Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

दुर्ग में पशु नस्ल सुधार के क्षेत्र में कार्य करने वाले पशुपालक सम्मानित,सांसद विजय बघेल एवं कलेक्टर ऋचा प्रकाश चौधरी ने किया सम्मान

  *आलबरस में जिला स्तरीय पशु मेला उत्सव एवं प्रदर्शनी का आयोजन संपन्न   दुर्ग. असल बात न्यूज़.      जानकारी आ रही है कि दुर्ग जिले में पशुओं ...

Also Read

 


*आलबरस में जिला स्तरीय पशु मेला उत्सव एवं प्रदर्शनी का आयोजन संपन्न


 दुर्ग.

असल बात न्यूज़.   

 जानकारी आ रही है कि दुर्ग जिले में पशुओं की नस्ल को सुधारने के लिए भी बड़ा काम हो रहा है. यहां के विभिन्न गांवो में किसान अपने पशुओं की नस्ल को सुधारने की दिशा में काम कर रहे हैं. इसमें पशु चिकित्सकों के द्वारा भी सहयोग प्रदान किया जा रहा है. आज यहां के ग्राम पंचायत आलबरस में जिला स्तरीय पशु मेला उत्सव एवं प्रदर्शनी का आयोजन किया गया. तो इसमें पशुओं की नस्ल सुधारने में सफलता हासिल करने वाले किसानों  ने भी हिस्सा लिया. इन किसानों को सम्मानित भी किया गया.

 प्रदर्शनी में पशुचिकित्सा मोबाईल वैन आकर्षक का केन्द्र बना रहा। कार्यक्रम में मोबाईल वैन के माध्यम से कृत्रिम गर्भधान, फ्रीजिंग, माइक्रोस्कोप तथा अन्य दवाई वगैरह की वितरण की गई है। शासन द्वारा जिले में कुल 5 मोबाईल वैन आबंटित हुई है। यह मोबाईल वैन जिले के सभी ग्राम पंचायतों में पशुओं का ईलाज किया जा रहा है। पशु मेले में बहुत से ऐसे किसान पशु विभाग के मार्गदर्शन से अपने जानवरों के नस्लों का सुधार किया जा रहा है और किसानों की आर्थिक स्थिति मजबूत हो रही है। किसानों का इन्कम दुगुनी करने का मूल उद्देश्य है। प्रदर्शनी के दौरान जिन किसानों ने अच्छा प्रदर्शन किया, उन किसानों को सम्मानित भी किया गया।

किसान अधिकारियों से मिलकर या फोन पर भी पशु से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते है। इस शिविर में 15 गांव के किसान भी शामिल हुए। कार्यक्रम में सांसद श्री विजय बघेल ने कहा कि कबड्डी खेल में आलबरस से पुराना नाता रहा है। उन्होंने कहा कि आलबरस सहित आसपास क्षेत्र तांदुला, खरखरा और शिवनाथ नदी के तट पर स्थित है और यह फसल और पशुपालकों के लिए उपयुक्त है।

इस दौरान कलेक्टर सुश्री ऋचा प्रकाश चौधरी, पशुविभाग के उपसंचालक श्री सुदीप प्रताप सिंह के साथ अन्य अधिकारी, जनप्रतिनिधि व बड़ी संख्या में ग्रामीणजन मौजूद थे।