मानव तस्करी का वांटेड रोहित खेरवार रांची रेलवे स्टेशन से गिरफ्तार

 


 गुमला जिला के अहतू थाना की पुलिस ने मानव तस्कर को गिरफ्तार करने में सफल रही. पुलिस ने रांची के रेलवे स्टेशन से मानव तस्कर को गिरफ्तार किया है. अभी आरोपी से पुलिस पूछताछ की है. उसने कई महत्वपूर्ण जानकारी दी है. जिसपर पुलिस जांच करते हुए कार्रवाई कर रही है. आरोपी खूंटी जिला के खूंटीटोली निवासी मानव तस्कर रोहित खेरवार है. रोहित ने कई नाबालिग लड़कियों को दिल्ली में ले जाकर बेचा है.

नाबालिग को बेचने का है आरोप

उसके खिलाफ गुमला, खूंटी व दिल्ली में मानव तस्करी को लेकर कई अपराधिक मामले दर्ज है. झारखंड के अलावा दिल्ली की पुलिस रोहित की तलाश कर रही थी. परंतु वह पुलिस के हाथ नहीं लग रहा था. साथ ही ठग फुसलाकर नाबालिग लड़कियों को दिल्ली में ले जाकर बेचने का काम वह चोरी-छिपे करता रहता था. थाना प्रभारी आकाश पांडे ने बताया कि रोहित खेरवार के खिलाफ गुमला अहतू थाना में कांड संख्या 27/17 दर्ज था. वह नाबालिग को दिल्ली में बेचने का प्राथमिक अभियुक्त है.

दिल्ली जाने की थी तैयारी

पुलिस को गुप्त सूचना मिली कि रोहित रांची रेलवे स्टेशन के समीप है. वह दिल्ली जाने वाला है. इस सूचना गुमला पुलिस, आरपीएफ व टीटीइ ने समन्वय स्थापित किया. इसके बाद रांची रेलवे स्टेशन से रोहित को धर दबोचा. श्री पांडे ने बताया कि आरोपी रोहित खेरवार से पूछताछ की गयी है. पूछताछ के बाद उसे जेल भेज दिया गया. आरोपी खूंटी, सिमडेगा एवं गुमला के बच्चों को अपना शिकार बनाकर दिल्ली में बेचने का काम करता था. उसके विरुद्ध गुमला, खूंटी एवं दिल्ली में कई अपराधिक मामले दर्ज है.

दो राज्यों की पुलिस कर रही थी रोहित की तलाश

रोहित को झारखंड व दिल्ली दो राज्यों की पुलिस खोज रही थी. परंतु अक्सर वह ग्रामीण वेशभूषा में रहने के कारण बच जाता था और पुलिस के हाथ नहीं लगता था. परंतु, बुधवार को योजनाबद्ध तरीके से गुमला पुलिस ने रेलवे पुलिस व टीटीइ से तालमेल स्थापित कर रोहित को पकड़ा है.

नाबालिग की उम्र ज्यादा दिखा दिल्ली में बेचा

रोहित ने बताया कि दिल्ली में नाबालिग लड़कियों की उम्र 18 वर्ष से अधिक दिखाकर प्लेसमेंट एजेंसी या किसी घर में काम करने के लिए बेचा जाता है. इसके लिए लड़कियों के आधार कार्ड फर्जी बनाया जाता है. आधार कार्ड में लड़कियों का उम्र अधिक दिखाया जाता है. बताया जाता है कि दिल्ली से मुक्त हुई कई लड़कियों ने इसका खुलासा कर चुकी है. यहां तक कि मानव तस्कर ने भी इस बात की जानकारी दी है कि नाबालिग लड़कियों को रिश्तेदार बताकर दिल्ली ले जाते हैं. इसके बाद आधार कार्ड में अधिक उम्र दिखाकर उसे बेचा जाता है. बताया जा रहा है कि एक लड़की की कीमत 20 हजार रुपये होती है.