Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

Classic Header

{fbt_classic_header}

Top Ad

ब्रेकिंग :

latest

Breaking News

स्वामी श्री स्वरुपानंद सरस्वती महाविद्यालय में विश्व एड्स दिवस पर विविध प्रतियोगिता का आयोजन

  भिलाई। असल बात न्यूज़। स्वामी श्री स्वरूपांनद सरस्वती महाविद्यालय, हुडको भिलाई में आई.क्यू.ए.सी. सेल, बायोटेक्नोलाॅजी विभाग व राष्ट्रीय से...

Also Read

 भिलाई। असल बात न्यूज़।

स्वामी श्री स्वरूपांनद सरस्वती महाविद्यालय, हुडको भिलाई में आई.क्यू.ए.सी. सेल, बायोटेक्नोलाॅजी विभाग व राष्ट्रीय सेवा योजना के संयुक्त तात्वावधान में एड्स दिवस के अवसर पर अतिथि व्याख्यान, प्रश्नोत्तरी व पोस्टर प्रतियोगिता का आयोजन रेड रिबन संस्था के सौजन्य से किया गया। जिसका थीम ”वैश्विक एकजूटता-साझा जिम्मेदारी“ रखा गया था।

कार्यक्रम प्रभारी डाॅ. शिवानी शर्मा विभागाध्यक्ष बायोटेक्नोलाॅजी ने बताया एड्स भयावह महामारी है विद्यार्थियों में जागरुकता उत्पन्न करने के उद्देश्य से कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसके अन्र्तगत वेबिनार, चित्रकला व प्रश्नोत्तरी का आयोजन किया गया।

वेबिनार में मुख्य वक्ता के रुप में डाॅ. मानसी गुलाटी ने  विद्यार्थियों को संबोधित किया व एड्स के भयावहता व रोकथाम के तरीकों की जानकारी दी व बताया हमेशा विषाणुरहित अथवा डिस्पोजेबल सिरीज का ही उपयोग करें, सुरक्षित यौन संबंध बनाए, उन्होंने बताया एच.आई.वी. संक्रमित महिला भी गर्भधारण कर सकती है, गर्भधारण के दौरान अपने खून में संक्रमण की मात्रा को कम करने वाली दवाईयां नियमित ले ताकि उनके आने वाले नवजात शिशु को संक्रमण से बचाया जा सके इससे जन्म के पश्चात् बच्चे का ईलाज कराने में मदद मिलेगी, प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिये हेल्दी व संतुलित भोजन का सेवन करे। संक्रमण से पीड़ित व्यक्तियों को सिगरेट के कारण हार्टअटैक और फेफड़ों में कैंसर होने की संभावना अधिक होती है इसलिये सिगरेट पीने से परहेज करे।

प्राचार्य डाॅ. श्रीमती हंसा शुक्ला ने कार्यक्रम आयोजन के लिये बधाई देते हुये कहा एड्स की जानकारी ही बचाव का महत्वपूर्ण तरीका है यह अधिकतर असुरक्षित यौन संबंध, संक्रमित सुई व रक्त चढ़ाने से फैलता है। एड्स का रोगी तिरस्कार का शिकार हो जाता है। लोग उसके प्रति सहानुभूति नहीं दिखाते सामाजिक तिरस्कार का भी सामना करना पड़ता है।

पोस्टर प्रतियोगिता में 18 प्रतिभागियों ने भाग लिया। जिसमें -प्रथम - आयुषि साव बी.एस.सी.-तृतीय वर्ष बायोटेक्नोलाॅजी,द्वितीय - फिजा सिद्विकी एम.एस.सी.-तृतीय सेमेस्टर बायोटेक्नोलाॅजी,तृतीय - पूजा ओसारे एम.एस.सी.-तृतीय सेमेस्टर बायोटेक्नोलाॅजी,सांत्वना - अर्चिता देवनाथ बी.एस.सी.-प्रथम वर्ष बायोलाॅजी

पोस्टर प्रतियोगिता की निर्णायक डाॅ. कविता वर्मा स.प्रा. शिक्षा विभाग कल्याण महाविद्यालय थी। उन्होंने बताया विद्यार्थियों में जागरुकता उत्पन्न करने का अच्छा प्रयास है बहुत अच्छा पोस्टर बनाया निर्णय करना अत्यंत कठिन था। उन्होंने पोस्टर के माध्यम से संगठित हो एड्स से लड़ने का संदेश दिया। 

प्रश्नमंच में चयनित विद्यार्थियों के नाम इस प्रकार है-

प्रथम - मिनी अग्रवाल एम.एस.सी.-तृतीय सेमेस्टर बायोटेक्नोलाॅजी,द्वितीय - शमा सिद्विकी एम.एस.सी.-तृतीय सेमेस्टर बायोटेक्नोलाॅजी,तृतीय - हेमंत कुमार एम.एस.सी.-तृतीय सेमेस्टर बायोटेक्नोलाॅजी, शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्वशासी महाविद्यालय, दुर्ग

प्रश्नमंच में 50 से अधिक विद्यार्थियों ने भाग लिया। पुरस्कार वितरण रेड रिबन संस्था के सौजन्य से किया गया। कार्यक्रम को सफल बनाने में सहायक प्राध्यापक दीपक सिंग, प्रभारी राष्ट्रीय सेवा योजना, स.प्रा. शिरिन अनवर, सहायक प्राध्यापक डाॅ. चैेताली मैथ्यू ने विशेष योगदान दिया।