स्वरूपानंद महाविद्यालय के एनएसएस स्वयंसेवियों ने आज़ादी का अमृत उत्सव 'आईकॉनिक वीक' का किया भव्य समापन

 भिलाई ।

असल बात न्यूज़।।

भारत सरकार, युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय, युवा कार्यक्रम विभाग रासेयो क्षेत्रीय निदेशालय मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ द्वारा प्रस्तावित तथा हेमचंद यादव विश्वविद्यालय द्वारा निर्देशित 8  से 14 अगस्त , 2022  तक चलने वाले आज़ादी के अमृत महोत्सव 'आईकॉनिक वीक' का  स्वरूपानंद महाविद्यालय के एनएसएस स्वयंसेवकों ने  भव्य समापन किया। इसके अंतर्गत प्रस्तावित विशिष्ट कार्यों का सफलतापूर्वक क्रियान्वयन किया गया। 

 एनएसएस नोडल अधिकारी श्रीमती संयुक्ता पाढ़ी  ने बताया  कि  ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के तहत ‘आइकॉनिक वीक’  एक भव्य उत्सव है , जो स्वतंत्रता संग्राम के मूल्यों और गौरव के साथ नए और प्रतिष्ठित भारत की आकांक्षाओं और सपनों को प्रदर्शित करेगा, जिसमे  ‘जन भागीदारी और जन आंदोलन’ की समग्र भावना के तहत सभी युवाओं एवं विद्याथियों की भागीदारी होगी। 

कार्यक्रम प्रभारी डॉ मंजू कनौजिया ने बताया कि इन व्यापक संपर्क कार्यकलापों के माध्यम से ‘नए भारत’ की अद्भुत यात्रा को दर्शाया गया   और स्वतंत्रता संग्राम के ‘गुमनाम नायकों’ सहित स्वतंत्रता सेनानियों के बहुमूल्य योगदान का पुनर्स्मरण किया गया । 

स्वयंसेवियों ने भारत सरकार द्वारा प्रस्तावित ग्राम गौरव गाथा का आयोजन किया जिसमे जिला- दुर्ग के ग्राम उमरपोटी में स्वयंसेवियों तथा ग्राम पंचों द्वारा अनेक गुमनाम स्वतंत्रता सेनानी जैसे वीर सुरजी , चन्द्रिका प्रसाद पांडेय, श्री विजय राम नायक, श्री रघुनन्दन प्रसाद इत्यादि के बलिदानो के योगदान का बखान किया गया।  इसका मुख्य उद्देश्य ग्राम से संबंधित विभूतियों के अविराम संघर्ष से ग्राम की पहचान स्थापित करना ,उनके सफल एवं अनुकरणीय कार्यों की जानकारी एकत्रित करना एवं गांव के विकास एवं कल्याण से जोड़ना ,उनकी भागीदारी सुनिश्चित करना तथा ग्रामों में बंधुत्व की भावना जागृत करना है। 

 स्वयंसेवियों ने हर घर झंडा मुहीम में अपनी सक्रिय भागीदरी दी, गली मोहल्लों में मुफ्त झंडे बांटे तथा अधिक से अधिक लोगों को इस मुहीम से जोड़ा।  

इन सभी कार्यों के साथ जिस कर्मठता से एनएसएस स्वयंसेवी स्वछता अभियान से जुड़े हुए रहे , वह अत्यंत प्रशंसनीय है इसके तहत रेलवे स्टेशन  ,बस स्टैंड, महापुरुषों की प्रतिमा, पेट्रोल पंप तथा विभिन्न सार्वजनिक स्थानों पर सफाई कार्यों से जुड़कर सभी के समक्ष एक उदाहरण प्रस्तुत किया। 

 'आईकॉनिक वीक' के अंतिम दिन स्वयंसेवियों ने 'विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस मनाया' तथा भारतवर्ष के बंटवारे के दुखद दिनों को पॉवरपॉइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से सबको अवगत कराया तथा शाम को एसएसबी कार्यालय, रिसाली में सांस्कृतिक कार्यक्रम में भाग लिया। भारत माता की आरती तथा देशभक्ति गीत से पूरा वातावरण गूँज उठा ,उनके कार्यों की प्रशंसा हुई तथा उन्हें स्मृति चिन्ह प्रदान किया गया।  

प्राचार्य डॉ हंसा शुक्ला ने बताया कि एनएसएस स्वयंसेवकों द्वारा  'आईकॉनिक वीक'  मनाया जाना निश्चित ही एक सराहनीय कदम है। आज़ादी के अमृत महोत्सव पर वर्त्तमान पीढ़ी का जागरूक होना ,स्वच्छ भारत, स्वस्थ भारत, तथा आत्मनिर्भर भारत के लिए दृढ़संकल्प होना ही भारत को विश्व गुरु बनाएग। 

मुख्य कार्यकारिणी अधिकारी डॉ दीपक शर्मा ने कहा कि ऐसे रचनात्मक एवं सकारात्मक कार्य समाज के लिए महत्वपूर्ण है। जन -कल्याण से सम्बंधित ये कार्य युवा पीढ़ी को प्रबुद्ध करेंगे और देशभक्ति की भावना जगाएंगे ।

 

आज़ादी के अमृत उत्सव 'आईकॉनिक वीक' के इस भव्य समापन पर एनएसएस स्वयंसेवियों को  स्वरूपानंद महाविद्यालय परिवार ने उनके स्वर्णिम भविष्य की कामना करते हुए बधाइयाँ दी ।