दूसरी लड़की के लिए श्रद्धा की हत्या?

 


श्रद्धा हत्याकांड के सबूत तलाश रही दिल्ली पुलिस अब यह भी जांच कर रही है कि क्या आरोपी आफताब ने पीड़िता की हत्या की साजिश के तहत ही छतरपुर इलाके में एक फ्लैट किराए पर लिया था। पुलिस ने यह भी खुलासा किया है कि आरोपी आफताब पूनावाला एक फूड ब्लॉगर था जो दिल्ली में एक कॉल सेंटर में काम करता था।

महाराष्ट्र की रहने वाली श्रद्धा वाकर की दिल्ली के महरौली में उसके लिव-इन पार्टनर आफताब ने कथित तौर पर गला दबाकर हत्या करने के बाद शव के 35 टुकड़े कर अलग-अलग जगहों पर फेंक दिए थे।

दिल्ली पुलिस सूत्रों के अनुसार, दिल्ली पुलिस बम्बल डेटिंग ऐप पर बने आफताब के प्रोफाइल की डिटेल प्राप्त करने के लिए बम्बल को लिख सकती है ताकि उन लड़कियों का डिटेल मिल सके जो उसके घर में उससे मिलने आई थीं जब श्रद्धा के शव के टुकड़े भी फिज में रखे थे। पुलिस इस एंगल से भी जांच कर रही है कि क्या इनमें से कोई महिला इस हत्या के पीछे का कारण हो सकती है?

पुलिस की जांच में यह बात भी सामने आई है कि इस प्रेमी जोड़े में अक्सर झगड़ा होता रहता था। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, 2022 में दिल्ली शिफ्ट होने से पहले ये कपल 2019 में रिलेशनशिप में आया था। ये कुछ समय के लिए महाराष्ट्र में रहे, लेकिन अपनी यात्रा के दौरान यह दोनों कई जगहों पर गए थे।

पुलिस के मुताबिक, मार्च-अप्रैल में वे हिल स्टेशन गए थे। दोनों मई में कुछ दिनों के लिए हिमाचल प्रदेश गए थे और साथ में रुके थे, जहां उनकी मुलाकात दिल्ली के छतरपुर में रहने वाले एक शख्स से हुई। रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिल्ली शिफ्ट होने के बाद, वे शुरुआत में उसी शख्स के फ्लैट पर रुके थे, जिससे वे हिमाचल में मिले थे। हालांकि, बाद में आफताब ने छतरपुर में एक फ्लैट किराए पर लिया जहां वह श्रद्धा के साथ रहने लगा। 18 मई को छतरपुर के इसी फ्लैट में कथित तौर पर उसकी गला दबाकर हत्या कर दी गई थी पुलिस को पता चला है कि हत्या के कुछ दिन पहले ही कमरा किराए पर लिया गया था। पुलिस सूत्रों ने कहा कि यह भी जांच का विषय है कि क्या आफताब ने पहले ही उसकी हत्या की साजिश रची थी। आरोपी ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि इस इलाके में रात के समय लोगों की आवाजाही कम होने के कारण वह रात 2:00 बजे शव के टुकड़ों को ठिकाने लगाने के लिए ले जाता था।

पुलिस को पता चला है कि आरोपी आफताब ने ग्रेजुएशन किया है और उसका परिवार मुंबई में रहता है। आफताब के सोशल मीडिया को देखने से पता चलता है कि उसने कुछ समय के लिए फूड ब्लॉगिंग भी की थी, हालांकि लंबे समय से उसकी ब्लॉगिंग के बारे में कोई वीडियो नहीं आया था। उसकी आखिरी पोस्ट फरवरी के महीने में आई थी, जिसके बाद उसके प्रोफाइल पर कोई एक्टिविटी नहीं हुई। उसके इंस्टाग्राम पर 28,000 से ज्यादा फॉलोअर्स हैं।

सूत्रों ने कहा कि पता चला है कि हत्या के बाद आफताब शाम 6-7 बजे तक घर आ जाता था और फिर वहां फ्रिज में रखे शव के टुकड़ों को डिस्पोजल के लिए ले जाता था। उसके पास एक काली पन्नी थी, लेकिन शव के टुकड़ों को जंगल में पन्नी से बाहर निकालकर फेंकता था, जिससे यह पता लगाना मुश्किल हो गया था कि क्या टुकड़े फेंके गए थे या अवशेष जानवरों के शिकार के कारण थे।

पुलिस ने बताया कि आफताब ने गूगल पर सर्च करने के बाद फर्श पर लगे खून के धब्बे को किसी केमिकल से साफ किया और खून से सने कपड़ों को भी नष्ट कर दिया। हत्या के बाद उसने शव को बाथरूम में शिफ्ट कर दिया और पास की एक दुकान से फ्रिज खरीद कर ले आया और शव के छोटे-छोटे टुकड़े कर फ्रिज में रख दिए थे।

बता दें कि 28 वर्षीय आफताब और 27 वर्षीय श्रद्धा एक डेटिंग साइट पर मिले थे। श्रद्धा मुंबई में एक कॉल सेंटर में काम करती थी और बाद में दोनों छतरपुर में किराये के मकान में साथ रहने लगे। पुलिस के मुताबिक, कुछ समय पहले तक श्रद्धा और आफताब दोनों कॉल सेंटर में काम करते थे। दिल्ली पुलिस को श्रद्धा के पिता से शिकायत मिली और 10 नवंबर को एफआईआर दर्ज की गई।

श्रद्धा हत्याकांड मामले में श्रद्धा के वाकर के पिता ने हत्या के आरोपी आफताब अमीन पूनावाला के लिए मौत की सजा की मांग की है। उन्होंने घटना के पीछे 'लव जिहाद' की आशंका भी संदेह भी जताई है।

श्रद्धा के पिता विकास वाकर ने कहा, "मुझे लव जिहाद एंगल पर संदेह है। हम आफताब के लिए मौत की सजा की मांग करते हैं। मुझे दिल्ली पुलिस पर भरोसा है और जांच सही दिशा में आगे बढ़ रही है। श्रद्धा अपने चाचा के करीब थी और मुझसे ज्यादा बात नहीं करती थी। मैं आफताब के संपर्क में कभी नहीं था। मैंने मुंबई के वसई में पहली शिकायत दर्ज कराई थी।