकता, साहस, पुरुषार्थ, समानता और राष्ट्र भावना की शिक्षा मिलती है वह अन्याय के आगे कभी झुकी नहीं उन्होंने संसार के हर दुख-सुख को स्वीकारा और डटकर उनका मुकाबला किया।

डॉ. पूनम निकुंभ, विभागाध्यक्ष शिक्षा ने कहा कर्माबाई को मारवाड़ की मीरा भी कहा जाता है जब - जब भगवान कृष्ण का उल्लेख आता है। माँ कर्मा का नाम भी आ ही जाता है भगवान की महान भक्त थी और भगवान कृष्ण ने उन्हें साक्षात दर्शन दिए थे। 

डॉ. दुर्गावती मिश्रा ने कहा माता कर्मा का जन्म उत्तर प्रदेश के झांसी नगर में संवत् 1073 सन 1017 ईस्वी में चैत्र कृष्ण पक्ष के पाप मोचनी एकादशी के दिन प्रसिद्ध तेल व्यापारी श्रीराम साहू के घर हुआ था इस वर्ष 5 अप्रैल को भक्त माता कर्मा की जयंती मनाई जा रही है।

डॉ. शैलजा पवार ने कहा भक्त माता कर्मा सेवा, त्याग, भक्ति, समर्पण की देवी थी। परम आराध्य साध्वी भक्त शिरोमणि मां कर्मा देवी देश विदेश में सर्व साहू तेली समाज की देवी कर्माबाई की गौरव गाथा जनमानस में विगत हजारों वर्षों से चली आ रही है। 

कार्यक्रम में शिक्षा महाविद्यालय की समस्त शिक्षकगण उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन स.प्रा. श्रीमती उषा साहू द्वारा किया गया।