अमलेश्वर हत्याकांड और लूट के मामले में पुलिस की कई एंगल से जांच शुरू

त्योहार के मौके पर ज्वेलरी दुकान संचालकों को कहीं सुनियोजित तरीके से तो निशाना नहीं बनाया जा रहा है ?


 पाटन, दुर्ग।

असल बात न्यूज़।।  

          00  FAST REPOR

      00  विशेष संवाददाता  

राजधानी रायपुर से सटे दुर्ग जिले के पाटन विकासखंड के अमलेश्वर गांव में एक ज्वेलरी संचालक पर सनसनीखेज तरीके से दिनदहाड़े जानलेवा खूनी हमला जिसमें बाद में उसकी मौत हो जाती है और लूट की घटना से हड़कंप मच गया है।इसकी गूंज राजधानी रायपुर तक सुनाई दे रही है।इस तरह से दिनदहाड़े अपराध को अंजाम देकर अपराधियों ने पुलिस को भी खुली चुनौती दी है। घटना के बाद पुलिस ने अपराधियों को पकड़ने चारों ओर कड़ी नाकेबंदी कर दी है। पता चला है कि उक्त संबंधित दुकान में और आसपास सीसीटीवी कैमरा लगा हुआ है जिससे पुलिस को कई सबूत मिले हैं और पुलिस ने उसके आधार पर अपने जांच की रफ्तार तेज कर दी है। यह हो सकता है कि अपराधियों के द्वारा त्यौहार के मौके पर ज्वेलरी दुकानों को सुनियोजित तरीके से निशाना बनाया जा रहा है। ज्वेलरी दुकान संचालकों के लिए यह चिंता का विषय हो सकता है।

दिनदहाड़े घटित  सनसनीखेज हत्याकांड दोपहर की लगभग एक बजे की घटना है। यह अमूमन लंच का टाइम होता है और ग्रामीण इलाकों में  इस समय दुकाने और सदके लगभग सुनी हो जाती हैं। समृद्धि ज्वेलर्स के संचालक श्री सोनी भी उस समय दुकान में अकेले थे। दुकान में घटना के समय उनसे और हमलावरों के बीच जमकर भिड़ंत होने के चिन्ह मिले  हैं।यह हाथापाई कॉफी देर तक चली हो सकती है क्योंकि दुकान में कई जगह खून के धब्बे मिले हैं। दुकान संचालक के बैठने वाली सीट पर भी रक्त के धब्बे मिले हैं। इससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि अपराधियों और दुकान संचालक के बीच काफी देर तक संघर्ष हुआ रहा होगा।

इस बिंदु पर गंभीरतापूर्वक जांच की जा रही है कि यह हत्या के उद्देश्य किया गया हमला है अथवा लूट की नियत से अपराध किया गया है। 

पता चला है कि सीसीटीवी कैमरे को खंगालने के बाद पुलिस को कई तथ्य मिल गए हैं। इस हत्याकांड में दो या दो से अधिक लोगों के शामिल होने की संभावना है। पुलिस को हत्या कांड से संबंधित जो फुटेज मिले हैं उसमें घटना के बाद दो व्यक्ति हाथों में बड़ा बड़ा झोला भर कर निकलते दिख रहे हैं। इससे बहुत कुछ अंदाजा लगाया जा रहा है कि  यह वारदात लूट के लिए अंजाम दी गई है। फुटेज देख कर लग रहा है कि लुटेरे अपराधी दुकान का सारा बेशकीमती सामान अपने झोले में भरकर ले गए हैं। फुटेज से यह भी समझ में आ रहा है कि ये अपराधी ग्रामीण इलाके के नहीं हैं वरन बाहर से आए हुए लोग हो सकते हैं। 

एक बात यह भी समझ में आ रही कि घटना के समय वहां एकदम सुनापन नहीं था बल्कि वाहनों की आवाजाही लगी हुई थी। दुकान के मुख्य मार्ग पर स्थित होने की वजह से घटना लगातार वाहनों की आवाजाही बनी हुई थी। जिस तरह के सबूत मिल रहे हैं उससे लग रहा है कि पुलिस जल्द से जल्द हत्यारों तक पहुंच सकती हैं। दोनों अपराधियों में से एक के पास काले रंग का और दूसरे के पास सफेद रंग का संभवत बड़ा कपड़े का बैग है। घटना में अपराधियों की जिस तरह से तैयारियां थी उसको देखकर इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि वे चार पहिया वाहन से वहां पहुंचे थे। और संभवत चार पहिया वाहन को उन्होंने उस दुकान के सामने खड़ी करने की जगह कहीं आसपास और खड़ी कर दिया था। 

पुलिस, दुकान संचालक के मोबाइल को भी चेक कर रही थी कि, उससे कब-कब किस से बात की गई है और क्या इससे भी कुछ सूत्र मिल सकते हैं।






असल बात न्यूज़

सबसे तेज, सबसे विश्वसनीय 

 पल-पल की खबरों के साथ अपने आसपास की खबरों के लिए हम से जुड़े रहे , यहां एक क्लिक से हमसे जुड़ सकते हैं आप

https://chat.whatsapp.com/KeDmh31JN8oExuONg4QT8E

...............


असल बात न्यूज़

खबरों की तह तक,सबसे सटीक,सबसे विश्वसनीय

सबसे तेज खबर, सबसे पहले आप तक

मानवीय मूल्यों के लिए समर्पित पत्रकारिता