आपकी मेहनत पर पानी फेर सकती हैं वेट लॉस से जुड़ी ये 6 गलतियां, जानें क्या है वजन कम करने का सही तरीका

 


नई दिल्ली स्ट्रिक्ट डाइट और वर्कआउट फॉलो करने के बाद भी अगर आपका वजन जस का तस बना हुआ है तो यकीनन आप इन 6 वर्कआउट मिस्टेक में से कोई एक गलती कर रहे हैं। जी हां, वेट लॉस के लिए हेल्दी डाइट, रोज़ाना वर्कआउट और एक्टिव लाइफस्टाइल अपनाने के बाद भी अगर आपका वजन कम होने का नाम ही नहीं ले रहा, तो इसके पीछे ये 6 कारण जिम्मेदार हो सकते हैं। सेलिब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर ने अपने इंस्टा पोस्ट पर वजन घटाते समय की जाने वाली कुछ सामान्य गलतियों के बारे में बात की है, आइए जानते हैं उन गलतियों के बारे में। 

स्लिम नहीं फिट रहना है जरूरी-
रुजुता दिवेकर कहती हैं कि वेट लॉस का मतबल कुछ किलो वजन कम करना नहीं होता है। इसका मतलब आपके थुलथुले शरीर से लेकर आपकी सेहत तक का पूरा ध्यान रखने से होता है। इसमें ताकत, सहनशक्ति, लचीलापन और यहां तक कि कमर से कूल्हे का अनुपात जैसी सभी चीजें शामिल होती हैं। ऐसे में वजन घटाने के लिए उन तरीकों को न पसंद करें जो आपको सिर्फ टॉर्चर करने का काम करते हैं।

पिछले अनुभवों से न करें तुलना -
कोई भी दो वेट लॉस के अनुभव समान नहीं हो सकते। यदि आपको लगता है कि पहले आहार आपके लिए कारगर रहा है, तो हो सकता है कि यह आपकी वर्तमान आवश्यकताओं के अनुसार उपयुक्त न हो। एक अच्छा आहार वह है जो अनिश्चितताओं और आपके तनाव के स्तर और भूख में बदलाव के कारकों को एडजस्ट कर सके। 

वजन ही नहीं वेट लॉस के दौरान ये चीजें भी करें नोटिस-
वेट लॉस जर्नी के दौरान अक्सर लोगों का ध्यान अपने बढ़ते और घटते वजन की तरफ रहता है। जो कि आपकी वेटलॉस के दौरान की जाने वाली तीसरी बड़ी गलती हो सकती है। वेट लॉस के दौरान हो सकता है आपके वेट पर कोई असर न पड़े लेकिन अगर आप अपने इंच लूज कर रहे हैं, तो भी आप सही दिशा में जा रहे हैं। आपको अपनी बॉडी में बदलाव देखने के लिए कम से कम 3 महीने का समय देना होगा। उदाहरण के लिए अगर आपका वजन कम नहीं हो रहा है लेकिन आपकी कमर और हिप के बीच 10 इंच का फर्क है तो आप सही दिशा में जा रहे हैं। ऐसे ही वेटलॉस जर्नी के दौरान शरीर में होने वाले छोटे-छोटे बदलावों का आनंद लें। 

खुद को दोषी ठहराना बंद करें-
कई बार व्यक्ति डाइट फॉलो करने के बाद भी जब अपना वजन कम नहीं कर पाता है तो खुद को ही दोषी ठहराकर अपना मनोबल कम करने लग जाता है। जो कि गलत है। ऐसा न करें। अपने शरीर में होने वाले परिवर्तनों को देखने के लिए कम से कम तीन महीने का समय लेना हमेशा एक अच्छा विचार होता है।

वजन कम करने की जल्दबाजी न करें-
एक वर्ष की अवधि में अपने शरीर के वजन का लगभग 10 प्रतिशत कम करना एक स्वस्थ और स्थायी वजन घटाने के रूप में माना जा सकता है। ऐसे में वजन कम करने में जल्दबाजी करते हुए कुछ शरीर को नुकसान पहुंचाने वाले विकल्प न चुने।

वेट लॉस को सजा के रूप में न देखें-
वेट लॉस के लिए लोग घंटों एक्सरसाइज करते हैं और कम खाते हैं। लेकिन यह गलत तरीका है। व्यायाम और आहार दोनों को साथ-साथ चलना चाहिए। सोशल मीडिया पर फिटनेस विशेषज्ञों के वजन घटाने और किन खाद्य पदार्थों से बचे और उपभोग करने के सलाह के चक्कर में न पड़े।