अपनी बास्केटबॉल खिलाड़ी चाहिए तो हमारा 'मौत का सौदागर' वापस दे दो, रूस की डिमांड सुन भड़का अमेरिका


 

 मास्को. यूक्रेन में चल रहे युद्ध के बीच अमेरिका और रूस एक समझौते पर बात कर रहे हैं। यह समझौता कैदियों की अदला-बदली को लेकर हो रहा है। दरअसल अमेरिका की एक फेमस बास्केटबॉल खिलाड़ी ब्रिटनी ग्राइनर इस समय रूस की जेल में बंद हैं। अमेरिका ब्रिटनी ग्राइनर को रूस की जेल से छुड़ाने के लिए रूस के कुछ कैदियों को छोड़ने की योजना बना रहा है। ग्राइनर को ड्रग के आरोप में दोषी ठहराया गया है और रूसी जेल में कैद हैं।

हाल ही में रूस के उप विदेश मंत्री सर्गेई रयाबकोव ने दावा किया था कि अमेरिकी बास्केटबॉल खिलाड़ी ब्रिटनी ग्राइनर को रूसी जेल से मुक्त करने और उसे घर लाने के लिए नए सिरे से "गतिविधि" शुरू की गई है। अमेरिका ने रूस के उप विदेश मंत्री के दावों का खंडन किया है।

रूस ने रखी विक्टर बाउट को छोड़ने की मांग

रूसी मीडिया की रिपोर्टों के अनुसार, सर्गेई रयाबकोव ने सजायाफ्ता हथियार डीलर विक्टर बाउट को अमेरिका से छोड़ने को कहा है। उन्होंने कहा कि बास्केटबॉल खिलाड़ी ब्रिटनी ग्राइनर के बदले में अमेरिका को विक्टर बाउट को छोड़ना होगा। विक्टर बाउट को 'मौत का सौदागर' कहा जाता है। वह एक रूसी नागरिक है और अमेरिका में 25 साल जेल की सजा काट रहा है।

रयाबकोव ने कथित तौर पर कहा, "हम में अभी तक आम सहमति नहीं बनी है, लेकिन निस्संदेह, विक्टर बाउट उन लोगों में से है जिन पर चर्चा की जा रही है और जाहिर तौर पर हम सकारात्मक परिणाम की उम्मीद कर रहे हैं। अमेरिकी कुछ दिलचस्पी दिखा रहे हैं और हम उचित चैनलों के माध्यम से इस पर काम कर रहे हैं।"

रूस के इन दावों पर अमेरिका भड़का नजर आ रहा है। अमेरिका का कहना है कि रूस पहले के प्रस्ताव पर नेक नियत नहीं दिखा रहे हैं। जवाब में, अमेरिकी सरकार ने कहा, "हम किसी भी प्रस्ताव की बारीकियों पर टिप्पणी नहीं करेंगे। हम इतना जरूर कहेंगे कि हमने रूस को एक महत्वपूर्ण प्रस्ताव दिया है लेकिन रूसी संघ नेक नीयत से बातचीत करने में लगातार विफल रहा है।"

कौन है मौत का सौदागर विक्टर बाउट?

मौत के सौदागर विक्टर बाउट के बारे में कहा जाता है कि वह अपने हथियारों की आपूर्ति के साथ दुनिया भर में हिंसा को बढ़ावा देता था। कुख्यात, विक्टर बाउट को लंबे समय तक अवैध हथियारों की तस्करी की छायादार दुनिया में एक प्रमुख व्यक्ति माना जाता था।

2008 में उसकी गिरफ्तारी से पहले, बाउट का कामकाजी नेटवर्क अफगानिस्तान, पाकिस्तान, इराक, सूडान, अंगोला, कांगो, लाइबेरिया, फिलीपींस, रवांडा और सिएरा लियोन तक फैला हुआ था। उसके कारनामों ने उसे 'मौत का सौदागर' बनाया, और यहां तक कि हॉलीवुड फिल्म 'लॉर्ड ऑफ वॉर' में अभिनेता निकोलस केज द्वारा निभाया गया कैरेक्टर उसी से प्रेरित था। 

बाउट कथित सैन्य खुफिया पृष्ठभूमि वाला एक पूर्व सोवियत वायु सेना अधिकारी है। बाउट ने पुराने लेकिन अत्यधिक मजबूत एंटोनोव, इल्युशिन और याकोवलेव कार्गो विमानों के एक निजी बेड़े को खरीदा था जो सोवियत संघ के पतन के बाद कबाड़ में जाने वाले थे। एक रिपोर्ट के अनुसार, उसका नया स्टार्ट-अप रूसी सैन्य खुफिया सेवा जीआरयू की मदद से शुरू हुआ, जिससे उसने पहले तीन विमान खरीदे।

उसका एयर फ्रेट ऑपरेशन जल्द ही हथियारों की दुनिया का सबसे खतरनाक व्यवसाय बन गया। वह खुद को लाइमलाइट से दूर रखता था और यही वजह है कि 9/11 से पहले बड़े पैमाने पर दुनिया उसकी गतिविधियों से बेखबर रही। 2007 में 'मर्चेंट ऑफ डेथ' शीर्षक से उस पर एक किताब लिखी गई।