ऋषभ पंत की मदद करने वाले लोगों को किया जाएगा सम्मानित

 


 नई दिल्ली. उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा है कि भारतीय क्रिकेटर ऋषभ पंत की कार दुर्घटना के बाद मदद के लिए आगे आने वाले लोगों को सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा केंद्र सरकार की गुड समैरिटन योजना के तहत सम्मानित किया जाएगा। ऋषभ पंत का शुक्रवार तड़के सुबह रुड़की जाते हुए एक्सीडेंट हो गया था। एक्सीडेंट के बाद हरियाणा रोडवेज बस के एक ड्राइवर और कंडेक्टर ने पंत की मदद की थी जिस वजह से उनकी जान बच पाई। एक्सीडेंट के बाद उनकी गाड़ी धू-धू करके जल गई थी।

फैंस के साथ-साथ भारत के पूर्व क्रिकेटर भी पंत की मदद करने के लिए सुशील की सराहना कर रहे हैं। भारत के दिग्गज वीवीएस लक्ष्मण भी उनकी प्रशंसा करते हुए उन्हें असली हीरो बताया है। 

वीवीएस लक्ष्मण ने ट्वीट करके लिखा, ''सुशील कुमार का आभार, एक हरियाणा रोडवेज ड्राइवर, जोकि जलती हुई कार से ऋषभ पंत को दूर ले गए, बेडशीट दिया और एंबुलेंस बुलाई। सुशील जी, आपकी निस्वार्थ सेवा के लिए हम आपके बहुत ऋणी हैं।''

ऋषभ पंत अकेले गाड़ी चलाकर दिल्ली से अपने घर जा रहे थे, रास्ते में उनकी कार का एक्सीडेंट हुआ। इस हादसे के बाद उन्हें लोकल अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां कुछ इलाज होने के बाद उन्हें देहरादून के मैक्स हॉस्पिटल में शिफ्ट किया गया। पंत को इस एक्सीडेंट में काफी चोट आई है, हालांकि खतरे की कोई बात नहीं है। पुलिस ने बताया कि 25 वर्ष के पंत को सिर, पीठ और पैरों में चोट आई हैं, लेकिन उनकी हालत स्थिर है। पंत अपनी मां को सरप्राइज देने के लिये रुड़की जा रहे थे।

ऋषभ पंत को फिलहाल आईसीयू में रखा गया है। मैक्स अस्पताल, देहरादून के चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर आशीष याग्निक ने कहा कि हड्डी के विशेषज्ञों और प्लास्टिक सर्जन की टीम पंत को देख रही है।

ईएसपीएनक्रिकइंफो की रिपोर्ट के मुताबिक पंत की एमआरआई रिपोर्ट में दिमाग और रीढ़ की हड्डी' नॉर्मल है। यानी इस पर कोई अंदरूनी चोट नहीं हैं। ऋषभ पंत ने चेहरे की चोटों, कटे-फटे घावों और खरोंच के लिए प्लास्टिक सर्जरी भी कराई है। दर्द और सूजन के कारण उनके टखने और घुटने का एमआरआई स्कैन कल हो पाएगा।