शेयर मार्केट में म्यूचुअल फंड से अधिक रिटर्न दिलाने का झांसा देकर मेडिकल सर्जन से लाखों की ठगी, डायरेक्टर गिरफ्तार

 

ऑनलाइन निवेश के नाम पर ठगी करने वाले को राज्य साइबर पुलिस थाना ने किया गिरफ्तार

रायपुर ।

असल बात न्यूज़।। 

शेयर मार्केट में ऑनलाईन निवेश के नाम पर ठगी करने वाली कंपनी के पूर्व में गिरफ्तार डायरेक्टर के सहयोगी को भी आज गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपी   स्वंय को सिंगापुर की एक फाइनेंसियल कंपनी, जिसकी भारत में भी एक शाखा है, का आर्थिक विश्लेषक (फाइनेंसियल एनालिस्ट) बताकर हाटसएप्प के माध्यम से दोस्ती करते थे एवं ट्रेडिंग एकाउंट खोलने का लिंक पर म्युचुअल फण्ड से ज्यादा रिर्टन का भरोसा दिलाकर इन्वेस्टमेंट करने को तैयार करते थे। आरोपियों ने ऐसे ही जिंदल एवं फोर्टिस हॉस्पटल रायगढ़ पतरापाली में कार्यरत जनरल सर्जन रायगढ़ निवासी संजीव पुरकालस्थ के साथ लगभग 87 लाख रुपए की ठगी की। पीड़ित ने पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई थी जिसके बाद कार्रवाई की जा रही है। दुनिया भर में किस तरह से साइबर क्राइम बढ़ता जा रहा है उसका इस मामले से भी पता चलता है। आरोपी को केरल से पकड़ कर लाया गया है। आरोपी इतने चलाते की अपनी कंपनी के डायरेक्टर को बार-बार बदल देते थे। इस धोखाधड़ी के मामले में विदेशी लिंक होने की जानकारी सामने आ रही है। पुलिस विदेशी नागरिक और अन्य आरोपियों की तलाश कर रही है।

पीड़ित के द्वारा अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक तकनीकी सेवायें के समक्ष प्रस्तुत होकर शिकायत की गई, जिस पर संज्ञान लेते हुये  राज्य साइबर पुलिस थाना में  धारा 420 भादवि एवं 66(डी) सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम 2000 के तहत अपराध पंजीबद्ध किया गया।

पुलिस महानिदेशक श्री अशोक जुनेजा के निर्देशन में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक तकनीकी सेवायें श्री प्रदीप गुप्ता के मार्गदर्शन एंव सहायक पुलिस महानिरीक्षक श्री मनीष शर्मा के पर्यवेक्षण में ऑनलाइन ठगी में प्रभावी कार्यवाही हेतु राज्य साइबर पुलिस थाना की टीम गठित की गई, जिसपर प्रकरण में एनालिसिस कर प्राप्त साक्ष्यों के आधार पर टीम को मामले की विवेचना हेतु दीगर राज्य महाराष्ट्र एवं केरला रवाना किया गया।


पुलिस की विवेचना  में यह पता चला कि क्रिएटीवक्रू टेक्नालाजी प्राईवेट लिमिटेड कंपनी के साथ ही अन्य कई कंपनी ठगी के उद्देश्य से खोली गई जो कि ROC मे रजिस्टर्ड करायी गई थी। रजिस्ट्रार ऑफ कंपनी से जानकारी प्राप्त करने पर इस तरह की अन्य कई कंपनियों की जानकारी प्राप्त हुई।इसमें  एमएचए द्वारा पूर्व में उपरोक्त कंपनियों पर कार्यवाही हेतु रजिस्ट्रार आफ कंपनी को निर्देशित किया गया था।

 गिरफ्तार कंपनी के डायरेक्टर मोहसिन एन द्वारा बताया गया कि उसने अपने साथी निजामुददीन ए.बी. उर्फ निजाम के साथ मिलकर क्रिएटीवक्रू टेक्नालॉजी प्राइवेट लिमिटेड व अन्य कंपनी को साथियों के साथ मिलकर रजिस्टर करवाया था। निजामुददीन ए.बी. उर्फ निजाम के द्वारा फेक कंपनी के डायरेक्टर को विदेशी नागरिक के कहने पर समय समय पर बदला जाता था जिससे डायरेक्टर के संबंध में पुलिस को जानकारी ना हो। दस्तावेज के आधार पर आरोपी द्वारा विभिन्न तिथियों को जिन खाता नंबरों में सम्पूर्ण धोखाधड़ी की राशि जमा कराई गई थी उक्त संबंध में आरोपी (निजामुददीन ए.बी. उर्फ निजाम) को कड़ाई से पूछताछ करने पर अपना जुर्म कबूल किया गया बाद जिसे बदनापल्ली जिला थ्रिसुर केरल से गिरफ्तार कर रायपुर लाया गया। अपराध में संलिप्त विदेशी नागरिक व अन्य आरोपियों के संबंध में पतासाजी जारी है। 

इस प्रकरण में राज्य सायबर पुलिस थाना उप पुलिस अधीक्षक निशीथ अग्रवाल, प्रधान आरक्षक संदीप झा नरेन्द्र कुमार, आरक्षक भुनेश्वर साहू महिला आरक्षक सविना बानो महत्वपूर्ण भूमिका रही।