दिल का दौरा पड़ने पर बचाई जा सकेगी ग्रामीणों की भी जान , सिखाई जाएगी सिखाई जाएगी कार्डियो पल्मोनरी रेस्कसीटेशन (सी पीआर) स्किल

 

पाटन, दुर्ग।

असल बात न्यूज़ ।। 

दिल का दौरा पड़ने पर पीड़ित को तत्काल प्राथमिक उपचार मिल जाए तो उसकी जान बचाई जा सकती है। बहुत लोगों के लिए दिल का दौरा  इसलिए खतरनाक हो जाता है क्योंकि उन्हें तत्काल प्राथमिक उपचार नहीं मिल पाता। दिल का दौरा पड़ने पर ग्रामीणों की भी जान बचाने के लिए अब उन्हें जागरूक किया जा रहा है।इसके लिए विभिन्न समाजसेवी संस्थाओं और छात्र छात्राओं को कार्डियो पल्मोनरी रेस्कसीटेशन (सी पीआर) स्किल सिखाई जाएगी।

विश्व हृदय दिवस के अवसर पर यहां पाटन विकासखंड के ग्राम भरर में जिला स्तरीय जन समस्या निवारण शिविर का आयोजन किया गया जिसमें हृदय रोग से संबंधित विषय पर बातें की गई। दिल की बीमारियों से संबंधित विषय पर चर्चा हुई तो वही उनका निदान किस तरह से किया जा सकता है इस पर भी चिकित्सा विशेषज्ञ ने जानकारियां दी।  इस अवसर पर  श्री अशोक साहू जिला पंचायत उपाध्यक्ष श्री पुष्पेंद्र कुमार मीणा कलेक्टर दुर्ग ,श्री अश्वनी देवांगन मुख्यकार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत दुर्ग,श्री विपुल गुप्ता एस डी एम पाटन ,श्री मुकेश कोठारी सीईओ जनपद पंचायत पाटन , जनपद पंचायत सदस्यगण ,डॉ आशीष शर्मा बीएमओ पाटन  उपस्थित थे। कार्यक्रम में विश्व हृदय दिवस ब्रोशर एवं बैज का विमोचन भी किया गया।

बीएमओ पाटन ने जानकारी दी कि दिल की बीमारियों से सचेत करने समुदाय में स्वास्थ्य विभाग के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों एवं हेल्थ एंड वेलनेस सेन्टर्स के अधिकारी कर्मचारी  हृदय रोग से बचाव सबंधी स्वस्थ जीवन शैली,स्वस्थ खानपान, व्यायाम आदि से संबंधित स्वास्थ्य जागरूकता करेंगे।30वर्ष से अधिक आयु वर्गों का ब्लड प्रेशर एवं ब्लड शुगर की निःशुल्क जांच की जाएगी। किशोर एवं किशोरियों में जंक फ़ूड से स्वास्थ्य हानि से संबंधित स्वास्थ्य जागरूकता करेंगे। 

ह्रदय रोग के लक्षण, जांच, उपचार आदि से संबंधित प्रचार प्रसार ,मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक में जांच ,उपचार की गतिविधियां संचालित होंगी।

वही अभी जानकारी दी गई थी कि हृदय रोग से बचाव के लिए राजीव मितान क्लब, रेडक्रास,कॉलेज एवं स्कूलों  के छात्र छात्राओं आदि को कार्डियो पल्मोनरी रेस्कसीटेशन (सी पीआर) स्किल सिखाई जाएगी जिससे आपातकालीन स्थितियों में जीवन रक्षा हेतु उपयोगी होगा। इस अवसर पर डॉ मंजूषा मेडिसिन विशेषज्ञ, डॉ अरुण कटारे, डॉ देशलहरा ,बीईटीओ बी एल वर्मा, चन्द्रकान्ता साहू एवं स्वास्थ्य विभाग एवं अन्य विभागों के अधिकारी कर्मचारी एवं ग्रामीण जन उपस्थित थे।