अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझी, सुपेला से ले जा कर सिमगा में कर दी थी हत्या,घटना में प्रयुक्त हथियार कुल्हाड़ी, डण्डा, चाकू, वाहन बरामद


 मृतक स्मृति नगर कालोनी में रहता था, किराये से म्यूजिक एलबम बनाने का करता था कार्य 

 स्मृति नगर क्षेत्र से मृतक को अर्टिका कार में उठाकर ले गये थे शातिर आरोपी

 सिमगा क्षेत्र के कचकोन गांव के नर्सरी में ले जाकर किये हत्या 

 हत्या के बाद साक्ष्य छुपाने के लिये शातिर आरोपियो ने मृतक के शव के करीब 10 से अधिक टुकडे़ कर अलग-अलग चार बोरों में डालकर शव को डिस्पोजल करने का किया प्रयास 

 लगातार 72 घण्टो से अधिक सुपेला थाना व स्मृति नगर चौकी की पुलिस टीम ने सिमगा में ही केम्प कर जारी रखा सर्च आपरेशन

दुर्ग ।

असल बात न्यूज़।।                          

                                               

   स्मृति नगर कालोनी से पिछले 07 अक्टूबर से लापता नीलेश डाहरे की हत्या कर दी गई थी और पुलिस ने अब इस घटना में शामिल कुछ आरोपियों को पकड़ लिया है।पता चला है कि निलेश को स्मृति नगर से अपहरण कर सिमगा ले जा कर हत्या कर दी गई।इस हत्या की घटना को बेहद वीभत्स तरीके से अंजाम दिया गया और हत्यारों ने मृतक के कई टुकड़े कर दिए और उसके अलग-अलग टूकड़ों का अलग-अलग जगह फेंक दिया।मृतक के शव के धड़ का भाग महासमुंद से करीब 150 कि.मी. दूर नेशनल हाईवे से लगे पहाड़ जंगल से बरामद कर लिया गया है। आरोपियों ने अन्य हिस्सो को अलग-अलग जगह नदी में फेंकना बताया है। इस दिल दहला देने वाली घटना के अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है। अभी 6 आरोपियों को हिरासत में लिया गया है। पुलिस ने घटना में प्रयुक्त हथियारो के अलावा दहशत गर्दी करने के लिये रखे हथियारो का जखीरा भी बरामद जिसमें नकली पिस्टल भी शामिल है।दुर्ग पुलिस ने इस दौरान सिमगा क्षेत्र के आदतन व कुख्यात आरोपी मोण्टू उर्फ अमरजीत के गैंग  पूरा सफाया कर दिया है।

   ज्ञात हो कि दिनांक 17.10.2022 को चौकी स्मृति नगर थान सुपेला में सूचक नितेश डाहिरे उपस्थित आकर सूचना दर्ज कराई थी कि इनका भाई नीलेश डाहरे जो कि स्मृति नगर कालोनी में रहता है। दिनांक 07.10.2022 से फोन रिसिव नही कर रहा है फोन बंद हो गया है। तब से अब तक कोई पता नही चला कि सूचना पर पुलिस ने गुम इंसान दर्ज कर पता तलाश शुरू किया सूचक ने बताया कि नीलेश म्यूजिशियन है एलबम वगैरह बनाता है। पुलिस ने पता तलाश के दौरान आस-पास के लोगो व नीलेश के साथी मित्रो से पूछताछ किया पर कुछ भी पता नही चल पा रहा था। गुम इंसान की एक्टीवा भी गायब थी। मामले में कुछ संदेह होने से थाना प्रभारी सुपेला निरीक्षक दुर्गेश शर्मा को अवगत कराया गया। मामले में किसी अप्रिय घटना घटित होने की आशंका पर थाना प्रभारी द्वारा तत्काल मामले को गंभीरता से लेते हुए टेक्नीकल साक्ष्यो का सहारा लिया। निलेश की काॅल डिटेल निकलवाने पर उसके अवलोकन पर काफी अजीब चीजें देखने को मिले। थाना प्रभारी द्वारा तत्काल इसकी सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई।                                                               

