दो साल में झारखंड में डायन-बिसाही के आरोप में 38 लोगों को मौत

 


 झारखंड में डायन-बिसाही और उससे होने वाली मौत के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं. हाल ही में राजधानी रांची के सोनाहातू में तीन महिलाओं (राइलू देवी, ढोली देवी और आलोमनी देवी) की पत्थर से कूचकर हत्या कर दी गयी थी. इसके बाद गढ़वा जिला में एक महिला और उसके पति को डायन बताकर उस पर लाठी-डंडों से मार-मारकर अधमरा कर दिया. दंपती की शिकायत पर भवनाथपुर थाना की पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया.

महज दो साल में झारखंड में डायन-बिसाही के आरोप में 38 लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया. वर्ष 2021 में 21 लोगों की हत्या कर दी गयी, जबकि वर्ष 2022 में 7 महीने में (जुलाई तक) 17 लोगों को डायन-बिसाही या जादू-टोना के मामले में मौत के घाट उतार दिया गया. ये झारखंड पुलिस के आंकड़े हैं. हालांकि, नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के आंकड़े कुछ और कहते हैं.

वर्ष 2022 में वर्ष 2021 के आंकड़े एनसीआरबी ने जारी किये, जिसमें बताया गया है कि झारखंड में व्यक्तिगत लाभ के लिए 480 लोगों की हत्या की गयी, जबकि व्यक्तिगत दुश्मनी या बदले की भावना से 220 लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया. दहेज हत्या के 42 मामले सामने आये. वहीं डायन-बिसाही या जादू-टोना मामले में 3 लोगों की हत्या की गयी. हालांकि, राज्य पुलिस के आंकड़ों में इस मामले में मरने वालों की संख्या 21 रही.

डायन-बिसाही मामले में सबसे ज्यादा मौतें छत्तीसगढ़ में हुईं. यहां 20 लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया. मध्यप्रदेश में 18, आंध्रप्रदेश में 6, बिहार में 4, गुजरात में 2, ओड़िशा में 2, राजस्थान में 1, तेलंगाना में 11, उत्तर प्रदेश में 1 हत्या जादू-टोना की वजह से हुई. इस तरह एक साल में 68 लोगों को डायन-बिसाही मामले में मार दिया गया. केंद्रशासित प्रदेशों में ऐसी कोई घटना सामने नहीं आयी.

झारखंड में वर्ष 2022 के 7 महीने में 17 लोगों को मार डाला गया. झारखंड पुलिस के आंकड़ों पर गौर करेंगे, तो पायेंगे कि सिर्फ जुलाई में 7 लोगों को मार डाला गया. राजधानी रांची में 1, उपराजधानी दुमका में 1, जामताड़ा में 1, गुमला में 1, सिमडेगा में 1, खरसावां में 1 और गढ़वा में 1 व्यक्ति की हत्या डायन-बिसाही के शक में कर दी गयी.

मार्च, अप्रैल और मई में ऐसी कोई घटना नहीं हुई. जनवरी में कुल 4 लोगों को मार डाला गया. ये घटनाएं गिरिडीह, खूंटी, गुमला और पश्चिमी सिंहभूम में हुईं. फरवरी के महीने में सिर्फ लातेहार में डायन-बिसाही के शक में एक व्यक्ति को मौत के घाट उतार दिया गया. जून में 5 लोगों को मार डाला गया. ये घटनाएं दुमका, लोहरदगा, लातेहार और गढ़वा में हुईं. दुमका में 2 लोगों की हत्या कर दी गयी

वर्ष 2021 में एक साल में 21 लोगों को मार डाला गया. सबसे ज्यादा 5 हत्याएं मार्च में हुईं. जुलाई और सितंबर में 3-3 लोगों की हत्या हुई, जबकि फरवरी, मई, अगस्त और नवंबर में 2-2 लोगों को मौत के घाट उतार डाला गया. फरवरी में गुमला और लातेहार में जादू-टोना के शक में एक-एक व्यक्ति की हत्या हुई, जबकि मार्च में रांची, दुमका, साहिबगंज, पाकुड़ और पश्चिमी सिंहभूम में कुल 5 लोगों की मौत हुई.

मई में गिरिडीह और खूंटी में एक-एक व्यक्ति की हत्या की गयी, जबकि जून में सिर्फ गढ़वा में ऐसी एक घटना सामने आयी. जुलाई में पाकुड़, खूंटी और गुमला में ऐसी एक-एक घटना हुई. अगस्त में लोहरदगा और हजारीबाग में 1-1 वारदात हुई, जबकि सितंबर में तीन घटनाएं हुईं. खूंटी में 2 और गुमला में एक व्यक्ति की हत्या कर दी गयी. नवंबर में रांची और खूंटी में ऐसी घटनाएं हुईं, जबकि दिसंबर में हजारीबाग में एक व्यक्ति की हत्या करदी गयी. अप्रैल और अक्टूबर में डायन-बिसाही माले में राज्य में हत्या की कोई घटना नहीं हुई.

डायन-बिसाही, ओझा-गुणी, तंत्र-मंत्र, टोना-टोटका के नाम पर देश के अलग-अलग हिस्सों में लोगों को मार डाला जाता है. झारखंड में भी ऐसी घटनाएं होती हैं. हत्या की मूल वजह कुछ और होती है, लेकिन उसे डायन-बिसाही या जादू-टोना का नाम दे दिया जाता है. सर्पदंश, बीमारी व अन्य कारणों से होने वाली मौतों के कारण अंधविश्वास में फंसकर अपराधी न बनें. किसी के साथ मार-पिटाई न करें. हत्यारा न बनें. सर्पदंश या बीमारी का इलाज डॉक्टर कर सकते हैं. सरकारी अस्पतालों में डॉक्टर मुफ्त इलाज करते हैं. वहां जायें. अपराध करने से बचें.