8वीं से 12वीं कक्षा के दोनों टर्म की परीक्षा का सिलेबस तय, जानें कब होंगे एग्जाम


 

रांची. आठवीं से 12वीं बोर्ड परीक्षा लेने की तैयारी झारखंड सरकार ने शुरू कर दी है। झारखंड शैक्षिक अनुसंधान व प्रशिक्षण परिषद (जेसीईआरटी) ने दोनों टर्म का सिलेबस तैयार कर लिया है। नवंबर-दिसंबर में पहले टर्म की परीक्षा होगी, जबकि मार्च-अप्रैल 2023 में दूसरे टर्म की वार्षिक परीक्षा होगी।

जेसीईआरटी ने दोनों टर्म के सिलेबस गुरुवार को झारखंड एकेडमिक काउंसिल (जैक) को भेज दिया है। जैक अब मॉडल प्रश्नपत्र जारी करने से लेकर परीक्षा के प्रश्नपत्र तैयार करने और परीक्षा लेने की कार्रवाई करेगा। पहले टर्म में ऑब्जेक्टिव प्रश्न होंगे। ओएमआर शीट पर छात्र-छात्राओं को प्रश्नपत्रों को हल करना होगा। इसके लिए उन्हें हर प्रश्न के चार-चार विकल्प भी दिए जाएंगे। वहीं, दूसरे टर्म की परीक्षा में सब्जेक्टिव सवाल पूछे जाएंगे। दोनों ही टर्म में आधे-आधे सवाल पूछे जाएंगे। पहले टर्म के निर्धारित सिलेबस से दूसरे टर्म में प्रश्न नहीं पूछे जाएंगे। साइंस-वाणिज्य छोड़ किसी पेपर के 100 अंक के प्रश्नपत्र में 40 अंक के पहले टर्म में ऑब्जेक्टिव प्रश्न और 40 अंक के दूसरे टर्म में सब्जेक्टिव सवाल होंगे। दोनों ही टर्म में 10-10 अंक स्कूल में असेसमेंट के आधार पर दिए जाएंगे। झारखंड में दो जुलाई से 2022-23 का शैक्षणिक सत्र शुरू हुआ है। वहीं, 14 जुलाई तक नौवीं-11वीं की वार्षिक परीक्षाएं ली गई। और इसका रिजल्ट अगस्त के अंतिम सप्ताह में आया है।

हालांकि संबंधित छात्र-छात्रा अगली क्लास की पढ़ाई पिछले डेढ़ महीने से कर रहे हैं। अब इनके पहले टर्म की परीक्षा दशहरा, दीपावली-छठ पूजा के बाद नवंबर-दिसंबर में आयोजित की जाएगी।

2022 का रिजल्ट
आठवीं 90.33 प्रतिशत
नौवीं 92.27 प्रतिशत
10वीं 95.60 प्रतिशत
11वीं 93.07 प्रतिशत
12वीं साइंस 91.19 प्रतिशत कॉमर्स 92.75 प्रतिशत आर्ट्स 97.43 प्रतिशत

तीन से पांच मॉडल पेपर होंगे जारी
झारखंड एकेडमिक काउंसिल 10वीं और 12वीं की परीक्षा के लिए पांच-पांच सेट में मॉडल प्रश्न पत्र जारी करेगा। वहीं, आठवीं, नौवीं और 11वीं के तीन-तीन सेट में मॉडल प्रश्न पत्र जारी किए जाएंगे। मॉडल प्रश्नपत्र के आधार पर ही परीक्षा में प्रश्न पूछे जाएंगे। दो साल बाद पूरे सिलेबस की स्कूलों में पढ़ाई हो रही है। कोविड के कारण स्कूल बंद रहने की स्थिति में 2020 में सिलेबस में 40 फीसदी और 20021 में 25 फीसदी की कटौती की गई थी।

2022 की परीक्षा से बदला पैटर्न
2022 में हुई आठवीं से 12वीं तक की परीक्षा का पैटर्न बदला गया है। कोविड की वजह से सीबीएसई की तर्ज पर जैक बोर्ड भी परीक्षा ले रहा है। पहले स्कूल स्तर पर तीन महीने, छह महीने और सेंटप परीक्षा का आयोजन होता था। इसके बाद बोर्ड सीधे वार्षिक परीक्षा लेता था, लेकिन अब परीक्षाएं दो टर्म में हो रही है। इसमें आधे सिलेबस के आधार पर पहले टर्म की परीक्षा और आधे सिलेबस के आधार पर दूसरे टर्म की परीक्षा होगी।