शराब बंदी पर सरोज पांडे का दोहरा रवैया - वंदना राजपूत

 


 रायपुर. राज्यसभा सांसद सरोज पांडे के शराबबंदी के बयान पर पलटवार करते हुए प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता वंदना राजपूत ने कहा कि जिस प्रकार हाथी के दांत खाने का और दिखाने का और रहता है वैसे ही भारतीय जनता पार्टी के नेताओं का है। सरोज पांडेय एवं भारतीय जनता पार्टी के नेता गण झूठ बोलने के मशीन है झूठ को बार-बार कहने से वो सच नहीं बनता है। 15 साल के शासन में पूर्ववर्ती रमन सिंह के सरकार ने प्रदेश के भोली-भाली जनता को नशे के गर्त में धकलने का काम किये है। पूर्ववर्ती सरकार ने शराब का सरकारी करण करके सरकार स्वयं शराब बेचने का काम करती थी, 2016 में प्रति व्यक्ति खपत में छत्तीसगढ़ को गोवा को पीछे छोड़ दिया था, तब सरोज पांडे मौन थी। भारतीय जनता पार्टी के कई दर्जन नेता शराब तस्करी में पकड़े जाते है। भारतीय जनता पार्टी के ये दोहरा चरित्र है। मध्यप्रदेश में भाजपा की सरकार ने एक नई स्वर्णिम योजना लाई है शराब लाइसेंस के लिये सिर्फ अब 500 रुपये में लाइसेंस दे रही है और घर बैठे जितना चाहे शराब पाओ। भारतीय जनता पार्टी के दोहरा चरित्र जनता के सामने उजागर हो रही है। गुजरात में करोड़ों के ड्रग्स का सफलाई दिन रात होता है किसके इशारे पर हो रहा है सरोज पांडे बताये?

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता वंदना राजपूत ने कहा कि गुजरात और बिहार में शराबबंदी है, दोनों राज्यों में खुलेआम शराब बिक रहा है। दोनों जगह करोड़ों रुपए के अवैध शराब पकड़े गए। जहरीली शराब पीने से कितनों की मौत हो रही है इस पर केंद्र सरकार मौन है?
रमन सरकार भी शराबबंदी की बात कहकर शराब बेचने लग गये थे। रमन सिंह के समय 3000 स्कूलों को बंद करके शराब भट्टी खोलने के काम किये है। कांग्रेस सरकार अपने वादे के मुताबिक 90 प्रतिशत वादा पूरा कर लिये है। सरकार शराबबंदी पर राजनैतिक, सामाजिक, प्रशासनिक कमेटी बनाकर अध्ययन कर रही है।