स्वरूपानंद महाविद्यालय में गणित एवं कम्प्यूटर परिषद् का गठन एवं व्याख्यान का आयोजन

 भिलाई ।

असल बात न्यूज़।।

स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय हुडको भिलाई में गणित एंव कम्प्यूटर विभाग परिषद् का गठन किया गया इस अवसर पर ‘‘कैरियर के अवसर वर्तमान और भविष्यवादी दृष्टिकोण’’ विषय पर अतिथि व्याख्यान का आयोजन किया गया।  मुख्य अतिथि एवं वक्ता के रूप में डॉ.मोनिका श्रीवास्तव ट्रैनिंग एवं प्लेसमेंट प्रमुख श्री शंकराचार्य कालेज आफ इंजीनियरिंग एण्ड टेक्नोलाजी जुनवानी भिलाई थी। 

कार्यक्रम के उद्धेश्यों पर प्रकाश डालते हुए श्रीमती रूपाली खर्चे विभागाध्यक्ष कम्प्यूटर साइंस ने कहा विद्यार्थियों में समस्या का समाधान करने का कौशल, प्रोग्रामिंग, प्रबंधन के साथ-साथ तकनीकी कौशल विकसित करना विद्यार्थियों को टीम वर्क में कार्य करने के लिये प्रोत्साहित करने का साथ-साथ उनमें नेतृत्व के गुणों को विकसित करना था। श्रीमती मीना मिश्रा विभागाध्यक्ष गणित ने अतिथि का स्वागत एवं परिचय दिया। 

महाविद्यालय के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ.दीपक शर्मा ने नवगठित परिषद् के सदस्यों को बधाई देते हुये कहा परिषद् गठन से विद्यार्थियों के मन में जिम्मेदारी की भावना आती है। वे अपने अधिकारों के साथ-साथ कर्तव्यों के प्रति सचेत होते है। प्राचार्य डॉ.हंसा शुक्ला ने विद्यार्थियों को दिवाली के दियों की तरह प्रज्जवलित रहने की शुभकामनाऐं दी व कहा समय का प्रबंधन करना जरूरी हैं। आप अपना समय बर्बाद न करें अपने तरीकें से समय का उपयोग करें। उन्होंने कहा अपने लक्ष्य तक पहुचंने के लिए समय प्रबंध के साथ कार्य करना होगा।  

अपने अतिथि वक्तव्य में डॉ.मोनिका श्रीवास्तव ने बताया हमें अपनी कमजोरियों व क्षमताओं के बारे में जानने की जरूरत हैं। लक्ष्य पाने के लिये एकाग्र होना जरूरी है। आप छः घण्टे तक पुस्तक खोल कर बैठे है पर आपका ध्यान मोबाइल या अन्य जगह है तो छः घण्टे पढ़ने का कोई मतलब नहीं हमें डिग्री के लिये नहीं अपितु नौकरी के लिये अपने में कौशल विकसित करना चाहिये अपने में जो कमजोरी है उसे पहचान अपनी ताकत बनाईये। अपने जीवन के लिये कुछ करना है तो दूसरों की नहीं अपितु अपने लिये कार्य करना चाहिये। समय किसी के लिये रुकता नहीं है। अगर आप फोन में ज्यादा समय देते है तो फोन को हटा दिजीये अभी हमारा समय कैरियर बनाने का है अतः अपने उद्देश्यों पर एकाग्र होना जरुरी है हम अपनी जिंदगी के ड्राइवर स्वयं है अगर कोई दूसरा कंट्रोल करता है तो एक्सीडेंट होना निश्चित है उन्होंने कहा एक साथ बहुत सारे काम न करें दूसरों को खुश करने के लिये अपना समय बर्बाद न करें ना बोलना सीखिए।

  प्राचार्य डॉ.हंसा शुक्ला ने नवगठित परिषद् के सदस्यों को शपथ दिलाई। नवगठित परिषद् के सदस्यों की सूची इस प्रकार है- 

कम्प्यूटर साईंस विभाग                          

अध्यक्ष - देवांश मिश्रा (एमएससी-प्रथम सेम.)  

उपाध्यक्ष - रविन्द्र मायुर  (एमएससी-प्रथम सेम.)

सचिव - सृष्टि तिवारी (बीसीए-तृतीय वर्ष)

कोषाध्यक्ष - श्रुति राय (बीसीए-तृतीय वर्ष)


पदाधिकारीगण

(1) अंश शर्मा (बीसीए-प्रथम वर्ष)

(2) प्राची शुक्ला (बीएससी-प्रथम वर्ष)

(3) ममता देवनाथ (बीसीए-द्वितीय वर्ष)

(4) पीयूष द्विवेदी (बीएससी-द्वितीय वर्ष)

(5) श्रेया कर (बीसीए-तृतीय वर्ष)

(6) गौरव चतुर्वेदी (बीएससी-तृतीय वर्ष)

(7) शिव कुमार पाण्डे (पीजीडीसीए)


गणित विभाग

अध्यक्ष - मधु पटवा (एमएससी-तृतीय सेम.)  

उपाध्यक्ष - डिम्पल देवांगन (एमएससी-प्रथम सेम.)

सचिव - के. हेमा (बीएससी-तृतीय वर्ष)

कोषाध्यक्ष - पूनम चौव्हान (एमएससी-तृतीय सेम.) 


पदाधिकारीगण

(1) दिशा (एमएससी-तृतीय सेम.) 

(2) गीतांजली (एमएससी-प्रथम सेम.) 

(3) देवदत्त (बीएससी-तृतीय वर्ष)

(4) सेानम  (बीएससी-द्वितीय वर्ष)

(5) फूलप्रीत (बीएससी-प्रथम वर्ष)

(6) लक्ष्मी राजपूत (बीएससी-प्रथम वर्ष)

मंच संचालन श्रीमती श्रीलता नायर स.प्रा. कम्प्यूटर साईंस एवं धन्यवाद प्रेमलता यादव स.प्रा. कम्प्यूटर साईंस ने दिया। कार्यक्रम को सफल बनाने में स.प्रा. कामिनी वर्मा, स.प्रा. लीना रावटे, स.प्रा. एकता पाण्डेय, स.प्रा. सुशांत भट्टाचार्य, स.प्रा. गीतांजलि का विशेष योगदान रहा। कार्यक्रम में कम्प्यूटर एवं गणित विभाग के समस्त प्राध्यापक एवं छात्र उपस्थित हुए।