श्रीकांत त्यागी को एना अग्रवाल का तगड़ा जवाब, जाति पर भी बोलीं

 


 नोएडा. श्रीकांत त्यागी की गाली और धमकियों का शिकार बनीं एना अग्रवाल ने कहा है कि उन्हें अब बहन कह देने से काम नहीं चलेगा। किसी का मर्डर कर दो और सॉरी कह दो, यह नहीं चलेगा। उन्होंने कहा कि श्रीकांत को उसके किए की सजा मिल रही है। जाति को लेकर हो रही राजनीति पर भी एना ने कहा कि ऐसा नहीं है कि सभी त्यागी बुरे होते हैं या सब अग्रवाल बहुत अच्छे होते हैं। एना ने पीएम मोदी और सीएम योगी की तारीफ करते हुए कहा कि पूरी दुनिया उनके साथ खड़ी रही। 

एना ने एक वीडियो जारी करते हुए कहा, ''75वें स्वतंत्रता दिवस की सभी को शुभमकामानएं। भारत को अंग्रेजों से 75 साल पहले आजादी मिली। हम ग्रैंड ओमैक्स में सभी गुंडाराज से मुक्ति चाहते हैं। मेरे साथ जो हुआ वह सभी ने वीडियो में देखा, मेरे साथ बुरा हुआ, लेकिन जिसने किया उसे सजा मिल रही है। मुझे बहन कहना और सॉरी कहने से काम नहीं चलेगा। अंग्रेज चले गए और सॉरी छोड़ गए। आप किसी का मर्डर कर दोगे और सॉरी कह दोगे, इससे मदद नहीं मिलेगी।''

एना ने श्रीकांत से कहा, ''तुमने जो किया वह गलत था और इसकी सजा मिल रही है। तुम जेल में हैं, जो अवैध निर्माण किया था, वह टूट गया है। जो पाप तुमने किया, उसके लिए तुम्हारा परिवार भुगत रहा है। तुमने कहा था कि मैं कुछ भी कर दूंगा, तुम्हारे लिए कोई खड़ा नहीं होगा। पूरी सोसायटी मेरे लिए खड़ी थी, पूरी दुनिया मेरे साथ है।'' 

जाति से नहीं है कोई लेना देना: एना
एना ने अपील की कि इस मुद्दे पर राजनीति नहीं की जाए और इसे जातियों से ना जोड़ा जाए। उन्होंने कहा, ''कृपया इसे राजनीति का मुद्दा ना बनाएं। यह जाति, वर्ग या किसी संस्कृति से नहीं जुड़ा है, बल्कि व्यक्ति का मामला है। ऐसा नहीं है कि सभी त्यागी खराब होते हैं, या सब अग्रवाल, बनिए बहुत अच्छे होते हैं, ऐसा नहीं है। ऐसा नहीं है कि सभी बीजेपी वाले खराब हैं, मैं नहीं जानती कि वह बीजेपी से थे या नहीं, लेकिन पूरी सोसायटी में डर बना रखा था कि हम बीजेपी से हैं। मैं मोदी जी और योगी जी पर विश्वास करती हूं, उन्होंने देश के लिए बहुत अच्छा किया है और करेंगे। कृपया बीजेपी या त्यागियों को दोष ना दें, सभी त्यागी बुरे नहीं होते हैं। केवल वह बुरा है। ऐसा नहीं है कि अनपढ़ हैं, किसान हैं तो उन्हें तमीज नहीं है, ऐसा नहीं है। छोटे-छोटे रिक्शे, ठेले वाले होते हैं, वह महिलाओं का सम्मान करते हैं, ऐसा नहीं है कि पैसा आने पर तमीज आ जाती है। बहुत बहुत अमीर लोग होते हैं, जिन्हें महिला या वरिष्ठ से बात करना नहीं आता है। मेरी कई सहेलिया मिलने आईं जो त्यागी हैं।''