            पुलिस अधीक्षक  दुर्ग, श्री डाॅ. अभिषेक पल्लव के निर्देश पर एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर, श्री संजय ध्रुव तथा नगर पुलिस अधीक्षक भिलाई नगर, श्री निखिल राखेजा के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी के नेतृत्व में 8 सदस्यी थाना सुपेला, चैकी स्मृति नगर की संयुक्त टीम का गठन कर पता तलाश में लगाया गया। टीम के द्वारा सिमगा के ग्राम कचकोन में ही केम्प कर घटना से जुडे़ व सी.डी.आर. में मिले तथ्यो के आधार पर सूक्ष्म इन्वेंस्टीगेशन हुए, मामले से जुडे़ 6 संदेहियों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू किया सभी संदेही बहुत ज्यादा शातिर व अपराधिक प्रवृत्ति के लोग थे। पूरे क्षेत्र में इनके नाम का खौफ था। बहुत मशक्कत के बाद 6 में से 3 आरोपी टूट गये और नीलेश को भिलाई से अपहरण कर लाकर हत्या कर देना कबूल किया। आरोपियों ने घटना कबूल तो कर लिया था परन्तु आरोपियों ने जो घटना का स्वरूप पुलिस को बताया वो पुलिस टीम को पच नही रही थी और न ही आरोपियो के निशानदेही पर मृतक का शव अथवा हथियार था कोई भी साक्ष्य बरामद नही हो पा रहे थे। पुलिस टीम के हाथ अब भी पूरी तरह से खाली थे। इसी दौरान पुलिस टीम को मुखबीर से कुछ महत्वपूर्ण सूचना मिली जिसके आधार पर आरोपियों से पुनः पूछताछ किये जाने पर आरोपियों ने घटना कबूल किया और बताया कि नीलेश से उक्त सभी आरोपियों का दोस्ती था। जो अपने फरारी के समय भी नीलेश के पास आकर ठहरते थे। टीम में आरोपियों के निशानदेही पर मृतक के शव का धड़ का भाग महासमुंद से करीब 150 कि.मी. दूर नेशनल हाईवे से लगे पहाड़ जंगल से बरामद कर लिया है। अन्य हिस्सो को अलग-अलग जगह नदी में फेंकना बताये है। जिसकी तलाश अब भी जारी है। आरोपीगण द्वारा घटना में प्रयुक्त कुल्हाडी, चाकू, व डंडे आदि पुलिस ने बरामद कर लिये है। घटना में प्रयुक्त अर्टिका कार व मृतक की एक्टीवा भी आरोपीगण के कब्जे से बरामद कर लिया गया है। पुलिस टीम ने मामले में अब तक 06 मुख्य आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। कुछ संदेही की तलाश अब भी पुलिस कर रही है। जिन्हे जल्द ही पकड़ लिया जायेगा। मामले में आरती दंड संहिता की  धाराः- 302, 364, 201, 120बी, 147, 148, 342, 109 के तहत कार्रवाई की जा रही है।

         ज्ञात हो कि उक्त घटना में शामिल आरोपी मोण्टू व वरूण से मृतक नीलेश ने करीब 1,60,000 रूपये भी ले रखे थे साथ ही मोण्टू का एक एक्टीवा भी अपने पास रखा था, जो दे नही रहा था। जब भी ये एक्टीवा लेने जाते थे तो नीलेश पुलिस में रिपोर्ट करने की धमकी देता था। इसी बात से नाराज होकर मोण्टू, जो कि एक कुख्यात अपराधी है ने अपने गैंग के वरूण, भोजराम व अन्य के साथ मिलकर किराये की एक अर्टिका कार बुक कर भिलाई आकर मृतक नीलेश को दिनांक 07.10.2022 को अपहरण कर ग्राम कचकोन(सिमगा) में एक नर्सरी में ले जाकर मारपीट कर हत्या किये हत्या करने के बाद मनीष निवासी कचकोन के घर लाकर मृतक के शव के छोटे-छोटे टुकड़े कर उन्हे अलग-अलग चार बोरों में भर कर अलग-अलग स्थानो पर डिस्पोज कर दिये। आरोपीगण से पूछताछ उपरांत वैधानिक कार्यवाही करते हुए कुख्यात आरोपी जिनके विरूद्ध आस-पास क्षेत्र का कोई भी व्यक्ति कुछ भी बोलने से डरता है। इसने अपने जैसे ही एक अपराधियों की गैंग बना रखी है जो इसके जैसे ही कट्टर अपराधी है। आरोपियों के गैंग के कब्जे से अलग-अलग जगहो से 2 नग नकली पिस्टल, तलवार, चाकू, फरसा और कई अलग-अलग तरह के हथियार बरामद किये गये है। जो संभवतः ये लोगो को डराने धमकाने व अपराध करने में उपयोग करते थे। आरोपीगण के पूरे गैंग पकड़े जाने से आस-पास के ग्रामवासियों ने खुले शब्दो में भिलाई पुलिस की प्रशंसा की है तथा राहत की सांस ली है। 

  72 घण्टो तक लगातार संचालित इस आपरेशन में थाना प्रभारी सुपेला निरीक्षक दुर्गेश कुमार शर्मा के नेतृत्व में उप निरी. युवराज देशमुख, एल.एस. वर्मा, आरक्षक जुनैद सिद्दीकी, विकास तिवारी, तुषार, आशीष यादव, जयनारायण यादव की सराहनीय भूमिका रही है।    

                                                                                                                                                                        गिरफ्तार आरोपियों का नामः- (1) अमरजीत उर्फ मोण्टू पिता कृष्णा महेश्वरी 

(2) हरेन्द्र उर्फ फोकली पिता कृष्णा महेश्वरी 

(3) वरूण सोनकर पिता भगतराम सोनकर

(4) भोजराम निषाद पिता पुरूषोत्तम निषाद 

(5) मनीष राव गायकवाड़ पिता संतोष राव 

(6) भूपत साहू पिता गणेश साहू साकिनान कचकोन थाना सिमगा जिला- बलौदा बाजार। 








असल बात न्यूज़

सबसे तेज, सबसे विश्वसनीय 

 पल-पल की खबरों के साथ अपने आसपास की खबरों के लिए हम से जुड़े रहे , यहां एक क्लिक से हमसे जुड़ सकते हैं आप

https://chat.whatsapp.com/KeDmh31JN8oExuONg4QT8E

...............


असल बात न्यूज़

खबरों की तह तक,सबसे सटीक,सबसे विश्वसनीय

सबसे तेज खबर, सबसे पहले आप तक

मानवीय मूल्यों के लिए समर्पित पत्रकारिता