Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

छत्तीसगढ़ विधानसभा का बजट सत्र 5 फरवरी से होगा शुरू,एक मार्च तक इसकी बीस बैठके होगी

छत्तीसगढ़.  असल बात न्यूज़.    छत्तीसगढ़ की ष ष्ठम  विधानसभा का द्वितीय सत्र कल 5 फरवरी से 1 मार्च तक शुरू होने जा रहा है.इस सत्र के कुल 20 ब...

Also Read





छत्तीसगढ़.

 असल बात न्यूज़.  

 छत्तीसगढ़ की षष्ठम विधानसभा का द्वितीय सत्र कल 5 फरवरी से 1 मार्च तक शुरू होने जा रहा है.इस सत्र के कुल 20 बैठकर होगी और इसमें प्रश्न उत्तर के लिए अभी सदस्यों की अभी तक स्कूल 2335 सूचनाये प्राप्त हुई है. इस सत्र में 9 फरवरी को दोपहर में राज्य का बजट प्रस्तुत किया जाएगा. राज्यपाल के अभिभाषण से सत्र की शुरुआत होगी.

 विधानसभा के स्पीकर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस लेकर छत्तीसगढ़ विधानसभा के बजट सत्र और बैठकों के बारे में विस्तृत जानकारी दी. उन्होंने बताया कि सुरेश के राज्यपाल 5 फरवरी को पूर्वानह 11:05 से सदन में अपना अभिभाषण देंगे. राज्यपाल के अभिभाषण के कृतज्ञता ज्ञापन प्रस्ताव पर सदन में 7 और 8 फरवरी को चर्चा होगी. बजट सत्र में प्रदेश के वित्त मंत्री ओपी चौधरी राज्य के वर्ष 2024 25 के आय-व्ययक  का उपस्थापन करेंगे. सदन में वित्तीय वर्ष 2024- 25 के आय- व्ययक पर 12 एवं 13 फरवरी को सामान्य चर्चा होगी. 14 से 26 फरवरी तक विभाग वर अनुदान मांगों पर चर्चा की जाएगी.

 स्पीकर डॉक्टर रमन सिंह ने बताया कि इस बजट सत्र के दौरान छत्तीसगढ़ सिविल न्यायालय संशोधन विधेयक 2024, छत्तीसगढ़ राजीम माघी पुन्नी मेला संशोधन विधेयक 2024, छत्तीसगढ़ माल और सेवा कर संशोधन विधेयक 2024, इत्यादि विधेयकों के प्रस्तुत करने की सूचना प्राप्त हुई है. सदस्यों से 4 फरवरी की स्थिति में प्रश्नों की कुल 2335 सूचनाओं प्राप्त हुई हैं जिसमें से 1162 तारकित प्रश्न है. प्रश्न देने की अंतिम तारीख 8 फरवरी तक निर्धारित की गई है.

 विधानसभा अध्यक्ष डॉ रमन सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ विधानसभा में अब पेपर लेस वर्क को बढ़ावा दिया जा रहा है. सभी कार्रवाइयों का डिजिटलीकरण  करने की कोशिश की जा रही है. विधानसभा ने स्वयं की वेबसाइट का निर्माण कर उसका प्रवर्तन भी किया है. विधानसभा पोर्टल तैयार किया जा रहा है जिसमें राज्यपाल का अभिभाषण, बजट पत्र, बजट भाषण, बजट, आर्थिक सर्वेक्षण, अनुपूरक अनुमान, अनुदान मांगों की पुस्तिका, विधेयक, वार्षिक प्रतिवेदन अध्यादेश को डिजिटली उपलब्ध कराया जाएगा.